Tue. Sep 25th, 2018

साहित्य

इसी तरह धीरे-धीरे ख्वाहिशें ख़त्म होती हैं, इसी तरह धीरे-धीरे मरता है आदमी : अमरजीत कौंके

धीेर-धीरे अमरजीत कौंके इसी तरह धीरे-धीरे ख्वाहिशें ख़त्म होती हैं इसी तरह धीरे-धीरे मरता है

ए कैसी जहेर भरी आज की सियासत है, हमी लुटे है हमी पर है लूट का इल्जाम : गुल्जारे अदब की गजल गोष्ठी सम्पन्न

नेपालगञ्ज ,(बाँके) पवन जायसवाल । बाँके जिला के गुल्जारे अदब नेपालगन्ज ने शनिवार को मासिक

अंग्रेजी से हमे बैर नही पर प्रभुत्व उसका स्वीकार नही : श्रीगोपाल नारसन

विश्व हिन्दी दिवस का पावन पर्व मुबारक हो उर्दू,मराठी,मलयालम बंगाली,तेलगु,कन्नड़ भी क्षेत्रीय भाषा साथ चले

सम्पूर्ण सौन्दर्य का, पूंजीभूत तत्त्व, समाया है तेरे वजूद में :डॉ वन्दना गुप्ता

माेरपंखी स्पर्श – डॉ वन्दना गुप्ता मुँह धोये सवेरे में, जब सूर्य की अनुपम किरणें,

चिरप्रतीक्षित-कथा कौमुदी, काव्य कलश, सीप के मोती, और हास्य के रँग, चारों साझा सँकलनों, का लोकार्पण

अनुराधा प्रकाशन द्वाराप्रकाशित 4 साझासंकलनों का लोकार्पण, कवि एंव पत्रकार लाल बिहारी लाल भी साहित्य

दर्द तो है इस बात का दिल में कि, सांसे देकर धड़कन ने साथ छोड़ दिया ।

प्रिया मिश्रा कुछ खूबसूरत लम्हों ने साथ छोड़ दिया कि हसीं ख्वाबों ने साथ छोड़

अगर बचानी बेटियां, करें आज संकल्प । बेटी का जग में नहीं, कोई और विकल्प ।

बेटी है इक्कीस डा. रामनिवास ‘मानव’ बेटा–बेटी में नहीं, कहने को कुछ भेद । मरती