बीमा बाजार में नेपाल लाइफ ने खुद को अव्वल साबित किया है

कहा जाता है कि नेपाल में बीमा के बारे में बहुत कम लोग जानकार हैं । लेकिन आज बीमा कम्पनियों की संख्या इस तरह बढ़ रही है कि उल्लेखित कथन में विश्वास करना मुश्किल हो जाता है । प्रायः सभी बीमा कम्पनी मुनाफा आर्जन में सफल भी हो रही है । बीमित लोगों को अपनी क्षमता के अनुसार प्रतिफल भी दे रहे हैं । बीमित को उच्च प्रतिफल देनेवाले और बीमा कम्पनियों की जगत में अव्वल मानेजानेवाला कम्पनी है– नेपाल लाइफ इन्स्योरेन्स । कम्पनी की कुल पूँजी, दावी–भुक्तानी में सुलभता, शेयर क्यापिटल, पुंजी निमेष, शाखा संजाल जैसे हर दृष्टिकोण से नेपाल लाइफ को अव्वल माना जाता है । ६८ जिला में इसकी शाखा सञ्जाल है, ३ सौ से अधिक कर्मचारियों ने इस कम्पनी में प्रत्यक्ष रोजगारी पाया है । देशभर १२ हजार से ज्यादा एजेन्सी हैं, १५ लाख से ज्यादा लोग नेपाल लाइफ से लाभान्वित हो रहे हैं । इस तरह सफल कम्पनी का नेतृत्व कर रहे हैं– विवेक झा । नेपाल लाइफ के वही प्रमुख कार्यकारी अधिकृत (सिईओ) झा के साथ लिलानाथ गौतम ने बीमा बजार और नेपाल लाइफ इन्स्योरेन्स के बारे में बातचीत किया है, प्रस्तुत है– बातचीत का सम्पादित अंश–
० आज नेपाल लाइफ समग्र बीमा कम्पनियों में से सबसे अग्रस्थान में है । कम्पनी को इस उँचाई में पहुँचाने के लिए आपने क्या किया ?
– हर कम्पनी अपना लक्ष्य तथा उद्देश्य निर्धारित करता है । अपनी उद्देश्य प्राप्ति के लिए कम्पनी जो मेहनत करती है

प्रमुख कार्यकारी अधिकृत विवेक झा

, उसी में उसकी सफलता निर्धारित होती है । अगर उद्देश्य बड़ा होता है, मेहनत भी ज्यादा करना पड़ती है । जब ‘नेपाल लाइफ’ नामक बीमा कम्पनी की स्थापना की गई, उस वक्त ही हम लोगों ने तय किया था कि अधिक से अधिक जनता हमारी बीमा योजनाओं से आबद्ध हो सके । इसके लिए जनता हमारी ओर आकर्षित होना अत्यावश्यक था । जनता को खुश करते हुए अपनी उद्देश्य परिपूर्ति के लिए हम लोगों ने जो परिश्रम किया, उसी परिश्रम में हमारी सफलता का राज है । आज नेपाल लाइफ से आबद्ध हमारे सम्पूर्ण ग्राहक सन्तुष्ट हैं, कर्मचारी उच्च मनोबल से काम कर रहे हैं, उन लोगों की सन्तुष्टी ही नेपाल लाइफ के लिए सफलता है ।
० बीमितों के लिए नेपाल लाइफ की आकर्षक पक्ष क्या हो सकता है ?
– नेपाल में बीमा और बीमा कम्पनियों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करने की चाहत रखनेवाले व्यक्ति बहुत कम ही मिलते हैं । अगर कोई व्यक्ति बीमा क्या है, और नेपाल में किस तरह के बीमा कम्पनी सञ्चालित है और उनकी अवस्था कैसी है ? इन प्रश्नों का जवाब ढूँढता है तो हर व्यक्तियों की प्राथमिकता में नेपाल लाइफ ही पड़ती है । क्योंकि हर बीमित व्यक्ति बीमा के बाद प्राप्त होनेवाली मुनाफा देखती है । बीमा योजना के अनुसार मुनाफा निर्धारित होती है । नेपाल लाइफ की हर बीमा योजना और मुनाफा के प्रति बीमित सन्तुष्ट हैं । लेकिन नेपाल में बीमा करनेवाले अधिकांश लोग बीमा कम्पनियों के बारे में बहुत ही कम जानकारी रखते हैं । कई लोग तो बीमा को बाध्यता भी समझते हैं । वे लोग समझते हैं कि बीमा अपने लिए नहीं दूसराें के लिए किया जाता हैं । उदाहरण के लिए हम लोग दुकान में जा कर एक जूता खरीद करते हैं तो उसकी मूल्य, गुणस्तर, टिकावपन आदि के बारे में प्रश्न करते हैं । लेकिन बीमा करते हैं तो कम्पनी की अवस्था, क्षमता और उससे प्राप्त होनेवाला मुनाफा आदि के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं रखते हैं । जो व्यक्ति बीमा कम्पनी की ओर से आते हैं, उसकी बात में पूर्ण विश्वास कर बीमा करते हैं । हम लोग कभी भी खुद को प्रश्न नहीं करते हैं कि मैं जो बीमा योजना खरीद रहा हूँ, क्या यह मेरे लिए उपर्युक्त है ? जब तक बीमित इस प्रश्न के ऊपर विचार नहीं करेंगे, तब तक सही बीमा कम्पनी मिलना मुश्किल हो सकता है ।
० आप का मतलब बीमा के प्रति लोग ज्यादा जागरुक नहीं हैं, है न ?
