item-thumbnail

प्रेमचंद, मुंशी प्रेमचंद कैसे बन गए ?

0 October 23, 2017

२३ अक्टुवर     मुंशी प्रेमचंद हिंदी कथा साहित्य के महान साहित्यकार माने जाते हैं. उन्होंने न केवल कहानी बल्कि उपन्यास लेखन में भी ऐसा काम कि...

item-thumbnail

महर्षि वाल्मीकि कवि,शिक्षक और ज्ञानी ऋषि थे.

0 October 23, 2017

महर्षि वाल्मीकि का जीवन – परिचय – Maharshi Valmiki Ki Jeevani आज मैं एक बार फिर हिमालिनी पत्रिका (नेपाल ) के साहित्यिक कॉलम में ले कर आई हूं “रा...

item-thumbnail

एक अनाेखा अाैर प्रेरक व्यक्तित्व अब्दुल जेपी कलाम

0 October 18, 2017

चंद्रगुप्त मौर्य के गुरू और प्रधानमंत्री चाणक्य एक झोपड़ी में रहते थे. एक दिन एक मेहमान उनसे मिलने पहुंचा. चाणक्य एक दिये की रोशनी में बैठे कुछ लिख रह...

item-thumbnail

क्या कार्लमार्क्स खुद मार्क्सवादी थे ?

0 October 17, 2017

१७ अक्टुवर राम यादव जर्मनी के धुर पश्चिम में एक नदी है मोज़ल. उसी पर बसा है ट्रीयर नाम का दो हज़ार साल पुराना एक सुरम्य नगर. जनसंख्या एक लाख से कुछ ही...

item-thumbnail

विश्व साहित्य की सर्वोत्तम कृतियों में अभिज्ञान शाकुन्तल

0 October 16, 2017

हिमालिनि पत्रिका ( नेपाल ) की इस बार की साहित्यिक श्रृंखला में मैं मनीषा गुप्ता महाकवि कालिदास जी के व्यक्तित्व व उनके महाकाव्य # अभिज्ञान शाकुंतलम पर...

item-thumbnail

सुरों की मलिका शमशाद बेगम Shamshad Begum

0 October 8, 2017

जी हाँ सहित्य और संगीत का एक अटुट रिश्ता रहा है संगीत को साहित्य के प्राण भी कहा जाए तो अतिशयोक्ति नही होगा आज मैं मनीषा गुप्ता हिमालिनी पत्रिका ( नेप...

item-thumbnail

क्रांति के प्रतीक भगत सिंह ने क्या लिखा था अपने खत में ?

0 September 28, 2017

२८ सितम्बर   28 सितंबर 1907 को पैदा हुए और सिर्फ 23 साल की उम्र में देश की आजादी के लिए फांसी के फंदे पर झूल गए. उससे पहले अंग्रेजों के खिलाफ लोग...

item-thumbnail

अंतोन चेखव जी के साथ उनकी कहानी के कुछ अंश

0 September 24, 2017

आज हिमालिनी पत्रिका ( नेपाल)  के आभार स्वरूप एक ऐसे लेखक से आप को रूबरू करवाते हुए खुद को गौरवान्वित महसूस कर रही हूँ जो की रूसी परिवेश से आत्मसात होत...

item-thumbnail

हरिवंशराय बच्चन का नाम सुनते ही याद आती है मधुशाला : मनीषा गुप्ता

0 September 17, 2017

खुद को गौरवान्वित महसूस होता है आज इतने महान लेखक कवि स्वर्गीय हरिवंश बच्चन राय जी की जीवनी आप सब के समक्ष प्रस्तुत करते हुए आभार हिमालिनी पत्रिका (ने...

item-thumbnail

पर्यावरण के सजग प्रहरी डा‍ विजय पण्डित नेपाल में अक्षर मार्ग अन्तरराष्ट्रीय सम्मान से सम्मानित

0 September 13, 2017

१३ सितम्बर भारत ही  नहीं नेपाल में भी पर्यावरण संरक्षण पर्यावरण शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत संस्था ग्रीन केयर साेसाइटी के संस्थापक डा‍ विजय पण्डित क...

item-thumbnail

माहन इंसान .. गुलज़ार साहेब ! चंद पंक्तियों से उनके जीवन की अनुभूति

0 September 10, 2017

आज साहित्य की इस श्रृंखला को आगे बढ़ाते हुए में मनीषा गुप्ता हिमालिनी पत्रिका (नेपाल) से आप लोगो के समक्ष जिन साहित्यकार , गीतकार , जिनका एक एक शब्द का...

item-thumbnail

ज्ञान हमें शक्ति देता है, प्रेम हमें परिपूर्णता देता है :  डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन

0 September 5, 2017

५ सितम्बर शिक्षक समाज के ऐसे शिल्पकार होते हैं जो बिना किसी मोह के इस समाज को तराशते हैं। शिक्षक का काम सिर्फ किताबी ज्ञान देना ही नहीं बल्कि सामाजिक ...

item-thumbnail

गम्भीर पत्रकारिता के पुराेधा धर्मवीर भारती

0 September 4, 2017

४ सितम्बर धर्मवीर भारती का जन्म 25 दिसंबर 1926 को इलाहाबाद के अतर सुइया मुहल्ले में हुआ। उनके पिता का नाम श्री चिरंजीव लाल वर्मा और माँ का श्रीमती चंद...

item-thumbnail

शैलेश मटियानी सर्वश्रेष्ठ कथाकारों में आतें हैं

0 September 3, 2017

साहित्य की इस श्रृंखला में इस बार हम आप का परिचय करवा रहे है उत्तराखंड के आंचलिक कवि स्वर्गीय शैलेश मटियानी जी से ……. मैं मनीषा गुप्ता हिम...

item-thumbnail

शब्दो और एहसासों की मलिका सुप्रसिद्ध कवयित्री अमृता प्रीतम

0 August 27, 2017

अमृता प्रीतम – Amrita Pritam व्यक्तित्व और कृतित्व की इस श्रृंखला को आगे बढाते हुए में मनीषा गुप्ता हिमालिनी पत्रिका (नेपाल)  के कॉलम में सुप्रसिद्ध क...

item-thumbnail

के आर एकल यात्री के सपनो को एक ऊंची उड़ान मिले ( शुभकामना )

0 August 20, 2017

नमस्कार, जी हाँ मैं मनीषा हिमालिनी पत्रिका (नेपाल), कॉलम व्यक्तित्व और कृतित्व की श्रंखला में पूरे संसार के जाने माने, प्रसिद्ध , साहित्य को रोम रोम म...

item-thumbnail

प्रगतिशील काव्यधारा के प्रमुख हस्ताक्षर कवि त्रिलोचन अाज है इनका जन्मदिन

0 August 20, 2017

२०अगस्त कवि त्रिलोचन को हिन्दी साहित्य की प्रगतिशील काव्यधारा का प्रमुख हस्ताक्षर माना जाता है। वे आधुनिक हिंदी कविता की प्रगतिशील त्रयी के तीन स्तंभो...

item-thumbnail

हिन्दी साहित्य जगत के प्रकाण्ड विद्वान हजारी प्रसाद दि्वेदी का अाज है जन्मदिन

0 August 19, 2017

१९अगस्त मूल नाम : बैजनाथ द्विवेदी जन्म : 19 अगस्त 1907, दुबे का छपरा (गाँव), बलिया (उत्तर प्रदेश)भाषा : हिंदीविधाएँ : आलोचना, उपन्यास, निबंध आचार्य हज...

item-thumbnail

बाबा नागार्जुन हिन्दी, मैथिली, संस्कृत तथा बांग्ला में कविताएँ लिखते थे

0 August 18, 2017

साहित्य की इस बार की श्रंखला को आगे बढाते हुए हम कवि , लेखक , उपन्यास कार नागार्जुन जी के जीवन से जुड़ते हुए उनकी लिखित कृतियों के बारे में जानेगे R...

item-thumbnail

जनकनन्दिनी की गाथा श्री सीतायण

0 August 14, 2017

१४अगस्त डा. एम.गोविन्दराजन बहुमुखी प्रतिभा के धनी व्यक्तित्व हैं । आपकी सहृदयता एवं सौम्यता सहज ही आकर्षित करती है । विभिन्न भाषाओं पर पकड़ और उसमें र...

item-thumbnail

तुलसीदास जयंती की शुभकामनाओं सहित : तुलसीदास जी का जीवन परिचय

0 July 30, 2017

आज की इस साहित्य श्रंखला को हिमालिनी पत्रिका 【 नेपाल 】 संग आगे बढ़ाते हुए आज तुलसीदास जयंती की शुभकामनाओं सहित उनका जीवन परिचय ..लेकर आई हूं मैं मनीषा ...

item-thumbnail

हिंदी साहित्य की बहुआयामी प्रतिभा भीष्म साहनी जी

0 July 23, 2017

इस बार साहित्य की श्रृंखला में हम आत्म सात करेंगे हिंदी साहित्य की बहुआयामी प्रतिभा भीष्म साहनी जी से | तो आइए हिमालिनी पत्रिका ( नेपाल ) संग मैं मनीष...

item-thumbnail

हिंदी साहित्य के बेताज बादशाह सूरदास जी का जीवन और कृतियों

0 July 16, 2017

हिंदी साहित्य की श्रंखला को आगे बढाते हुए हिमालिनी संग मनीषा गुप्ता …… हिंदी साहित्य के बेताज बादशाह #सूरदास जी का जीवन और कृतियों सहित &#...

item-thumbnail

सुविख्यात लेखक और प्रतिभाओं के धनी स्व. पंडित प्रताप नारायण मिश्र

0 July 9, 2017

साहित्य की इस बार की अपनी श्रंखला को आगे बढ़ाते हुए हम हिमालिनी(पत्रिका) और आप लोगो के संग आगे बढ़ते हैं और जानते है सुविख्यात लेखक और प्रतिभाओं के धनी ...

item-thumbnail

साहित्य जगत के बादशाह सूर्यकांत त्रिपाठी ‘निराला’ : जीवन एवं कृतित्व

0 July 2, 2017

एक बार फिर साहित्य की इस श्रृंखला को आप सभी के सहयोग और हिमालिनी के साहित्य के प्रति समर्पित ज़ज्बे को आगे  बढाते हुए मैं मनीषा गुप्ता आप लोगो के समक्ष...

item-thumbnail

केशवदास जी का जीवन परिचय और उनकी साहित्यिक प्रेरणा

0 June 25, 2017

यकीनन साहित्य एक असीम विस्तृत सागर है जिसमे जितने गहरे उतरेंगे उतने ही रत्न प्राप्त होंगे ……… नमस्कार, मैं मनीषा गुप्ता हिंदी साहित्...

item-thumbnail

हिंदी साहित्य के एक अनमोल रत्न – सुमित्रानन्दन पंत जी

0 June 18, 2017

साहित्य की इस बार की श्रृंखला को ले कर मैं मनीषा फिर एक बार आप के समक्ष  इस बार के हमारे लेख के महानायक हैं हिंदी साहित्य के एक अनमोल रत्न जी हां सुमि...

item-thumbnail

महादेवी जी वर्मा “आधुनिक युग की मीरा”

0 June 11, 2017

साहित्य की इस बार की श्रृंखला को आगे बढाते हुए विश्व विख्यात महादेवी जी वर्मा के जीवन परिचय , उनकी उपलब्धियों, उनके पुरुस्कार, उनकी कृतियों, से अवगत क...

item-thumbnail

बाेये पेड बबूल का अाम कहाँ से खाए, ९जून कबीर जयंती ।

0 June 9, 2017

कबीर जयंती: कबीर ने स्वावलंबन की राह दिखाने के साथ मुक्ति का सही अर्थ भी बताया… जन्म से लेकर युवावस्था तक संघर्ष की आंच में तपने वाले कबीर दास क...

item-thumbnail

जानें प्रधानमंत्री देउवा के जन्मकुण्डली, संशोधन विद्येयक पास करानें की प्रतिवद्धता

0 June 7, 2017

हिमालिनी डेस्क काठमांडू, ७ मई । आज व्यवस्थापीका संसद से चौथी बार देश के प्रधानमंत्री के पद पर निर्वाचित नेपाली कांग्रेस के सभापति शेरबहादुर देउवा का ज...

item-thumbnail

साहित्यकार शर्मा की याद में श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित

0 June 4, 2017

काठमाडौं २१ जेठ – वरिष्ठ साहित्यकार श्यामप्रसाद शर्मा के निधन से नेपाली साहित्य को अपूरणीय क्षति हुई है । शर्मा की स्मृति में प्रगतिशील लेखक सङ्घ ने श...

item-thumbnail

माहत्मा कबीर जी का जीवन परिचय उनके उपदेश तथा उनकी कृतियां

0 June 4, 2017

साहित्य जगत के प्रख्यात कवि माहत्मा कबीर जी का जीवन परिचय उनके उपदेश तथा उनकी कृतियां उनके सम्पूर्ण व्यक्तित्व को उजागर करती है …… कबिर जी...

item-thumbnail

हिन्दी सिनेमा की सर्वप्रिय अदाकारा नूतन

0 June 4, 2017

नूतन का जन्म४ जून १९३६ और निधन २१ फ़रवरी १९९१ को हुआ था । नूतन हिन्दी सिनेमा की सबसे प्रसिद्ध अदाकाराओं में से एक रही हैं। नूतन का जन्म ४ जून १९३६ को ...

item-thumbnail

नाव जर्जर ही सही, लहरों से टकराती तो है .दुष्यन्त कुमार

0 June 3, 2017

2 जून दुष्यंत कुमार उत्तर प्रदेश के बिजनौर के रहने वाले थे। जिस समय दुष्यंत कुमार ने साहित्य की दुनिया में अपने कदम रखे उस समय भोपाल के दो प्रगतिशील श...

item-thumbnail

सुभद्रा कुमारी चौहान

1 May 28, 2017

सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी, बूढ़े भारत में भी आई फिर से नयी जवानी थी,  गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,  दूर फिरंगी को करने की ...