item-thumbnail

हिंदी साहित्य के एक अनमोल रत्न – सुमित्रानन्दन पंत जी

0 June 18, 2017

साहित्य की इस बार की श्रृंखला को ले कर मैं मनीषा फिर एक बार आप के समक्ष  इस बार के हमारे लेख के महानायक हैं हिंदी साहित्य के एक अनमोल रत्न जी हां सुमि...

item-thumbnail

महादेवी जी वर्मा “आधुनिक युग की मीरा”

0 June 11, 2017

साहित्य की इस बार की श्रृंखला को आगे बढाते हुए विश्व विख्यात महादेवी जी वर्मा के जीवन परिचय , उनकी उपलब्धियों, उनके पुरुस्कार, उनकी कृतियों, से अवगत क...

item-thumbnail

बाेये पेड बबूल का अाम कहाँ से खाए, ९जून कबीर जयंती ।

0 June 9, 2017

कबीर जयंती: कबीर ने स्वावलंबन की राह दिखाने के साथ मुक्ति का सही अर्थ भी बताया… जन्म से लेकर युवावस्था तक संघर्ष की आंच में तपने वाले कबीर दास क...

item-thumbnail

जानें प्रधानमंत्री देउवा के जन्मकुण्डली, संशोधन विद्येयक पास करानें की प्रतिवद्धता

0 June 7, 2017

हिमालिनी डेस्क काठमांडू, ७ मई । आज व्यवस्थापीका संसद से चौथी बार देश के प्रधानमंत्री के पद पर निर्वाचित नेपाली कांग्रेस के सभापति शेरबहादुर देउवा का ज...

item-thumbnail

साहित्यकार शर्मा की याद में श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित

0 June 4, 2017

काठमाडौं २१ जेठ – वरिष्ठ साहित्यकार श्यामप्रसाद शर्मा के निधन से नेपाली साहित्य को अपूरणीय क्षति हुई है । शर्मा की स्मृति में प्रगतिशील लेखक सङ्घ ने श...

item-thumbnail

माहत्मा कबीर जी का जीवन परिचय उनके उपदेश तथा उनकी कृतियां

0 June 4, 2017

साहित्य जगत के प्रख्यात कवि माहत्मा कबीर जी का जीवन परिचय उनके उपदेश तथा उनकी कृतियां उनके सम्पूर्ण व्यक्तित्व को उजागर करती है …… कबिर जी...

item-thumbnail

हिन्दी सिनेमा की सर्वप्रिय अदाकारा नूतन

0 June 4, 2017

नूतन का जन्म४ जून १९३६ और निधन २१ फ़रवरी १९९१ को हुआ था । नूतन हिन्दी सिनेमा की सबसे प्रसिद्ध अदाकाराओं में से एक रही हैं। नूतन का जन्म ४ जून १९३६ को ...

item-thumbnail

नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है .दुष्यन्त कुमार

0 June 3, 2017

2 जून दुष्यंत कुमार उत्तर प्रदेश के बिजनौर के रहने वाले थे। जिस समय दुष्यंत कुमार ने साहित्य की दुनिया में अपने कदम रखे उस समय भोपाल के दो प्रगतिशील श...

item-thumbnail

सुभद्रा कुमारी चौहान

1 May 28, 2017

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी, बूढ़े भारत में भी आई फिर से नयी जवानी थी,  गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,  दूर फिरंगी को करने की ...