– हां, नेपाल के परिप्रेक्ष में बहुत कम ही लोग बीमा के प्रति जानकार हैं । लेकिन विकसित देश में ऐसी अवस्था नहीं है । वहां के हर व्यक्ति समझते हैं कि मेरे लिए बीमा अनिवार्य है । यहां तो लोग बीमा कराना ही नहीं चाहते हैं । जो करते हैं, वह भी बीमा को बाध्यता समझते हैं । इस तरह की गलत मानसिकता में धीरे–धीरे परिवर्तन हो रहा है ।
० जो व्यक्ति बीमा की आवश्यकता पर प्रश्न करते हैं, उनको आप क्या कहेंगे ?
– नेपाल में बीमा करनेवालों की संख्या कम है । इसके पीछे बीमा का मूल मर्म क्या है, इसके बारे में जानकारी न होना ही प्रमुख कारण है । बीमा का मूल उद्देश्य सम्भाव्य आर्थिक जोखिम को न्यून करना है । उदारहण के लिए आप अपनी हैसियत के अनुसार कमाते हैं । अपनी हैसियत के अनुसार कोई व्यक्ति मासिक १० हजार कमाता है तो कोई व्यक्ति १० लाख और उससे भी अधिक कमाते हैं । जितना कमाते हैं, उसी के अनुसार खर्च भी हो जाता है । आज आप अपनी कमाई के अनुसार परिवार चल रहे हैं, बच्चे को शिक्षा–दीक्षा प्रदान कर रहे हैं । लेकिन आप की कमाई सदाबहार नहीं हो सकती । कल ऐसे दिन भी आ सकता है कि आप कमाने में असमर्थ हो सकते हैं । उस वक्त आपकी पारिवारिक अवस्था दयनीय बन सकती है । अगर हम बीमा करते हैं तो थोड़ा ही सही आपकी आर्थिक जोखिम हस्तान्तरण हो सकती है । आर्थिक जोखिम को हस्तान्तरण करना ही बीमा है । इसीलिए अपने आर्थिक हैसियत के अनुसार बीमा करना पारिवारिक सुरक्षा के लिए हितकर हो सकता है ।
० आप के खयाल में बीमा के बारे में लोगों को कैसे जागरुक किया जा सकता है ?
– लोगों को बीमा के प्रति उत्सुक बनाना चाहिए । उदाहरण के लिए आप मेरी अन्तरवार्ता लेने के लिए आए हैं । इसका मतलब है कि आप नेपाल लाइफ और बीमा के बारे में जानने के लिए इच्छुक हैं । इसी तरह की उत्सुकता बीमा के बारे में आम लोगों के मस्तिष्क में होनी चाहिए । बीमा क्या है ? बीमा किस तरह किया जाता है ? बीमा करने के बाद हम लोगों को किस तरह फायदा होता है ? यह प्रश्न हर बीमित के मस्तिष्क में आना चाहिए । जूता, कपड़ा, पेन अथवा कम्प्युटर खरीद करते हैं तो हमारे दिमाग में अनेक प्रश्न आता है । उसी तरह बीमा करते वक्त भी आना चाहिए । तब लोगों के बीच बीमा और बीमा कम्पनी के बारे में बहस हो सकती है । आप बीमा को जबरजस्ती महसूस करते हैं तो आपको लगता है प्रलोभन में फँसाया जा रहा है ।
० जो व्यक्ति बीमा करने के लिए इच्छुक है, बीमा करने से पूर्व उसको किस चीज में ध्यान देना चाहिए ?
– सर्वप्रथम तो आप जिस बीमा कम्पनी में बीमा करने जा रहे हैं, वह सबल होना चाहिए । उपर्युक्त निवेश और व्यवस्थापन से ही कम्पनी सबल बन सकता है और मुनाफा भी हासिल कर सकता है । इसीलिए आप जिस कम्पनी में बीमा करने के लिए जा रहे हैं, उस कम्पनी द्वारा प्राप्त होनेवाला बोनस दर के बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए । दूसरी बात कम्पनी द्वारा प्राप्त होनेवाला दाबी–भुक्तानी, रेस्पोन्स आदि के बारे में भी जानकारी होनी चाहिए । बीमा का मतलव आर्थिक जोखिम हस्तान्तरण करना है । अगर कोई बीमित व्यक्ति का निधन हो जाता है तो उनके परिवार को निर्धारित भुक्तानी जल्द से जल्द मिलना चाहिए । प्रिमियम लेते हैं, लेकिन दावी–भुक्तानी के लिए अनेक परेशानी किया जाता है तो इस तरह के कम्पनी आप के लिए उपर्युक्त नहीं हो सकता । कोष में पर्याप्त रकम, उच्च मुनाफा, उच्च शेयर धनी कोष आदि भी सफल बीमा कम्पनी के लिए आवश्यक तत्व हैं । बीमा कम्पनी की आमदानी और खर्च का रेसियो को भी देखना चाहिए ।
० नेपाल लाइफ द्वारा प्रस्तुत विभिन्न बीमा योजनाओं में से लोग सबसे ज्यादा किस की ओर आकर्षित हैं ?
– आवश्यकता और लोगों की इच्छा अनुसार समय–समय में विभिन्न बीमा योजना सार्वजनिक किया जाता है । निश्चित बीमा योजना सदाबहार हो जाता है । नाम जो भी दिया जाए, आधारभूत रूप में बीमा की अवधारणा आर्थिक चुनौती को हस्तारण करना ही है । नेपाल लाइफ के हक में प्रायः सभी प्रोडक्ट समान रूप में बिक्री हो रही है । लेकिन ग्राहकों का वर्गीकरण विभिन्न रूप में विभाजित हो सकता है । जैसे कि बच्चे, वयस्क, व्यापारी, नौकरी करनेवाले आदि लोगों की पसन्द अपनी–अपनी होती है । बच्चे के लिए तय बीमा योजना वयस्क के लिए फिट नहीं होता है और व्यापारी के लिए तय योजना नौकरी करनेवालों के लिए फिट नहीं हो सकता । नेपाल लाइफ के पास १४–१५ प्रकार की बीमा योजना है, उसमें से ५–६ योजना सदाबहार है ।
० कुछ लोगों का कहना है कि मृत्यु का डर दिखाकर बीमा–व्यापार किया जाता है, ऐसे लोगों को आप क्या कहते हैं ?
– जन्म के साथ–साथ मृत्यु भी निश्चित है, इस सत्य को स्वीकार करना ही है । ‘एक दिन तो मरना ही है, इसीलिए भौतिक संसार सब बेकार है’ कह कर आप मृत्यु को दार्शनिकों की तरह व्याख्या भी कर सकते हैं । लेकिन संसार को बेकार बताते हुए भी जीवन तो एक सत्य है । यहां एक बात को याद रखना चाहिए– आप जब तक जीवित रहते हैं, तब तक अपने परिवार को खयाल रखते हैं, बच्चे के शिक्षा–दीक्षा प्रदान करते हैं । अपनी सन्तति का भविष्य सुरक्षित करने के लिए घर बनाते हैं । उसके लिए आप बैंक से लोन भी लेते हैं । अर्थात् परिवारिक आवश्यकता पुर्ति के लिए आप अपनी जिम्मेदारी महसूस करते हैं । यह सब आप क्यों करते हैं ? क्योंकि आप चाहते हैं कि अपका परिवार सुरक्षित हो सके । अगर आप अपने परिवार के प्रति कोई भी मतलब नहीं रखते हैं तो आप गैरजिम्मेदार अभिभावक कहलाते हैं । इसीलिए एक जिम्मेदार अभिभावक को अपने पारिवारिक सन्तति के लिए बीमा करना भी कर्तव्य बन सकता है । बीमा करने का मतलब बचत करना भी है । बीमा दो तरह से काम करता है । प्रथमतः आप की रकम सुरक्षित हो जाती है । दूसरी बात आर्थिक जोखिम को भी हस्तान्तरण करता है । हां, मृत्यु अवश्यम्भावी है, लेकिन हमारे मृत्यु कब होगी ? इस प्रश्न का जवाब किसी के पास नहीं है । इसीलिए आप आज जितना कमा रहे हैं, उसी में से कुछ अपनी सन्तति के लिए बचत कर सकते हैं, बीमा कर सकते हैं, जो आप के परिवार के लिए राहत हो सकती है ।
० बाजार में नई–नई बीमा कम्पनियां आ रही हैं, अब प्रतिस्पर्धा तीव्र हो सकती है । सम्भावित चुनौती के बारे में आप का क्या खयाल है ?
– बीमा कम्पनी बढ़ने के कारण घबराने की कोई भी बात नहीं है, स्वस्थ्य प्रतिस्पर्धा होनी चाहिए, जिसके चलते बीमा की बाजार और भी बढ़ सकती है । इस तथ्य को हम सभी को स्वीकार करना होगा । दूसरी बाद, प्रतिस्पर्धात्मक चुनौती की हम लोगों ने पहले ही कल्पना की है । सिर्फ नेपाल लाइफ ही नहीं, प्रायः सभी कम्पनियों ने कम्पनी शुरु होने से पहले ही बाजार की प्रतिस्पर्धा के बारे में अनुमान करते है । दक्ष नेतृत्वकर्ता उसमें कभी भी नहीं घबड़ाते हैं । सफलतम कम्पनियों के पास समस्या और उसके समाधान के बारे में पहले ही अपनी दृष्टिकोण और योजना तैयार होता है, उसके अनुसार हम आगे बढ़ते हैं । हर बीमा कम्पनी चाहती है कि नेपाल लाइफ की तरह ही आगे बढ़ सकें, यह स्वाभाविक है । लेकिन अपने कर्मचारी, बीमा एजेन्सी और ग्राहक को जो सन्तुष्ट रख सकता है, वही कम्पनी सफलता की ओर बढ़ सकती है । तीसरी बात, हम जानते हैं कि बीमा का बाजार कभी भी खत्म होनेवाला नहीं है । सिर्फ इस को पहचान करने की आवश्यकता है ।
० आम ग्राहकों के सामने नेपाल लाइफ खुद को कैसे परिचय कराती है ?
– नेपाल लाइफ एक जीवन बीमा कम्पनी है । जीवन बीमा कम्पनियों में से आज के दिन में सबसे ज्यादा मुनाफा देनेवाली कम्पनी भी यही है । इसीलिए जो व्यक्ति खुद और अपने परिवार के जीवन बीमा के बारे में सोच रहे हैं तो वह नेपाल लाइफ का चुनाव कर सकते हैं । यह बात मैं सीईओ होने के नाते नहीं बोल रहा हूं । हमारा हर नतीजा इस बात की पुष्टि कर रही है । बीमित को प्राप्त होनेवाला प्रतिफल, कम्पनी की कुल पूंजी, शेयर क्यापिटल, शाखा संजाल, दावी–भुक्तानी में पारदर्शिता लगायत हर क्षेत्र में हम सबसे आगे हैं । संक्षेप में कहें तो बीमा बाजार में नेपाल लाइफ ने अपने को अव्वल साबित किया है ।
० अंत में एक अलग प्रसंग ! आप एक सफल व्यवसायी हैं, आप के दृष्टिकोण में नेपाल को कैसे समृद्ध राष्ट्र बना सकते हैं ?
– आर्थिक समृद्धि के लिए नेपाल में प्रर्याप्त पूर्वाधार निर्माण नहीं हो पाया है । इसीलिए पूर्वाधार में लगानी और उस क्षेत्र का विकास ही हमारे लिए समृद्धि का पहला आधार बन सकता है । कोई भी सामग्री उत्पादन करना चाहते हैं तो उससे पहले उद्योग निर्माण होना जरुरी है, उत्पादन के लिए उद्योग पूर्वाधार है । पूर्वाधार निर्माण के बाद ही हम उत्पादन और प्रतिफल प्राप्त कर सकते हैं । इसीलिए विकास के लिए पूर्वाधार निर्माण प्रथम शर्त हो सकता है । हाइड्रो, पर्यटन, उद्योग, कृषि, जड़ीबुटी आदि हमारे लिए आधारभूत क्षेत्र हो सकता है, इन क्षेत्रों में पूंजी निवेष करेंगे तो हम लोग आर्थिक रूप में समृद्ध हो सकते हैं । इसके लिए आधारभूत पूर्वाधार निर्माण होना चाहिए, दीर्घकालीन योजनाआें के पूंजी निवेष होना चाहिए । राजनीतिक स्थिरता, ईमानदारी और सही नीयत के साथ पूंजी निमेष किया जाता है तो नेपाल में लाखों युवा को रोजगारी दे सकते हैं । अगर युवाओं को अपने ही देश में काम करने का अवसर मिल जाता है तो देश अवश्य ही आर्थिक रूप में भी आगे बढ़ सकता है ।

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: