Thu. Feb 14th, 2019

अविश्वास प्रस्ताव विपक्ष के खोखलेपन को उजागर करने का मौका दिया : PM मोदी

radheshyam-money-transfer
नयी दिल्ली : लोकसभा में पिछले दिनों अपनी सरकार के खिलाफ पेश अविश्वास प्रस्ताव को लेकर कांग्रेस पर तंज कसते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि वह कांग्रेस के आभारी हैं कि उसने विपक्ष के खोखलेपन को उजागर करने का मौका दिया और लोगों को अपनी सरकार की सफलता के बारे में सूचित किया.
संसद के मानसून सत्र के दौरान भाजपा संसदीय पार्टी की पहली बैठक के बाद संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि बैठक में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि विपक्ष की ओर से पेश प्रस्ताव उनकी राजनीतिक अपरिपक्वता को एवं समझ की कमी को दर्शाता है क्योंकि उनकी सरकार न आंकड़ों के मामले में कम थी और न ही देश में उसके खिलाफ किसी तरह का विरोधात्मक राजनीतिक माहौल था. सरकार के खिलाफ पेश विपक्ष के अविश्वास प्रस्ताव में जीत के बाद भाजपा संसदीय पार्टी की बैठक में पार्टी नेताओं एवं सांसदों ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को बधाई दी. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने प्रधानमंत्री को लड्डू खिलाया.
एक सूत्र ने मोदी को उद्धृत करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने पार्टी सदस्यों और सहयोगियों को प्रस्ताव के गिरने के लिए बधाई दी तथा इसे लाने वालों को ‘दोहरी बधाई’ दी. उन्होंने कहा कि सरकार को अपने साढ़े चार साल के कार्यकाल की सफलता को लोगों के साथ साझा करने तथा विपक्ष की हकीकत उजागर करने का मंच मिला. उन्होंने कहा कि अफ्रीकी देश युगांडा में भी प्रस्ताव पर हुई बहस पर वहां रहने वाले भारतीयों की गहरी नजर थी. मोदी ने हाल ही में यहां का दौरा किया था. कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि कोई भी परिपक्व राजनीतिक दल ऐसी गलती नहीं करेगा. दरअसल कांग्रेस ने भी अपनी तरफ से अविश्वास प्रस्ताव दिया था लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ने तेदपा के प्रस्ताव को लिया क्योंकि इसे पहले सूचीबद्ध किया गया था. उन्होंने कहा कि अब इस मामले पर लीपापोती के लिये वह अप्रासंगिक मुद्दे उठा रही है. वह संभवत: राफेल करार को लेकर सरकार पर कांग्रेस के हमले के संदर्भ में बोल रहे थे.
बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा पार्टी के प्रमुख नेता शामिल हुए जिनमें केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज, नितिन गडकरी, राजनाथ सिंह, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और पार्टी के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी आदि शामिल थे. पार्टी सूत्रों ने बताया कि इस समय इस प्रकार के प्रस्ताव को लाने का कोई कारण नहीं था. यह प्रस्ताव 126 के मुकाबले 325 मतों से गिर गया था. बैठक के दौरान सुषमा स्वराज ने भारी अंतर से विपक्ष की पराजय के विषय को उठाते हुए विपक्षी दलों पर निशाना साधा, वहीं गडकरी ने कहा कि विपक्ष अनेक मुद्दों पर जनता में भ्रम फैला रहा है. प्रधानमंत्री ने कहा कि इस जीत के लिए भाजपा और उसके सहयोगी दलों के सदस्यों का अभिनंदन किया जाना चाहिए. अनंत कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री ने अविश्वास प्रस्ताव के दौरान गृह मंत्री राजनाथ सिंह के भाषण की सराहना की और इसे लोगों तक ले जाने को कहा. प्रभात खबर ने यह जानकारी दी है |

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of