item-thumbnail

आर्कटिक क्षेत्र में चीनी सेंध : एन.के. सोमानी

0 February 4, 2018

एन.के. सोमानी, चीन ने अपनी महत्वाकांक्षी परियोजना वन बेल्ट एंड वन रोड (ओबोर) का विस्तार करते हुए इसको आर्कटिक महासागर से जोड़ने का निर्णय लिया है। इस प...

item-thumbnail

चीन की नीति, पहाड़ पर कब्जा के बाद मधेश पर नजर – जनकपुर से की शुरुआत

0 February 2, 2018

रणधीर चौधरी, विराटनगर, २ फरवरी | नेपाल के इतिहास मे पहली बार चिनी राजदुत का जनकपुर दौरा हुआ है । परंतु नेपाल की राष्ट्रीय मिडिया मे चिनी राजदुत के जनक...

item-thumbnail

नेपाल में स्थिर सरकार के लिए भारत का सहयोग अपेक्षित हैः डा. बाबुराम भट्टराई

0 January 28, 2018

काठमांडू, २८ जनवरी । आज भारत में जो आर्थिक विकास हो रही है, उसके एक वजह स्थिर सरकार भी है । क्योंकि विकास के लिए स्थिर सरकार आवश्यक है । में चाहता हूं...

item-thumbnail

मजबूत संबंध के लिए नेपाल और भारत, एक दूसरे को सम्मान करेंः महरा

0 January 28, 2018

काठमांडू, २८ जनवरी । परिवर्तन के लिए नेपाल में जितना भी राजनीतिक आन्दोलन हुआ है, उसमें भारत की ओर से समर्थन ही रहा है । वि.सं. २००७ साल में हो या ०४६ ...

item-thumbnail

हमारी भूपरिवेष्ठित संवेदनशीलता भारत की ओर से संबोधित होना चाहिएः डा. महत

0 January 28, 2018

काठमांडू, २८ जनवरी । दुनियां में कम ही देश ऐसे होते हैं, जहां एक–दूसरे देश के नागरिकों को आवत–जावत के लिए पासपोर्ट की आवश्यकता नहीं पड़ती । भारत भी हमा...

item-thumbnail

नेपाल–भारत संबंध आर्थिक विकास पर आधारित होना चाहिएः उपेन्द्र यादव

0 January 28, 2018

काठमांडू, २८ जनवरी । नेपाल और भारत के बीच बहुआयामिक संबंध है । जनता–जनता, राष्ट्र–राष्ट्र और सरकार–सरकार के बीच संबंध है । हर संबंध का अपना–अपना महत्व...

item-thumbnail

नेपाल–भारत संबंध हम लोगों की बस में नहीं हैः अनिल झा

0 January 28, 2018

काठमांडू, २८ जनवरी । नेपाल–भारत संबंध हम जैसे पोल्टिकल नेता तथा पार्टी द्वारा बनाया गया संबंध नहीं है । सदियों से जारी यह संबंध जनता–जनता बीच के है । ...

item-thumbnail

नेपाल–भारत संबंधः नयां चुनौती के लिए परम्परागत नीति काफी नहीं हैः राणा

0 January 28, 2018

काठमांडू, जनवरी २८ । भारतीय प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी एक सफल प्रधानमन्त्री के रुप में परिचित हो रहे हैं, उनका कार्यकाल सफल बन रहा है । अर्थात् मोदीज...

item-thumbnail

क्या भंसाली निर्दोष हैं ?

0 January 26, 2018

26 जनवरी 2018, देश का 69 वाँ गणतंत्र दिवस, भारतीय इतिहास में पहली बार दस आसियान देशों के राष्ट्राध्यक्ष समारोह के मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित, पूरे...

item-thumbnail

जाग मुसलमान जाग, हो जाओ तैयारः अब्दुल खानं

0 January 25, 2018

संसार में यदि कहीं पे गुलामी है, कहीं के लोग दास्ता के शिकार मे तड़प रहे है, कहीं कि जनता औपनिवेशिक्ता से जुझ रही हैं तो आजादी ही अन्तिम निकास है । स्व...

item-thumbnail

सरस्वती पूजा ‘संस्कृति’ है या कु–संस्कृति ?

0 January 25, 2018

मनोज बनैता आजकल संस्कृति के नाम में जो ‘सरस्वती पूजा’ की कार्यक्रम रखी जाती है, वो सच में संस्कृति है या कुसंस्कृति ? इस तरह का प्रश्न स्वाभाविक बन रह...

item-thumbnail

डा.सी.के राउत की घेराबन्दी क्यों ? : कैलाश महतो

0 January 24, 2018

कैलाश महतो, परासी | अब यह समान्य उत्सुकता की बात बनती जा रही है कि एक समान्य परिवार में जन्में बचपन का चन्द्रकान्त राउत और हाल का डा.सी.के राउत ने ऐसा...

item-thumbnail

डा. सि के अाैर डा. के सी की ललकार,ढिली पडी नेपाली सरकार : अब्दुल खानं

0 January 12, 2018

अब्दुल खानं, वर्दिया | महत्मा गान्धी के जीवन से प्रभावित यह दाेनाे डाक्टर अन्तत: सत्य अाैर न्याय का सहारा लेकर सत्याग्रह का अान्दोलन छेड कर नेपाल देश ...

item-thumbnail

खतरनाक राष्ट्रिय एकता से पीडितों को मुक्ति मिलनी चाहिए : कैलाश महतो

0 January 11, 2018

कैलाश महतो, पराशी | इंसान ही नहीं, सारे जीवजन्तु भी हलचल में आ जाते हैं, बौखला जाते हैं और कुछ प्राणी तो मानव से भी ज्यादा सचेत होकर खतरों का संकेत कर...

item-thumbnail

डूबते सूरज की बिदाई नववर्ष का स्वागत कैसे : डाँ नीलम महेंद्र

0 December 31, 2017

पेड़ अपनी जड़ों को खुद नहीं काटता, पतंग अपनी डोर को खुद नहीं काटती, लेकिन मनुष्य आज आधुनिकता की दौड़ में अपनी जड़ें और अपनी डोर दोनों काटता जा रहा है। काश...

item-thumbnail

क्या नेपाली शासक उपेन्द्र यादव को प्रधानमन्त्री बनने देगी ? : रोशन झा

0 December 27, 2017

रोशन झा, सप्तरी | सियासत की रंगत में ना डूबो इतना, कि वीरों की शहादत भी नजर ना आए, जरा सा याद कर लो अपने वायदे जुबान को, गर तुम्हे अपनी जुबां का कहा य...

item-thumbnail

मधेश की भुमि खण्डित किसने किया, क्या आप जानते हैं ? ई. श्याम सुन्दर मंडल

0 December 25, 2017

  ई. श्याम सुन्दर मंडल # ओली_वाणी एक भारतीय टी.वी. अन्तरवार्ता के दौरान घोर अन्ध-राष्ट्रवादी केपी शर्मा ओली नें कहा : “मैं पहाड़ से तराई में ५५ ...

item-thumbnail

तुमने फिल्म “मधेशी पुत्र” को रोका, मधेश में नेपाली शासन बन्द हो : कैलाश महतो

0 December 23, 2017

कैलाश महतो, पराशी | सन् २००० का ऋतिक रोशन काण्ड और सन् २००४ में इराक में हुए बारह नेपालियों की विभत्स हत्या के विरोध में नेपालीयों द्वारा मधेशीयों के ...

item-thumbnail

नेपाली और मधेशी दोनो अलग अलग राष्ट्रियता के रूपमे स्थापित हो चुके हैं : विकास प्रसाद लोध

0 December 21, 2017

विकास प्रसाद लोध, लुम्बिनी | विगत कुछ दशक से आन्दोलित मधेश एवम नेपाल मे हाल ही मे सम्पन्न प्रतिनिधि सभा और प्रदेश सभा निर्वाचन मे कम्युनिष्ट पार्टीयों...

item-thumbnail

पाठ्यक्रम के आधार पर शिक्षकों कीयवस्था होनी चाहिए : डॉ. नारायणप्रसाद उपाध्याय

0 December 17, 2017

संसार के हर समृद्ध विश्वविद्यालयों में सेमेस्टर प्रणाली लागू हुई है । इसी को मद्देनजर रखते साल २०३० में त्रिभुवन विश्वविद्यालय में भी यह प्रणाली लागू ...

item-thumbnail

मधेस की कुछ ऐतिहासिक बातें, थारु किसान कमैया कमलरी कैसे बने ? महेन्द्र प्रसाद थारु

0 December 15, 2017

महेन्द्र प्रसाद थारु १६ वी शताब्दी की शुरुआत में मुगल साम्राज्य के अवध राज्य के प्रसिद्ध किसान कवि ‘घाघ’ की एक लोकप्रिय कबिता, दश हर राव आठ हर राना, च...

