नेताओं को सरकार में शामिल होने से रोकेंगे : रञ्जित कुमार सिंह

हिमालिनी,मई अंक ,२०१८ | मधेशी जनता के लिए राष्ट्रीय जनता पार्टी (राजपा) नेपाल निर्माण होना ही सबसे सुखद पक्ष है । मैं तो कहता हूँ कि यह सिर्फ ६ पाटिर्यों की एकता नहीं है, मधेशी जनता की एकता है । मधेशी जनता के अधिकार के लिए ही राजपा काम कर रही है । पार्टी निर्माण के तुरन्त बाद ही देश में चुनावी माहौल निर्माण हो गया । नवगठित पार्टी राजपा के लिए प्रथम चुनौती तो यही रही । सभी नेता–कार्यकर्ता चुनाव लक्षित कार्यक्रम को लेकर आगे बढ़ने लगे । चुनाव से राजपा को जो परिणाम प्राप्त हुआ है, वह सुखद है । चुनाव के कारण ही आज तक राजपा, पार्टी को सांगठनिक स्वरूप नहीं दे पा रही है । इसीलिए आज हमारे सामने पार्टी संगठन निर्माण ही प्रथम प्रथामिकता में है । यहां एक बात स्मरणीय है कि समग्र देश की राजनीति में राजपा का योगदान महत्वपूर्ण है, जो आगामी दिन में भी रहेगा । क्योंकि बहु संख्यक जनता राजपा के प्रति आशावादी हैं । विशेषतः मधेशी जनता अधिक आशावादी हैं । इसीलिए पार्टी को मजबूत तो बनाना ही है । पार्टी को विधि और प्रक्रिया से सञ्चालित करना है । भातृ संगठनों की घोषणा और विस्तार करने की आवश्यकता है । इसके लिए पार्टी महाधिवेशन की जरूरत है । महाधिवेशन के लिए युवा नेता नेतृत्व को दबाव भी दे रहे हैं ।
आज हम लोग संघीय लोकतान्त्रिक गणतन्त्रात्मक शासन व्यवस्था की अभ्यास कर रहे हैं । इस व्यवस्था के लिए सैकड़ों नेपाली जनता ने अपनी जान दी है । विशेषतः मधेश में रहनेवाली जनता ने विशेष संघर्ष किया । संघीयता के लिए अगर मधेशी जनता ने अपनी कुर्वानी नहीं दी होती तो इस देश में आज संघीयता नहीं भी हो सकती थी । दुर्भाग्य की बात तो यह है कि संघीयता के लिए जिन लोगों ने सबसे अधिक योगदान किया, आज वही लोग संविधान के प्रति असन्तुष्ट हैं, वे लोग वर्तमान संविधान में संशोधन चाहते हैं । इस चाहत को कोई अनदेखा नहीं कर सकता । बहुमत के दम्भ पर अगर मधेशवासी नेपालियों की भावना को अनदेखा किया जाता है तो वह दुर्भाग्यपूर्ण बन सकती है ।
संविधान संशोधन के लिए आवश्यक दो तिहाई मतों के लिए ही राजपा ने वर्तमान सरकार को समर्थन किया है । अगर मधेश की भावना अनुसार संविधान संशोधन हो जाती है तो राजपा भी सरकार में शामिल हो सकती है । अगर उसके बिना ही राजपा के नेता गण सरकार में शामिल होने के लिए लालायित होते हैं तो राजपा के युवा नेताओं को स्वीकार्य नहीं है । उन लोगाें को सरकार में शामिल होने से रोकने की जिम्मेदारी हमारी बनती है । क्योंकि सरकार में शामिल होने से पहले जनता की मूलभूत मुद्दे को सम्बोधन कर संविधान संशोधन होना आवश्यक है, इसमें हम लोग स्पष्ट हैं । उसके बाद ही राजपा सरकार में शामिल हो सकती है ।

Loading...
Tagged with

Leave a Reply

Be the First to Comment!

avatar
  Subscribe  
Notify of
%d bloggers like this: