item-thumbnail

काठमांडू में पोयमांडू का आयोजन

0 March 28, 2017

विनोदकुमार विश्वकर्मा, काठमांडू, मार्च २८ । विगत कुछ वर्षों से चली आ रही परंपरा के अनुरूप नेपाल के रचनाकारों के प्रोत्साहन हेतु वीपी कोइराला इंडिया–ने...

item-thumbnail

हिसाब, कौन देगा ?

0 March 8, 2017

हिसाब, कौन देगा ? गंगेश मिश्र भीड़ थी, फ़िर भीड़ में, कैसे लगी, निशाने पे गोली ? लाठी टूटी बुढ़िया की, चूड़ी बहुरिया की, अनाथ हुए बच्चे; हिसाब कौन देग...

item-thumbnail

बेशर्म नेता ही राजदूत के पद को बिक्री करके लाजदूत बना देते है : बिम्मी शर्मा

0 March 1, 2017

बिम्मी शर्मा, वीरगंज, १ मार्च | (व्यंग्य ) दुसरे देशों में राजदूत विदेश मंत्रालय के उच्च पदास्थ कर्मचारी होते हैं । पर हमारा देश तो दुसरों से निराला ह...

item-thumbnail

आओ नेता बनें और इस देश को खुब लूटें : बिम्मी शर्मा

0 February 21, 2017

बिम्मी शर्मा, वीरगंज,२१ फरवरी, (व्यंग) | इस देश में और इस देश की अवाम को और कुछ नहीं चाहिए सिवा नेता के । यहां चारो ओंर हाय, हाय और हायतौबा भी नेता के...

item-thumbnail

हिन्दी का प्रयोग पूरे नेपाल में होता है लेकिन इसे विरोध तथाकथित राष्ट्रवाद से झेलना होता है : कुमार सच्चिदानन्द

0 February 17, 2017

कुमार सच्चिदानन्द , वीरगंज ,१७ फरवरी | ११ फरवरी, रौतहट के झिंगुर्वा गाँव में एक मुशायरा का उद्घान करने के क्रम में प्रधानमंत्री प्रचण्ड ने सभा को न के...

item-thumbnail

मैथिली कविता प्रतियोगिता एवं भाषा-संस्कृति अभियानी सम्मान कार्यक्रम

0 February 12, 2017

  रोशन झा १२ फरवरी, बिराटनगर | मोरड़ग ‘मिथिला स्टुडेन्ट युनियन नेपाल, बिराटनगर एकाई द्वारा’, मैथिली भाषा क्षेत्र प्रवर्द्धन एवं विकासमे सहय...

item-thumbnail

0 February 10, 2017

उड़ान भरने दो … °°°°°°°°°°°°°° गंगेश कुमार मिश्र उड़ान भरने दो, पर न काटो; इन्हें उड़ने दो। हक़ है इन्हें भी, खुले आकाश में, उड़ने का। दामन, न स...

item-thumbnail

“थारू मधेसी ही हैँ” सत्य तथ्य पर आधारित विशलेषण : रोशन झा

0 February 9, 2017

  रोशन झा, ९ फरवरी | राजबिराज | आज मधेस के थारू सहित आदिवासी-जनजातियों को यह समझाया गया है कि तुम मधेसी नहीँ हो जब कि यह प्रमाणित तथ्य है कि मधेस एवं ...

item-thumbnail

आमसंचार विश्वविद्यायल की जरुरत ः मन्त्री कार्की

0 February 7, 2017

हिमालिनी डेस्क, काठमांडू, ७ फरवरी । सूचना तथा संचारमन्त्री सुरेन्द्र कुमार कार्की ने कहा की अगर आम संचार बिश्वबिद्यालय स्थापीत हूई तो नेपाल का संचार ज...

item-thumbnail

डॉ. रीना यादव भारत में सम्मानित

0 February 7, 2017

विनोदकुमार विश्वकर्मा,काठमांडू | शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास नई दिल्ली व भारतीय भाषा मंच के तत्वावधान में कानपुर में आयोजित भाषासेतु कार्याशाला के अव...

item-thumbnail

अपना हाथ जगन्नाथ, बेचारा एसएसपी कैसे बताएगा ३४किलो सोना खाने वाली बडी मछली कौन है

0 February 7, 2017

बिम्मी शर्मा (व्यग्ंय), वीरगंज , ७ फरवरी |पद, पैसा और पावर वह त्रिवेणी जिस पर नहाने के बाद हर कोई अपना हाथ जगन्नाथ करने के लिए उतावला होता है । यह पैस...

item-thumbnail

वसंत पंचमी – सदाबहार ऋतुओं के राजा ‘वसंत’ : विजय यादव

0 February 1, 2017

विजय यादव, काठमाण्डू, 19  माघ । वसंत जिसके नाम से ही हर किसी का मन उत्साहों से भर जाता है और जीवजन्तुओं से लेकर इन्सानों का भी रोम–रोम पुलकित हो उठता ...

item-thumbnail

त्रुटीपूर्ण पाठ्यपुस्तक छापना गैरजिम्मेवारी ही नही शैक्षिक अपराध भी हैे : भाषाविद्

0 January 29, 2017

विजेता, काठमाडौं, १६ माघ । नयें शैक्षिक शत्र में नेपाली किताब फिर से त्रुटीपूर्ण वर्णविन्यास के साथ प्रकाशित होने जा रही है । व्याकरण व भाषा में अशुद्...

item-thumbnail

पांचाली तेरे चीर को हरा किसने ? श्वेता दीप्ति

0 January 21, 2017

पांचाली तेरे चीर को हरा किसने ? श्वेता दीप्ति, ९ माघ पांचाली तेरे चीर को हरा किसने ? ये वही था जिसे ये गुरुर था कि दुनिया उसी की है ।                 ...

item-thumbnail

आत्महत्या ! रैप गायक किस मानसिक त्रासदी से गुजर रहा था कभी सोचा है ? बिम्मीशर्मा

0 January 20, 2017

बिम्मीशर्मा , वीरगंज,7 माघ |कोई जिदंगी से लाचार हो कर आत्महत्या करता है तो उसे संवेदना या सहानुभूति देने के बजाय सब उस मर चूके ईंसान की खिल्ली उडाते ह...

item-thumbnail

हिन्दी भाषा मात्र नहीं अपितु विश्व-बन्धुत्व एवं मानव के लिए ज्योति-स्तम्भ है : जनार्दन मण्डल

0 January 15, 2017

प्रो. जनार्दन मण्डल, हिन्दी, अवकाश प्राप्त, रा रा ब कैम्पस ,जनकपुर, पुस2 गते ।  हिन्दी काम-काज व रोजी-रोटी की भाषा है | हिन्दी एक भाषा  मात्र नहीं है ...

item-thumbnail

ठंडा मतलब कोकाकोला राष्ट्रवाद मतलब एमाले, संसोधन न करने का हठ : बिम्मीशर्मा

0 January 11, 2017

व्यग्ंय…….बिम्मीशर्मा, वीरगंज , 27 पुस | यह देश अजब, गजब है और यहां की जनता और मीडिया भी वैसी ही है । विभिन्न राजनीतिक दल, नेता और उनके दू...

item-thumbnail

हिन्दी की जीवन–यात्रा, हिन्दी दिवस को समर्पित : विनोदकुमार विश्वकर्मा

0 January 10, 2017

विनोदकुमार विश्वकर्मा ‘विमल’, काठमांडू ,२६ जनवरी | साहित्य किसी भी सभ्यता या समाज का उद्भव, विकास, उत्थान, तत्कालीन जनमानस की चेतना एवं विचारधाराओं को...

item-thumbnail

एक शाम हिंदी के नाम- बाक़ी काम तमाम : मुरली मनोहर तिवारी

0 January 9, 2017

मुरली मनोहर तिवारी, वीरगंज, ९ जनवरी । १० जनवरी को विश्व हिन्दी दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य विश्व में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिये जागरूकता पै...

item-thumbnail

नेपालगंज में जिला स्तरीय निबन्ध प्रतियोगिता सम्पन्न

0 January 5, 2017

नेपालगंज(बाके), पवन जायसवाल, २०७३ पौष २१ गते । नेपाल रेडक्रस सोसाइटी बाके जिला शाखा की आयोजन में तथा जुनियर रेडक्रस सर्कल ज्ञानोदय उच्च माध्यमिक विद्य...

item-thumbnail

टोपी जो सफेद बाल ही नहीं, अंदर की बेईमानी और भ्रष्टाचार भी छिपा देता है

1 January 3, 2017

टोपी जिंदावाद, ……. बिम्मीशर्मा, वीरगंज, ३ जनवरी |(व्यग्ंय) शरीर में कपडा पहनना उतना जरुरी नहीं है जितना टोपी पहनना । आखिर में ईस देश का दे...

item-thumbnail

‘मजदूर मंच स्मारिका’ का लोकार्पण

0 December 30, 2016

काठमांडू, दिसम्बर ३० ।  सद्भावना पार्टी के भ्रातृ संगठन मधेशी ट्रेड युनियन महासंघ नेपाल द्वारा प्रकाशित ‘मजदूर मंच स्मारिका’ का लोकार्पण हुआ है । सद्भ...

item-thumbnail

मुना–मदन हंकांग में मंचन

0 December 29, 2016

काठमांडू, दिसम्बर, २९ । महाकवि लक्ष्मीप्रसाद देवकोटा द्वारा विरचित खंडकाव्य ‘मुना–मदन’ गीतिनाटक हंकांग में मंचन हुआ है । सांस्कृतिक संस्थान नेपाल के क...

item-thumbnail

साहित्यकार कमलमणि दीक्षित नही रहे

0 December 29, 2016

काठमांडू, २९ दिसम्बर नेपाली भाषा–साहित्यसेवी कमलमणि दीक्षित का निधन हुआ है । उनके पारिवारिक स्रोत के अनुसार ८६ वर्षीय दीक्षित को ललितपुर स्थित बीएण्डब...

item-thumbnail

लेखक बना ही नही बन गया लेखक संघ का अध्यक्ष यानि आंखे नाहीं चश्मे चांही : बिम्मीशर्मा

0 December 27, 2016

बिम्मीशर्मा, बीरगंज, २७ दिसिम्बर | जिसका आंख कमजोर हो वह पावर वाला चश्मा पहनें तो ठीक है पर जब वह गगल्स या सन गलास पहन लेता है तो क्या होगा ? जिसका पै...

item-thumbnail

इन्डो–नेपाल समरसता ऑर्गनाइजेसन द्वारा अभिनंदन कार्यक्रम का आयोजन

0 December 25, 2016

काठमांडू, २५ दिसम्बर इन्डो–नेपाल समरसता ऑर्गनाइजेसन (अन्तर्राष्ट्रीय समरसता) मंच द्वारा २५ दिसंबर को एक अभिनंदन कार्यक्रम का आयोजन किया गया । अभिनन्दन...

item-thumbnail

व्यावहारिक हिन्दी पत्रकारिता और हिन्दी के मुहावरे एवं लोकोक्तियां का लोकापर्ण

0 December 18, 2016

  विनोदकुमार विश्वकर्मा ‘विमल’, सप्तरी । महेन्द्र विन्देश्वरी बहुमुखी कैंपस राजविराज के उपप्राध्यापक सुरेन्द्र प्रसाद गुप्ता द्वारा लिखित ‘व्यावह...

item-thumbnail

ये है, राजधानी ..

0 December 14, 2016

गंगेश मिश्र यहाँ आम, जाम है, जाम, आम है। दिखता हर-पल; सुबह-शाम है। रुक-रुक कर, चलती है गाड़ी, दिल थामे, चलते हैं लोग, साँस भी लेना, दूभर है पर; मज़बूर...

item-thumbnail

क्या है जिन्दगी ?

0 December 9, 2016

मुकेश झा आशा और निराशा के बीच आशा और निराशा के संग आशा और निराशा को छोड़कर जो बढ़ती चली जाती है अविरल अनवरत वही तो है जिन्दगी। सुख और दुःख के बीच सुख और...

item-thumbnail

अवधी पत्रकार संघ नेपाल केन्द्रीय समिति द्वारा पदभार

0 December 9, 2016

नेपालगन्ज,(बाके) पवन जायसवाल, २०७३ मंसीर २४ गते । अवधी पत्रकार संघ नेपाल केन्द्रीय समिति की मंसीर १८ गते को बैठी बैठक ने विभिन्न निर्णय किया है । नव न...

item-thumbnail

जनकपुर में साहित्य, कला उत्सव का आयोजन

0 December 7, 2016

विजेता चौधरी जनकपुरधाम, ७ दिसम्बर । मैथिली भाषा साहित्य व कला की त्रिवेणी जनकपुरधा में पहली बार साहित्य, कला उत्सव २०७३ का भव्य आयोजन होने जा रही है ।...

item-thumbnail

कहानी :आस्था

0 November 29, 2016

रमा पोखरेल आज मंगलवार का दिन है । सिद्धि विनायक मन्दिर पर दर्शनार्थियों की भीड़ लगी हुई थी । वह मंगलबार को नित्य, सिद्धि विनायक मन्दिर दर्शन करने जाया ...

item-thumbnail

…दिल से काले परदे को हटा कर तो देख : श्वेता दीप्ति

0 November 29, 2016

श्वेता दीप्ति, काठमांडू ,२९ नवम्बर  | गुजरता वक्त कहता है जरा हमें आजमा कर तो देख, क्यों मायूस है दिल किसी को अपना बना कर तो देख । जाओ बख्श दिया तुम्ह...

item-thumbnail

भ्रमर की मैथिली कृति सीमा के आर–पार का लोकार्पण तथा विमर्श

0 November 29, 2016

विजेता चौधरी, दरभंगा २९ नवम्बर । मैथिली साहित्य के सिद्धहस्त हस्ताक्षर डा. रामभरोस कापडि भ्रमर के मैथिली यात्रा साहित्य सीमा के आर–पार कृति का लोकार्प...

item-thumbnail

अहमदाबाद इंटरनेशनल लिट्रेचर फेस्टिवल का भव्य आयोजन, साहित्य की सिनेमा में विशेष भूमिका,

0 November 27, 2016

अवनीश, अहमदाबाद, २७ नवम्बर | अहमदाबाद मैनेजमेंट असोसिएशन के विशाल सभागार में अहमदाबाद इंटरनेशनल लिट्रेचर फेस्टिवल का भव्य आयोजन (नवम्बर 12-13 2016) कि...

item-thumbnail

“विपद् और जुनियरयुवा” विषयक कविता प्रतियोगिता

0 November 26, 2016

नेपालगंज,(बाके) २०७३ पवन जायसवाल, मंसीर ११ गते । नेपाल रेडक्रस सोसाइटी बँके जिला शाखा के आयोजन में तथा जुनियर रेडक्रस सर्कल नेपालगंज मोडेल एकेडेमी की ...

item-thumbnail

सो रहा मधेश था,

0 November 26, 2016

गजेन्द्र सिंह .... गंगेश कुमार मिश्र सो रहा मधेश था, निस्तेज सा, बीमार था। रास्ते सब बन्द थे, निकले किधर ? किस ओर से। था दर्द का अहसास,पर; कहता कोई, क...

item-thumbnail

हिंदुस्तानी भाषा अकादमी दिल्ली द्वारा डा.श्वेता दीप्ति सम्मानित

0 November 19, 2016

दिल्ली, संवाददाता, 19 नवम्बर । हिंदुस्तानी भाषा अकादमी दिल्ली द्वारा सम्मान समारोह और सर्व भाषा काव्य महोत्सव आज एक भव्य समारोह के बीच आयोजित की गई । ...

item-thumbnail

अवधी पत्रकार संघ के नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को बधाई तथा सम्मान कार्यक्रम

0 November 16, 2016

नेपालगन्ज,(बाके) पवन जायसवाल मंसीर १ गते । अवधी पत्रकार संघ नेपाल के नव निर्वाचित पधाकारियों को एक कार्यक्रम के बीच में कार्तिक २९ गते सोमवार को नेपाल...

item-thumbnail

छत था, छत न था; क्षत-विक्षत; बचपन था : गंगेश कुमार मिश्र

0 November 14, 2016

एक बच्चा था .. गंगेश कुमार मिश्र , कपिलबस्तु , 29 कार्तिक | °°°°°°°°°°°°°° मासूम सा, भोला सा; एक बच्चा था। कुछ ना कहता, बस, चुप रहता था। कुछ कहने से, ...

item-thumbnail

हे महाकवि जन्म दिवस पर, मिथिला वासी करे प्रणाम : मुकेश झा

0 November 13, 2016

  डा.मुकेश झा ,जनकपुर , २८ कार्तिक | मिथिला के हो तुम पहचान आन बान और इसके शान धन्य हैं तुम से मिथिला मैथिल विद्यापति हो तुम महान्     ...

item-thumbnail

लेखक की स्याही :

1 November 11, 2016

मुरलीमनोहर तिबारी (सिपु), बीरगंज , ११, नवम्बर | पत्रिका के प्रबन्ध निदेशक और सम्पादक महोदया, दोनों गंभीर आर्थिक बिषय पर चर्चा कर रहे थे, काफी विचार वि...

item-thumbnail

डा. सिके राउत द्वारा कविता संग्रह का विमोचन, कहा जनमतसंग्रह एक मात्र विकल्प

0 November 7, 2016

कार्तिक २२। सिरहा के सन्हैठा गाविस में कवि राम विलाश यादव द्वारा लिखित ‘सुमुधुर मनोवर्धक’ नामक कविता संग्रह का विमोचन डा. सिके राउत की प्र...

item-thumbnail

कोहलपुर में बृहत कवि गोष्ठी सम्पन्न

0 November 5, 2016

नेपालगन्ज,(बाके), पवन जायसवाल,२०७३ कार्तिक २० गते । बाके जिला के कोहलपुुर में हाम्रो पूर्णिमा साहित्य प्रतिष्ठान और कला साहित्य डट कम की सहकार्य में ब...

item-thumbnail

ओली की नादानी : गंगेश कुमार मिश्र

0 November 4, 2016

गंगेश कुमार मिश्र, कपिलबस्तु, ४, नवम्बर | ओली की नादानी .. ★★★★★ पूर्ववत् ! चर्चा में चहुँओर, ओली की नादानी है। दम्भ भरे कुटिल से, उम्मीद करना ही, बेई...

item-thumbnail

संशोधित न, हुआ विधान : गंगेश कुमार मिश्र

0 October 28, 2016

गंगेश कुमार मिश्र, कपिलबस्तु, २८ अक्टूबर | संशोधित न हुआ विधान, इस ओर नहीं ? त्रि-दल का ध्यान। शासन-सत्ता, खाते भत्ता, देश बना है, आज मसान । संशोधित न...

item-thumbnail

इस वर्ष का बुकर पुरस्कार अमेरिकी लेखक पल बिटी को प्रदान

0 October 26, 2016

२६ अक्टुबर । अमेरिकी लेखक पल बिटी ने इस वर्ष का प्रसिद्ध बुकर पुरस्कार प्राप्त करने में सफल हुए हैं । उनका उपन्यास दि सेलआउट के लिए उक्त पुरस्कार दिया...

item-thumbnail

लोकमान ने देश को जोकमान बनाकर नागरिकों को शोकमान और भोकमान बना दिया

0 October 26, 2016

बिम्मी शर्मा, काठमांडू, २६ अक्टूबर | यह देश जोकरों का है इसी लिए जोकतंत्र यहां फलफूल रहा है । इसी जोकतंत्र में जोकमान जैसे लोग अपना स्वार्थ सिद्ध करने...

item-thumbnail

“पर उपदेश कुशल बहुतेरे”

0 October 25, 2016

उपदेश है भई हर कोई बैठे बिठाए देना चाहता है पर कोई लेटे लिटाए नहीं लेना चाहता । लेने वाला चाहता है सहयोग पर देने वाला सहयोग की मूठ्ठी तो बंद कर देता ह...

item-thumbnail

मिथिला विश्वविद्यालय हिंदी विभाग द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित

0 October 18, 2016

दरभंगा ,१८ अक्टूबर | यू जी सी संपोषित अन्तर्राष्ट्रीय संगोष्ठी ललितनारायण मिथिला विश्वविद्यालय हिंदी विभाग द्वारा आज आयोजित किया गया | संगोष्ठी का विष...

item-thumbnail

नेपालगन्ज में लक्ष्मीप्रसाद देवकोटा की जयन्ती महोत्सव की तैयारी

0 October 18, 2016

नेपालगन्ज,(बाके) पवन जाससवाल, २०७३ कार्तिक २ गते । कला संस्कृति और साहित्य की संरक्षण करने हेतु से स्थापना हुआ बार्दली फाउन्डेसन के आयोजन में महाकवि ल...

item-thumbnail

प्रेम गली अति सांकरी….. :बिम्मी शर्मा

0 October 17, 2016

बिम्मी शर्मा, काठमांडू, १७ अक्टूबर | प्रेम कि गली ईतनी सांकरी होती है कि उसमें एक के सिवा दुसरा कोई समा नहीं पाता या रह नहीं सकता । पर नफरत की गली ईतन...

item-thumbnail

साहित्य का नोबेल पुरस्कार जाने माने गीतकार और गायक बॉब डिलन को

0 October 13, 2016

13, अक्टूबर । 2016 के लिए साहित्य का नोबेल पुरस्कार जाने माने गीतकार और गायक बॉब डिलन को दिया गया है. नोबेल समिति ने इस बारे में घोषणा करते हुए कहा कि...

item-thumbnail

नेपालगन्ज में विश्व अहिंसा दिवस पर बहुभाषिक कवि गोष्ठी

0 October 8, 2016

नेपालगन्ज,(बाके) पवन जायसवाल, आसोज २२ गते । बाके जिला में विश्व अहिंसा दिवस के अवसर पर सामाजिक सदभाव तथा शान्ति के लिये बहु भाषिक कवि गोष्ठी नेपालगन्ज...

item-thumbnail

चमन हमारा क्रांति का आशान्वित है

0 September 29, 2016

डा. मुकेश झा रक्त से सिंचित और पल्लवित चमन हमारा क्रांति का आशान्वित है हम देखेंगे समय अमन और शांति का बिना क्रन्ति की शांति कहाँ दुनियाँ में किसने पा...

item-thumbnail

पिता

0 September 28, 2016

कहते हैं हमारे वज़ूद को इस धरती पर लाने वाली होती हैं माँ जो नौ महीने एक अंश के रूप में हमें अपनी कोख में सहेजती अपने खून से हमें सींच कर इस ज़मी पर उता...

item-thumbnail

‘मैथिली पत्रकारिता सम्मान-2016’’ से सम्मानित हुए मिथिला मिरर के संपादक ललित

0 September 28, 2016

हिमालिनी ,२८ सेप्टेम्बर,दिल्ली मिथिला विकास परिषद् कोलकाता द्वारा क्रांतिकारी मैथिली आंदोलनी बाबू साहेब चैधरी के जन्म शताब्दी और कविचूड़ामणि काशीकांत म...

item-thumbnail

क्रियेटिव ब्रिज के बैनर के तले जरा फाउन्डेशन द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय काव्यपाठ

0 September 27, 2016

काठमान्डौ, २७ सितम्बर क्रियेटिव ब्रिज के बैनर के तले नेपाल ऐकेडमी में आज जरा फाउन्डेशन ने अन्तर्राष्ट्रीय काव्यपाठ का आयोजन किया । जिसमें भारत, भूटान,...

item-thumbnail

मोबाईल मेनिया – शादी का वह लड्डू, जो न खाए पछताए और जो खाए वह भी पछताए

0 September 26, 2016

बिम्मी शर्मा , काठमांडू, २६ सेप्टेम्बर | लोग बाहर जाते समय कपडे पहनना भूल जाएँगें पर मोबाईल साथ ले कर चलना नहीं भूलेंगे । अंतः वस्त्र में ही घर से बाह...

item-thumbnail

हमको अपना अधिकार मिले इससे अधिक की चाह नही

0 September 24, 2016

डा. मुकेश झा गद्दारी करते हैं जो गद्दार हमे बतलाते है हर बात जो सहते जाते इस लिए हमे दबाते हैं। कब तक यूँही सहते जाएँ हम अपने ऊपर अत्याचार लेना निर्णय...

1 2 3 6