item-thumbnail

क्या कभी नारी को गुस्सा आया है : डाँ नीलम महेंद्र

0 December 13, 2017

डाँ नीलम महेंद्र, ग्वालियर | आज से पांच साल पहले 16 दिसंबर 2012  को जब राजधानी दिल्ली की सड़कों पर दिल दहला देने वाला निर्भया काण्ड हुआ था तो पूरा देश ...

item-thumbnail

हमे समृद्ध मधेश चाहिए न कि लाशाे का ढेर : अब्दुल खानं

0 December 5, 2017

  अब्दुल खानं, बर्दिया | मध्य देश अाैर मझिम देश के नाम से जाने वाले यह मधेश की भुमी ज्ञान गुन का सागर माना जाता था। यहा महान ऋषि मुनियाे की तपाे भूमी ...

item-thumbnail

राकेश मिश्र संबंधी समाचार के बारे में रिपब्लिका के सम्पादक घिमिरे को एक पत्र

0 December 3, 2017

सम्पादक श्री सुभाष घिमिरे जी, कुछ साल पहिले, आप कसमस विश्वकर्मा के बदले ‘रिपब्लिका’ दैनिक में सम्पादक के रुप आए थे, उस वक्त पाठकों को जानकारी दिया था ...

item-thumbnail

पड़ोसियों द्वारा संचालित गठबंधन विनाशकारी भी हो सकता है : मुरलीमनोहर तिवारी

0 December 3, 2017

मुरलीमनोहर तिवारी ( सिपु), वीरगंज | नेपाल के वर्त्तमान अवस्था पर बात करे तो सबसे प्रमुख है वाम गठबंधन। गठबंधन करना नेपाली राजनीति में नयी संस्कृति है।...

item-thumbnail

मधेश के संघर्ष मे मुसलमानाे का भी याेगदान : रियाज अंसारी

0 December 2, 2017

 रियाज अंसारी, नेपालगंज  | मधेशियाें मधेश के लिए सदियाें से बलिदानी देकर निरन्तर अधिकार के लिए लडते अारहे हैं । अाज भी वह लड़ाई निरन्तर जारी है। अभितक ...

item-thumbnail

संर्घष और अवसरवाद ने मधेशबाद को बर्बाद कर डाला  -भोपेन्द्र यादव 

0 November 29, 2017

भैरहवा अगहन १२ ,  ऐतिहासिक काल से हो या २०६२/६३ या फिर ७२/७३ जब भी हो मधेश ने संर्घष किया जनता ने बलिदान दिया । नेता कार्यकर्ता पैदा किया,मंन्त्री सभा...

item-thumbnail

हमारा संघर्ष विखण्डन के लिए नहीं, पहचान के लिए हैं (भाग २)

0 November 26, 2017

पहचान में आधारित राज्य व्यवस्था हमारा संघर्ष पहचान में आधारित संघीय राज्य निर्माण के लिए हैं । अभी हाल जो प्रस्ताबित संघीय राज्य है, वह पहचान में आधार...

item-thumbnail

“चुनाव एक धोखा है, पूर्णबहिष्कार ही अब मौक़ा है : बिनोद पासवान

0 November 23, 2017

बिनोद पासवान | “चुनाव एक धोखा है,पूर्णबहिष्कार ही अब मौक़ा है” बिना संबिधान संशोधन के किया गया चुनाव मधेशी के साथ सरासर धोका है, और ऐसे हाल...

item-thumbnail

साहब ये लोकतंत्र है,एक-दुसरे पर कीचड उछालना इसका मूलमंत्र है : मुरलीमनोहर तिवारी (सिपु)

0 November 22, 2017

मुरलीमनोहर तिवारी (सिपु), वीरगंज | लोकतंत्र में सत्ता का अंतिम सूत्र जनता के हाथ में होता है, अर्थात् यह एक ऐसी शासन व्यवस्था, जिसमें लोक सहमति की आवश...

item-thumbnail

क्या बीजेपी मप्र में ऐसे जाएगी 300 पार : डाँ नीलम महेंद्र

0 November 19, 2017

डाँ नीलम महेंद्र,  ग्वालियर | मध्य प्रदेश के चित्रकूट उपचुनाव में भाजपा ने जिस प्रकार अपनी हार को स्वीकार किया है उससे कई सवाल खड़े हो रहे हैं। जहाँ एक...

item-thumbnail

कहानी एक गीत की, मन मे है विश्वास… : रघुवीर शर्मा

0 November 18, 2017

रघुवीर शर्मा, काठमांडू | हममें से सभी ने कभी न कभी ‘हम होंगे कामयाब’ गीत को जरूर सुना होगा । जिसने हिंदी में इस गीत को नहीं सुना होगा, उसने इसका अंग्र...

item-thumbnail

खुशियों का पैमाना बनती जा रही शराब : डाँ नीलम महेंद्र

0 November 15, 2017

डाँ नीलम महेंद्र, ग्वालियर | वैसे तो हमारे देश में अनेक समस्याएँ हैं जैसे गरीबी बेरोजगारी भ्रष्टाचार आदि लेकिन एक समस्या जो हमारे समाज को दीमक की तरह ...

item-thumbnail

टमाटर प्यारी राज दूलारी हो गई है : बिम्मी शर्मा

0 November 15, 2017

बिम्मी शर्मा, वीरगंज (व्यँग्य ) | देश में चुनाव का मौसम है और नेताओं की जगह पर टमाटर छाया हुआ है । ज्यों ज्यों टमाटर प्यारी का भाव बढ़ रहा है त्यों त्य...

item-thumbnail

क्या विश्व महाविनाश के लिए तैयार है ? डाँ नीलम महेंद्र

0 November 10, 2017

डाँ नीलम महेंद्र, ग्वालियर | अमेरीकी विरोध के बावजूद उत्तर कोरिया द्वारा लगातार किए जा रहे हायड्रोजन बम परीक्षण के परिणाम स्वरूप ट्रम्प और किम जोंग उन...

item-thumbnail

अब तो मधेश भी मधेशी नेतृत्वों के हाथ से निकल गयी : कैलाश महतो

0 November 10, 2017

कैलाश महतो, परासी | मधेश के इतिहास से अनभिज्ञ रहे राजनीतिज्ञ, बुद्धिजिवी और कुछ पत्रकार लोग आजाद मधेश चाहने बालों से प्रायः एक सवाल पूछते हैं, “स्वतन्...

item-thumbnail

चुनाव मे सामिल होना मधेशी जनता के लिऐ घातक कदम रहा : अब्दुल खानं

0 November 7, 2017

अब्दुल खानं, वर्दिया | नेपाल के संविधान काे संसाेधन के लिऐ विगत मे मधेशयाें ने महिनाे महिना अान्दाेलन किया, महिनेा सीमा अवराेध किया। पुलिस प्रशासन ने ...

item-thumbnail

गठबंधन नही ठगबंधन – वाम, दाम और नाम का संगम : बिम्मी शर्मा

0 November 7, 2017

बिम्मी शर्मा, वीरगंज, (व्यंग्य) | इस देश में बारबार हो रहे निर्वाचन शादी के सात फेरे जैसी हो गयी है । शादी के ही सीजन में इस देश में निर्वाचन का भी शु...

item-thumbnail

कल का मधेश और हम मधेशी ? एक चिन्तन : ई. श्याम सुन्दर

0 November 5, 2017

  ई. श्याम सुन्दर, राजबिराज |  मधेश के पास कुल भुमि २३ हजार वर्ग कि.मी. है जहाँ तकरीबन १.५ करोड़ मधेशी आज के दिन पल रहा है । उन डेढ़ करोड़ मधेशियों की...

item-thumbnail

मधेश के लोग कहीं यह न कहने लगे कि साथियों ! मधेश का नाम ही मत लेना : कैलाश महतो

0 November 4, 2017

कैलाश महतो, परासी | हिन्दी शब्दकोष के अनुसार हिजड़ा एक वह व्यक्ति होता है, “ऐसा व्यक्ति जिसमें शारीरिक दृष्टि से स्त्री–पुरुष दोनों के कुछ कुछ गुण, चिह...

item-thumbnail

छठ व्रत का इतिहास : अंशु झा

0 October 26, 2017

छठ केवल एक पर्व ही नहीं है बल्कि महापर्व है जो कुल चार दिन तक चलता है । नहाय–खाय से लेकर उगते हुए भगवान सूर्य को अघ्र्य देने तक चलने वाले इस पर्व का अ...

item-thumbnail

मधेश की राजनीति विकासमुखी नहीं अधिकारमुखी बन गई है : विकास प्रसाद लोध

0 October 26, 2017

  विकास प्रसाद लोध, कपिलबस्तु | विगत के दशकों से मधेश की राजनीति नेपाल मे समानता का अधिकार कायम करने को ही अपना प्रमुख उद्देश्य वनाकर उसी पर केन्द्रीत...

item-thumbnail

मुख्यमन्त्रियों के दरबारों में बहार और मधेश में चित्कार : कैलाश महतो

0 October 20, 2017

      कैलाश महतो, परासी | विघटन होने के पूर्व सन्ध्या में नेपाल के संसद ने एक नियम पारित करते हुए आने बाले अगहन १० और २१ गते के संसदीय और प्...

item-thumbnail

१९५० की सन्धि न तो मधेश को प्रतिष्ठा दिला सकी नाही भारत को सुरक्षा : कैलाश महतो

0 October 14, 2017

कैलाश महतो, पराशी | बापू ! आप शायद जीवित होते तो मधेश का स्थान कहीं कुछ और ही होता कि…? भारत और नेपाल के बीच बनाये गये १९५० की सन्धि ने न तो भार...

item-thumbnail

मधेशियों को क्या मिला ? सिर्फ गोली अाैर खुन की हाेली : रामदेव यादव

0 October 13, 2017

राम देव यादव , भैरहवा | राजनीति मे न तो कोई स्थाई रुप से दुश्मन और न ही दोस्त होता है। समय और मुद्दो के साथ् साथ् राजनितीक समीकरण मे फेर वदल होता रह्त...

item-thumbnail

न जयप्रकाश आंदोलन कुछ कर पाया न ही अन्ना आंदोलन : डाँ नीलम महेंद्र

0 October 12, 2017

डाँ नीलम महेंद्र, ग्वालियर | वीआईपी कल्चर खत्म करने के उद्देश्य से जब प्रधानमंत्री मोदी द्वारा मई 2017 में वाहनों पर से लालबत्ती हटाने सम्बन्धी आदेश ज...

item-thumbnail

गठजाेर से मधेश काे कितना फाईदा है ? : अब्दुल खानं

0 October 7, 2017

अब्दुल खानं,बर्दिया । नेपाल मे अभी के राजनीतिक धुर्विकरण अाैर परिस्थिति का जायजा लिया जाय ताे बिभिन पार्टी अाैर संघ- संगठनो के बिच दीर्घकालिन अाैर अल्...

item-thumbnail

एमाले, माओवादी, नयाँ शक्ति के बीच एकिकरण है या बृहत ब्राह्मण एकता सम्मेलन ? अमरदीप मोक्तान

0 October 5, 2017

अमरदीप मोक्तान, डाडा खर्क ,दोलखा |  काठमाडौँ १७ गते मंगलबार २०७४ को साँम ५ बजे काठमाडौ स्थित खचाखच भरे हुए राष्ट्रिय सभागृह हल मे एमाले ,माओवादी केन्द...

item-thumbnail

रावण के दस सिर थे चेहरा एक था, आज के रावण का सिर एक है पर चेहरे अनेक

0 October 3, 2017

“रावण को हराने के लिए  पहले खुद राम बनना पड़ता है ।“ विजयादशमी यानी अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दसवीं तिथि जो कि विजय का प्रतीक है। वो विजय जो श्रीराम...

item-thumbnail

सत्य के पुजारी; मोहनदास करमचंद गाँधी; एक दुर्लभ व्यक्तित्व थे : गंगेशकुमार मिश्र

0 October 2, 2017

महात्मा …उनका कहना था, ” सच्चाई कभी नहीं हारती।“ अहिंसा को धर्म मानने वाले, सत्य के पुजारी; मोहनदास करमचंद गाँधी; एक दुर्लभ व्यक्तित...

item-thumbnail

रणनीति विहीन राजनीति : रणधीर चौधरी

0 October 2, 2017

राजपा गठन पश्चात शायद पहली विरोध सभा थी विराटनगर मे । उपेन्द्र यादव और राजपा अध्यक्ष मण्डल के महन्थ ठाकुर भी विरोध सभा में सहभागी हुए थे । आम जनमानस क...

item-thumbnail

जागरूक जनता ही करेगी स्वच्छ भारत का निर्माण : डाँ नीलम महेंद्र

0 October 1, 2017

एक तरफ हम स्मार्ट सिटी बनाने की बात कर रहे हैं तो दूसरी तरफ हमारे महानगर यहाँ तक कि हमारे देश की राजधानी दिल्ली में रहने वाले लोग तक कचरे की बदबू और ग...

item-thumbnail

कोठली बाहर मतदान अभियान ने मधेशी को मंजिल के करीब ला दिया : श्यामसुन्दर मण्डल

0 September 25, 2017

  श्यामसुन्दर मण्डल, भारदह | आजाद़ी_करीब_है “स्वतन्त्र मधेश गठबन्धन”की आस्था, आदर्श और विचार ने मधेश के बुद्धिजीवी और राजनैतिक रूपमे सचेत ...

item-thumbnail

रावण के दस सिर थे चेहरा एक था आज के रावण का सिर एक है पर चेहरे अनेक

0 September 22, 2017

डॉ नीलम महेंद्र, ग्वालियर |“रावण को हराने के लिए  पहले खुद राम बनना पड़ता है ।“ विजयादशमी यानी अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दसवीं तिथि जो कि विजय का प्...

item-thumbnail

राजनीति में ईमानदारी होनी चाहिए : कैलाश महतो

0 September 22, 2017

कैलाश महतो राजनीति में ईमानदारी होनी चाहिए । मगर ‘हमेशा ईमानदार होना हानिकारक होता है’(मैकियावेली प्रिन्स पुस्तक) । तकरीबन चालीस हजार रोहिंग्या मुसलमा...

item-thumbnail

संविधान, स्थानीय चुनाव और काला दिवस : गुरुशरण सिंह

0 September 19, 2017

गुरुशरण सिंह (आभाष),गोलबजार, 9 , सिरहा |  नेपाल के इतिहास को गौर से देखें तो, यहाँ सात दशकों मे सात संविधान बना है । बर्षों के रस्साकस्सी के बाद अन्तत...

item-thumbnail

वंशवाद केवल राजनीति में ही हो ऐसा भी नहीं है : डॉ नीलम महेंद्र

0 September 14, 2017

डॉ नीलम महेंद्र, ग्वालियर | वैसे तो भारत में राहुल गाँधी जी के विचारों से बहुत कम लोग इत्तेफाक रखते हैं (यह बात 2014 के चुनावी नतीजों ने जाहिर कर दी थ...

item-thumbnail

धर्म के लिफापे मे देहसत का धन्धा : रणधीर चौधरी

0 September 13, 2017

रणधीर चौधरी, विराटनगर | भारत के हिरियाणा प्रदेश के पंचकुला मे अदालत से एक निर्णय क्या आया भारत के पाँच प्रदेश आतंकित हो गये । एक्कतिस लोगो की जान चली ...

item-thumbnail

कहते हैं कानून अँधा होता है लेकिन भारत में तो अंधा ही नहीं बहरा भी होता जा रहा था…!

0 September 11, 2017

डॉ नीलम महेंद्र, ग्वालियर | अभी हाल ही में भारत में कोर्ट द्वारा जिस प्रकार से फैसले दिए जा रहे हैं वो देश में निश्चित ही एक सकारात्मक बदलाव का संकेत ...

item-thumbnail

होशियार ! कलाकार ही कहीं मधेश में सरकार न बना लें : कैलाश महतो

0 September 9, 2017

कैलाश महतो,परासी| न कला का कोई धर्म होता है, न कलाकारों का । न सेवकों का कोई धर्म होता है, न पीडितों का । कलाकारों के लिए कला ही उसका धर्म होता है । स...

item-thumbnail

जिनपर हमें भरोसा था, उसी ने कौडी के भाव बेच दिया : बिनोद पासवान

0 September 6, 2017

सबको पता है कि कैसे सुनियोजित एवं नाटकीय रूपसे जो बिधेयक मधेशी, दलित, जनजाति, अल्पसंख्यक समुदाय (मुस्लिम, थारू तथा अन्य) के हित मे था, उसे संसद मे देख...

item-thumbnail

एक बार साँसद जरुर बन जाना पूरी जिन्दगी का बेड़ा पार हो जाएगा : सुरभी

0 September 5, 2017

सुरभी : (फिर एक दिल टूटा ) आज फिर एक दिल टूटा, ओह गलती हुई दल टूटा कुछ इधर गिरा कुछ उधर गिरा बस अब थापा और राणा को टुकडेÞ बटोरने की देर है । कभी कभी त...

item-thumbnail

मधेश, नेपाल में ही रहे, इस का कोई कारण नहीं है : सीके लाल

0 September 4, 2017

राजनीतिक विश्लेषक तथा स्तम्भकार सीकेलाल ने कहा है कि मधेश नेपाल में रह जाए, इस का कोई कारण नहीं है । उन का मानना है कि मधेश के साथ वर्षों से विभेद हो ...

1 2 3 9