दक्षिण एशियाई गान(South Asian Anthem)

 

south Asia anthem

Bio
Abhay K., an Indian poet-diplomat, winner of the SAARC Literary Award, nominated for the Pushcart prize, is the author of seven books including five collections of poetry. ‘Earth Anthem’ written by him has been translated into major world languages

हिमालय से हिन्द तक, इरावदी से हिन्दुकुश,
महावेलि से गंगा तक, सिन्धु से ब्रह्मपुत्र

लक्षद्वीप, अण्डमान, एवरेष्ट, आदम्स पीक
काबुल से थिम्पू तक, माले से रंगून

दिल्ली-ढाका, कोलम्बो, काठमाण्डू, इस्लामाबाद
हर कदम साथ-साथ, हर कदम साथ-साथ

जोंखा, सिंहला, नेपाली, हिंदी, पश्तो, बंगाली

उर्दू, बर्मी, धीवेही, हरकदम साथ-साथ

 

अपनी अपनी पहचान, अपने-अपने अरमान

शान्ति  की बात-बात, हर कदम साथ-साथ

 

हर कदम साथ-साथ, हर कदम साथ-साथ ।

हर कदम साथ-साथ, हर कदम साथ-साथ ।

हर कदम साथ-साथ, हर कदम साथ-साथ ।

हर कदम साथ-साथ, हर कदम साथ-साथ ।

हर कदम साथ-साथ, हर कदम साथ-साथ ।

 

नोट : इरावदी म्यानमार की सबसे लंबी नदी है, जबकि महावेली श्रीलंका की सबसे लंबी नदी है। आदम पीक श्रीलंका का सबसे सम्माननीय शिखर है। श्रीलंका में दो आधिकारिक भाषाऐं हैं – सिंहला और तमिल जैसा की अफगानिस्तान में भी दो आधिकारिक भाषाऐं है -पश्तो और दारी। मैंने इन देशों की पहली भाषा को चुना है जिसमें उनके राष्ट्रगान लिखे गए हैं। धिवेही मालदीव की आधिकारिक भाषा है। मैं उम्मीद करता हूँ कि एक दिन यह सार्क गान के रुप में जरूर स्थापित होगा।

दक्षिण एशिया में बॉलीवुड फिल्मों की भारी लोकप्रियता को देखते हुए, मैंने एक नमूना दक्षिण एशियाई गान हिन्दुस्तानी में लिखा है। यह कई भाषाओं का मिश्रण है जो कि दक्षिण एशियाई देशों में बोली और समझी जाती है।

दक्षिण एशियाई गान

अभय कुमार

 

 

Loading...

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz