item-thumbnail

मधेश–थरुहट आन्दोलन- आयोग का प्रतिवेदन सार्वजनिक करो

0 January 24, 2018

सर्वोच्च अदालत के पूर्व न्यायधीश माननीय गिरीश चन्द्र लाल जी के नेतृत्व मे प्रधानमन्त्री को अपना अनुसन्धानात्मक प्रतिवेदन जमा किया जा चुका है । ७०९ पृष...

item-thumbnail

वामगठबन्धन की राह आसान नहीं

0 January 24, 2018

वामगठबन्धन की बैचेनी अब भी शांत नहीं हो पा रही है और वो रोज निर्वाचन आयोग का चक्कर लगा रहे हैं, धमका रहे हैं तथा लांछन लगा रहे हैं । यहाँ तक कि आयोग क...

item-thumbnail

ठोडी दो नम्बर प्रदेश का है और रहेगा

0 January 24, 2018

लक्ष्मणलाल कर्ण सांसद लक्ष्मण लाल कर्ण ने कहा, ठोड़ी हालात पर्सा के अन्य जगह से भिन्न नही है, वहां भी पानी का अभाव है, नदी के कटाव की समस्या है, सड़के...

item-thumbnail

वीरगंज औद्योगिक राजधानी बने -सुबोध कुमार गुप्ता

0 January 19, 2018

हमारी ही नहीं यह सबकी इच्छा है कि वीरगंज का विकास होना चाहिए । कैसे हो और कहाँ से शुरुआत की जाए ? वीरगंज को आर्थिक नगरी और मॉडल सिटी के रूप में कैसे व...

item-thumbnail

अस्थिर देश में स्थिरता की नाकाम तलाश : श्वेता दीप्ति

0 January 19, 2018

काठमांडू | राजनीतिक अस्थिरता के बीच ही हमने २०१८ का सफर शुरु कर दिया है । देश के लिए यह नया वर्ष हो ना हो, पर विश्व के साथ चलने के क्रम में इसकी महत्त...

item-thumbnail

अभिकलनात्मक अनुवाद

0 January 17, 2018

डॉ. पद्मा पाटील वर्तमान समय में अनुवाद की भूमिका अत्यन्त महत्वपूर्ण हो गयी है । विश्व साहित्य, वैज्ञानिक, तकनीकी, ऐतिहासिक, सामाजिक, राजनीतिक , सांप्र...

item-thumbnail

तरबूजा : बिम्मी शर्मा

0 January 17, 2018

नेता गिरगिट की तरह रंग तो बदलते ही थे, अब तरबूजे की तरह एक को देख कर दूसरा उसी के रंग का हो गया है या होने वाला है । विश्वास नहीं है तो नेपाल के सबसे ...

item-thumbnail

गणतंत्रीय नेपाल और हिन्दी : डॉ. श्वेता दीप्ति

0 January 17, 2018

डॉ. श्वेता दीप्ति, काठमांडू | तराई की समतल भूमि जनक नन्दिनी सीता की जन्म स्थली जनकपुर धाम, शान्ति के अग्रदूत बुद्ध की जन्मस्थली लुम्बिनी के कपिलस्तु ज...

item-thumbnail

हिन्दी का वैश्विक परिदृश्य

0 January 13, 2018

मोनिका वर्मा हिन्दी जो कि हिन्दुस्तान की भाषा के नाम से जानी जाती रही है, वह अब केवल हिन्दुस्तान की भाषा न होकर संपूर्ण विश्व में फैल चुकी है । चाहे क...

item-thumbnail

विश्व हिंदी सम्मेलन – एक परिचय : रघुवीर शर्मा

0 January 10, 2018

रघुवीर शर्मा विश्व हिंदी सम्मेलन हिंदी भाषा का सर्वाधिक महत्वपूर्ण और सबसे बड़ा अन्तरराष्ट्रीय सम्मेलन है जिसमें दुनिया भर के साहित्यकारों, पत्रकारों,...

item-thumbnail

स्मृति शेष–पञ्चदेव : चन्द्रकिशोर

0 January 9, 2018

चन्द्रकिशोर स्वतन्त्रता प्राप्ति के पश्चात लोकनायक जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में हुए सम्पूर्ण क्रान्ति काल मे भारत मे जबर्दस्त राजनीतिक चेतना की जागृ...

item-thumbnail

स्वास्थ्य-ठण्ड के मौसम में हमारी त्वचा की देखभाल

0 January 8, 2018

रामदेव पण्डित ठण्डे मौसम में लोग अपनी रूखी बेजान त्वचा पर तरह तरह के क्रीम लगाकर उसे मुलायम और चमकदार बनाने की कोशिश करने में लगे रहते हंै । लेकिन आजक...

item-thumbnail

पर्सा चुनाव में मधेशी दलों का बोलवाला

0 January 8, 2018

पर्सा में चुनाव के परिणाम ने इतिहास रच दिया । चार सांसद के सीट में से चारो पर मधेशी गठबंधन की जीत हुई, आठ विधायक के सीट में से छह पर भी मधेशी गठबंधन क...

item-thumbnail

यह हैं– हमारे नए जनप्रतिनिधि

0 January 8, 2018

काठमांडू । मार्गशीर्ष १० और २१ गते सम्पन्न प्रतिनिधिसभा तथा प्रदेशसभा चुनाव की अंतिम परिणाम (प्रत्यक्ष तरफ) सार्वजनिक हो चुका है । सार्वजनिक नतीजा के ...

item-thumbnail

बीमा बाजार में नेपाल लाइफ ने खुद को अव्वल साबित किया है

0 January 8, 2018

कहा जाता है कि नेपाल में बीमा के बारे में बहुत कम लोग जानकार हैं । लेकिन आज बीमा कम्पनियों की संख्या इस तरह बढ़ रही है कि उल्लेखित कथन में विश्वास करन...

item-thumbnail

‘छोटा मधेश’और आगे की राजनीति : रणधीर चौधरी

0 January 4, 2018

अगर वाम गठबंधन की सरकार बन जाती है तो देखना है पुष्प कमल दहाल की हरकत । संविधान संसोधन के एजेण्डा को वे केन्द्रीकृत कर पाते हैं या फिर खडग प्रशाद ओली ...

item-thumbnail

क्या कहते हैं चुनावों के नतीजे : कुमार सच्चिदानन्द

0 January 3, 2018

मधेश के मुद्दे के दृष्टिकोण से देखें तो पूर्व प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउवा और केपी ओली में कोई अन्तर दिखलाई नहीं दे रहा था । ठीक इसी तरह भीम रावल और ...

item-thumbnail

गजल

0 January 2, 2018

गोर्खे साइँलो वो तो आते हैं, लौट जाते है., देखकर खुद ही मुस्कुराते हैं । जब उन्हें याद आ गया कोई, गीत गजलों को गुनगुनाते हैं । जल गया ख्वाब उनकी चाहत ...

item-thumbnail

वाम सरकार क्या मधेश के हक में होगी ? : डॉ. श्वेता दीप्ति

0 January 2, 2018

सवाल मुँह बाए खड़ा है कि क्या संविधान संशोधन होगा ? क्या पहचान और अधिकार के लिए किए गए आन्दोलन का प्रतिफल मिलेगा जिसके लिए इस चुनाव में मधेश की जनता न...

item-thumbnail

गांधी : उनकी सफलता का रहस्य : स्व. भद्रकाली मिश्र

0 January 1, 2018

स्व. भद्रकाली मिश्र गांधी ने पूर्वीय समस्त इच्छाओं एवं महानता का यथार्थ प्रतिनिधित्व किया । उन्होंने भौतिक उत्कर्ष की चमक के कारण तथा वैभव, शक्ति एवं ...

item-thumbnail

नेपाल भारत मैत्री समाज द्वारा ५१ बौद्ध तीर्थयात्री भारत यात्रा पर अाज विदा

0 December 30, 2017

काठमांडू , ३० दिसम्बर | आज राजधानी में एक भव्य समारोह के बीच नेपाल भारत मैत्री समाज के सहयोग से सुगत बौद्ध तीर्थयात्रा अन्तर्गत ४६ तीर्थयात्री और ५ सह...

item-thumbnail

भाषा,संस्कृति को लेकर देश भी विभक्त हुए हैं,सुलझाने में धैर्य और बुद्धिमता चाहिये : श्वेता दीप्ति

0 December 20, 2017

भाषा और संस्कृति जैसे संवेदनशील मुद्दे को धैर्य और बुद्धिमता के साथ सुलझाना आवश्यक है . डा श्वेता दीप्ति, काठमांडू | किसी भी क्षेत्र और संस्कृति के लि...

item-thumbnail

गठबंधन की राजनीति के अर्थ अनर्थ : कुमार सच्चिदानन्द

0 December 19, 2017

कुमार सच्चिदानन्द एक बार फिर फिजा में चुनावों का रंग घुलने लगा है और देश संसदीय तथा प्रादेशिक चुनाव की दहलीज पर खड़ा है । यह चुनाव अनेक अर्थों में महत...

item-thumbnail

पर्यटकीय महत्व के दर्शनीय स्थल

0 December 18, 2017

प्रकाशप्रसाद उपाध्याय नियात्रियों का मन सदैव नई–नई जगह की सैर करने के लिए उत्सुक रहता है । उन स्थलों की प्राकृतिक सुंदरता, वेशभूषा, खानपान, संस्कृति, ...

item-thumbnail

मुक्तिबोधः उम्र भर जी के भी न जीने का अंदाज आया

0 December 18, 2017

हरिशंकर परसाई भोपाल के हमीदिया अस्पताल में मुक्तिबोध जब मौत से जूझ रहे थे, तब उस छटपटाहट को देखकर मोहम्मद अली ताज ने कहा था– उम्र भर जी के भी न जीने क...

item-thumbnail

पाठ्यक्रम के आधार पर शिक्षकों कीयवस्था होनी चाहिए : डॉ. नारायणप्रसाद उपाध्याय

0 December 17, 2017

संसार के हर समृद्ध विश्वविद्यालयों में सेमेस्टर प्रणाली लागू हुई है । इसी को मद्देनजर रखते साल २०३० में त्रिभुवन विश्वविद्यालय में भी यह प्रणाली लागू ...

item-thumbnail

नेपाल में बच्चों के मानवाधिकार की मौजूदा दशा

0 December 17, 2017

नेपाल में बच्चों के मानवाधिकार की मौजूदा दशा, सन्दर्भः विश्व मानवाधिकार दिवस विनोदकुमार विश्वकर्मा ‘विमल’ आज जब हम अन्तर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस के ...

item-thumbnail

मधेस की कुछ ऐतिहासिक बातें, थारु किसान कमैया कमलरी कैसे बने ? महेन्द्र प्रसाद थारु

0 December 15, 2017

महेन्द्र प्रसाद थारु १६ वी शताब्दी की शुरुआत में मुगल साम्राज्य के अवध राज्य के प्रसिद्ध किसान कवि ‘घाघ’ की एक लोकप्रिय कबिता, दश हर राव आठ हर राना, च...

item-thumbnail

जैसा खाये अन्न, वैसा बने मन

0 December 14, 2017

रवीन्द्र झा ‘शंकर’ छन्दोग्योपनिषद् में कहा गया है– आहार शुद्ध होने से अन्तःकरण शुद्ध होता है । अन्तस्करण शुद्ध हो जाने से परमात्मा में दृढ़ स्मृति हो ...

item-thumbnail

क्या लोकतंत्र खतरे में है ? डॉ. श्वेता दीप्ति

0 December 14, 2017

 बन्दूक और बारुद के भय को तो नेपाल की जनता ने बहुत सालों तक झेला है और उस दर्द को अभी तक वो नहीं भूले होंगे जिन्होंने अपनों को खोया और जिनकी लाश तक को...

item-thumbnail

सुनिताका राजनीतिक सफर और चुनौतियां

1 December 13, 2017

मेहतर समुदाय से प्रथम महिला सुनीता मेहतरनी हैं जो जनकपुर उपमहानगरपालिका के बोर्ड सदस्य में चुनी गयी हैं । राष्ट्रीय जनता पार्टी नेपाल की सदस्य सुनीता ...

item-thumbnail

नेपालगन्ज भन्सार -देश बेच देने की मुहीम

0 December 13, 2017

देश के मुख्य भन्सार कार्यालय में सूचीकृत नेपालगन्ज भन्सार पश्चिम नेपाल का मुख्य निकासी पैठारी केन्द्र और नाका है । पुलिस चेक जाँच में सामान्य रूप से स...

item-thumbnail

‘देश का सबसे बडा कैटलफॉर्मिगं बनाना ही मेरा उद्देश्य है’-श्यामबदन यादव

0 December 13, 2017

करीब ९ साल पहले सिर्फ पाँच गायों से डेयरी का काम शुरु करने वाले श्यामबदन यादव के डेयरी उद्योग में आज ९५ गायें हंै । वीरगंज सहित यादव का नेपाल के अन्य ...

item-thumbnail

दाँत की देखभाल कैसे करे ?

0 December 13, 2017

जगन्नाथ यादव आज छोटे–छोटे बच्चे से लेकर बड़े–बुजर्ग तक कहते हंै कि मेरी दांत में समस्या है । यहां एक बात का खयाल रखना चाहिए कि दाँत में समस्या आ जाती ...

item-thumbnail

राशिफल: 08 दिसंबर 2017, शुक्रवार

0 December 8, 2017

  मेष(Aries): परिवारजनों के साथ उग्र वाद-विवाद होने से मन ग्लानि से भरा रहेगा, ऐसा गणेशजी कहते हैं। आपका शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य बिगड़ सकता ह...

item-thumbnail

नेपाल की नीतिविहीन राजनीति : डा. श्वेता दीप्ति

0 December 6, 2017

डा. श्वेता दीप्ति | क्या आज की राजनीति सिर्फ रणनीति का खेल रह गई है जहाँ आदर्श की सम्भावना पूरी तरह समाप्त हो चुकी है ? क्या हम किसी दल या नेता की प्र...

item-thumbnail

धरती मां की पुकार : अब तो रहम करो

0 December 3, 2017

देवेश कुमार मिश्र कृषि मानव जीवन का मूल आधार है । कोई भी व्यक्ति दुनिया के किसी भी कोने मे रहता हो, किसी भी समुदाय, वर्ग या धर्म संस्कृति का मानने वाल...

item-thumbnail

नेपालरुपी समुन्द्र में वोटरूपी अमृतपान करने को आतुर नेतागण : श्वेता दीप्ति

0 November 20, 2017

आज नेपालरुपी समुन्द्र में चुनावरूपी मन्थन जारी है । सभी जनता की वोटरूपी अमृत का पान करने के लिए आतुर हैं । देवता तो किसी को यहाँ कहा नहीं जा सकता पर म...

item-thumbnail

नेपाल में चीन की भूमिका भारत से ज्यादा प्रभावकारी : वीरेन्द्र प्रसाद मिश्र

0 November 16, 2017

चीन का जो मुख्य उद्देश्य था कि भारत की कुटनीति को एक धक्का देकर यह दिखा देना था कि नेपाल की राजनीति में यह भारत से कम महत्व नहीं रखता है । परन्तु तत्क...

item-thumbnail

ऐ जिन्दगी

0 November 15, 2017

अयोध्यानाथ चौधरी ऐ जिन्दगी! तुम कब तलक , यूँही दहलीज के बाहर ऐसे ही अंगूठे से मिट्टी कुरेदती रहोगी इतनी संवेदनहीनता ! मेरा सूनापन अब मौत के समीप है बर...

item-thumbnail

दरबार साहिब-सिख धर्मावलंबियों का पावनतम धार्मिक स्थल : प्राची शाह (यात्रा अमृतसर स्वर्णमंदिर की)

0 November 4, 2017

प्राची शाह, काठमांडू | इसबार दशहरे की छुट्टियों में दिल्ली होते हुए अमृतसर जाने का अवसर मिला एक पारिवारिक यात्रा थी यह जिसने पूरा मनोरंजन दिया हमें । ...

item-thumbnail

शुद्ध और अच्छी हिन्दी कैसे लिखें – ४

0 October 21, 2017

वर्तनी–सम्बन्धी अशुद्धियां– वर्तनी सम्बन्धी अशुद्धियां, मूलतः संरचनात्मक अशुद्धि का ही अंग है । किसी शब्द में प्रयुक्त ध्वनियों का गलत उच्चारण अथवा कि...

item-thumbnail

बेहतर शिक्षा की क्या है राह

0 October 21, 2017

आषाढ़ महीना परीक्षाफल व नामांकन के मौसम के नाम से जाना जाता है । क्योंकि कुछ वर्षों से माध्यमिक शिक्षा परीक्षा का नतीजा प्रायः इसी महीने के आरंभ में आ...

item-thumbnail

गोरखालैंड : पहचान का लम्बा सफर

0 October 16, 2017

इन दिनों भारत के दार्जिलिङ में फिर से बंगाल से अलग गोर्खाल्यैंड प्रान्त की माँग को लेकर आन्दोलन भड़क उठा है । नेपाली भाषियों की आबादी वाले मनोरम दार्ज...

item-thumbnail

नेपाल के दलितों में चमार

0 October 16, 2017

चमार अथवा ‘मोची’, ‘हरिजन’, ‘चर्मकार’, नेपाल में पायी जाने वाली जात समूह है । वर्तमान में यह जाति दलितवर्ग की श्रेणी में आती है । यह जाति अस्पृश्यता की...

item-thumbnail

काला कीर्तिमान, इतिहास में ही सबसे बड़ा मन्त्रिमंडल : लिलानाथ गौतम

0 October 11, 2017

लिलानाथ गौतम नेपाल के कानुन अनुसार शादी–विवाह में ५१ से ज्यादा लोगों को बारात ले जाना गैर कानुनी होता है । लेकिन वहीं कानून बनाने वाले हमारे नेता आवश्...

item-thumbnail

बुजुर्गों के प्रति श्रद्धा और सम्मान भाव रखना सबसे बड़ा तर्पण : मधु सिंह

0 October 10, 2017

मधु सिंह हमें सदैव ही अपने बुजुर्गों के प्रति श्रद्धा और सम्मान भाव रखना चाहिए वो भी तब जब वो जीवित हों । और हमारी समझ से एक जिन्दा इंसान जितना आर्शिब...

item-thumbnail

कैसे बचें विष के चक्रव्यूह से : देवेश कुमार मिश्र

0 October 8, 2017

देवेश कुमार मिश्र मानव अपनेको स्वस्थ्य, सुखी एवं आनन्दपूर्वक रहते हुए जीवनयापन करनेका हर संभव प्रयत्न करताहै । जिसके लिए वह तरह तरहके पौष्टिक भोजन, यो...

item-thumbnail

बाढ़ का कहर कहीं आपदा, कहीं लाटरी : विनय दीक्षित

0 October 7, 2017

बाढ़ एक प्राकृतिक आपदा है । अधिक वर्षा होने के साथ ही बाढ़ जैसी समस्या होनी सामान्य बात है । लेकिन बाढ़ से बचाव और सुरक्षा इन्तजामात अच्छे न हों तो बा...

item-thumbnail

कहीं पे निगाहें कहीं पे निशाना : बिम्मी शर्मा

0 October 6, 2017

दो नंबर प्रदेश प्रदेश पूरी तरह चुनावी रंग मे रंग चुका है । यहां दशहरे के जैसा माहौल है । हर तरफ अस्त व्यस्तता दिखाई देती है । सभी अपने समर्थित दल और उ...

item-thumbnail

नवरात्र में अनुशासन :अंशु झा

0 October 3, 2017

अंशु झा नवरात्र की अनुष्ठान साधना का अत्यधिक महत्व माना गया है । इसमें पूजा–अर्चना की निर्धारित विधि–व्यवस्था का अपना महत्व है और ऋतु संधि की अवसर पर ...

item-thumbnail

रणनीति विहीन राजनीति : रणधीर चौधरी

0 October 2, 2017

राजपा गठन पश्चात शायद पहली विरोध सभा थी विराटनगर मे । उपेन्द्र यादव और राजपा अध्यक्ष मण्डल के महन्थ ठाकुर भी विरोध सभा में सहभागी हुए थे । आम जनमानस क...

item-thumbnail

न जाने क्यूँ

0 September 22, 2017

राघवेन्द्र झा कभी बरसात की चुभन कभी धुप की तपन न जाने क्यूँ आजकल मौसम बेगाना लगता है ।। कभी ठण्ढक से रूबरू कभी पसीने की बदबु न जाने क्यूँ आजकल हर एहसा...

item-thumbnail

मृत्यु क्या है ?

0 September 22, 2017

मृत्यु क्या है ? कुछ उदाहरणों के द्वारा इसे समझने का पयत्न करेंगे । मृत्यु के उपरान्त तेरहवें दिन सभी लोग एकत्र होते है तो उसे लोक में शोकसभा कहा जाता...

item-thumbnail

आखिर कौन हैं रोहिंग्या मुसलमान ?

0 September 22, 2017

म्यांमार में दस लाख के करीब रोहिंग्या मुसलमान रहते हैं । यह कौम आजकल भीषण मानवीय त्रासदी से जूझ रहा है, एक पूरी कौम को उस देश से बेदखल किया जा रहा है ...

item-thumbnail

राजनीति में ईमानदारी होनी चाहिए : कैलाश महतो

0 September 22, 2017

कैलाश महतो राजनीति में ईमानदारी होनी चाहिए । मगर ‘हमेशा ईमानदार होना हानिकारक होता है’(मैकियावेली प्रिन्स पुस्तक) । तकरीबन चालीस हजार रोहिंग्या मुसलमा...

item-thumbnail

दो नम्बर प्रदेश और चुनावी बयार-डॉ. श्वेता दीप्ति

0 September 18, 2017

एमाले ने राष्ट्रवाद के नाम पर जो जख्म मधेश को दिया है वो मधेश भूला नहीं है दो नम्बर प्रदेश यानि मधेश, फिलहाल चुनावी रंग से सराबोर है । मधेश का चुनाव च...

item-thumbnail

ये जनता है, सब जानती है और मधेश भावुक हो सकता है पर मुर्ख नहीं : श्वेता दीप्ति

0 September 5, 2017

  पहाड़ का दर्द भी अलग नहीं है |(सम्पादकीय ) हिमालिनी, अगस्त अंक | प्रकृति की मार ने रुह को सर्द कर दिया है । कमजोरियों और खोखली व्यवस्थाओं के पोल खुल...

item-thumbnail

एक बार साँसद जरुर बन जाना पूरी जिन्दगी का बेड़ा पार हो जाएगा : सुरभी

0 September 5, 2017

सुरभी : (फिर एक दिल टूटा ) आज फिर एक दिल टूटा, ओह गलती हुई दल टूटा कुछ इधर गिरा कुछ उधर गिरा बस अब थापा और राणा को टुकडेÞ बटोरने की देर है । कभी कभी त...

item-thumbnail

डोकलाम विवाद : चीन कीबढ़ती आकांक्षाओं पर लगाम : कुमार सच्चिदानन्द

0 September 3, 2017

भारत और चीन के बीच भुटान के डोकलाम को लेकर तनाव शिखर पर है और एक अशाँति का साया समस्त एशिया पर मँडरा रहा है । दोनों ही देशों के बीच वाक्युद्ध तेज है औ...

item-thumbnail

मधेश एक खिलौना ! जब जी चाहा मौत बाँट दी,याद आया तो गले लगा लिया : श्वेता दीप्ति

0 August 31, 2017

बीस वर्षों से अगर मधेश स्थानीय निकाय के प्रतिनिधियों के बगैर चला है तो कुछ वर्ष और सही । वैसे भी ये प्रतिनिधि क्या कर रहे हैं उसका नमूना तो अब से दिखन...

item-thumbnail

मोक्ष के हेतु भूतनाथ भगवान शंकर की आराधना : रविन्द्र झा “शंकर”

0 August 29, 2017

प्राचीन काल में एक राजा था, जिनका नाम था इन्द्रद्युम्न, वे बड़े दानी, धर्मज्ञ और सामथ्र्यशाली थे । धनार्थियों को वे सहस्र स्वर्णमुद्राओं से कम दान नही...

1 2 3 6