ब्राजील के नेशनल म्‍यूजियम में लगी भीषण आग में कई ऐतिहासिक धरोहर जलकर खाक हो गईं। यह म्‍यूजियम कभी यहां का रॉयल पैलेस हुआ करता था जिसको करीब दो सौ वर्ष पहले म्‍यूजियम में बदल दिया गया था। यह म्‍यूजियम ब्राजील के इतिहास और न मालूम कितनी अनमोल धरोहरों को संजाए हुए था।

हाल ही में पूरे हुए थे 200 वर्ष 
आपको बता दें कि यह नेशनल म्‍यूजियम कभी पुर्तगाली रॉयल फैमिली का आलीशान घर हुआ करता था। मौजूदा समय में यह देश का सबसे पुराना म्‍यूजियम था। इत्‍तफाक ये है कि 6 जून 2018 को ही इसके दो सौ वर्ष पूरे हुए थे।

नहीं हो सकेगी नुकसान की भरपाई
ब्राजील के राष्‍ट्रपति माइकल तेमर ने कहा कि इस आग से हुई क्षति का अंदाजा लगापाना भी नामुमकिन है। उनका यह बयान वास्‍तव में ही सच है। ऐसा इसलिए है क्‍योंकि रियो द जिनेरियो में स्थिति इस नेशनल म्‍यूजियम में बड़ी संख्‍या में कलाकृतियां रखी गई थीं। इसके अलावा यहां पर बायोलॉजिकल एंर्थोपोलॉजी, एथनोलॉजी, जियोलॉजी, जूलॉजी समेत कई दूसरे विषयों से जुड़े कई दस्‍तावेज भी यहां पर रखे गए थे। इस आग ने जितना नुकसान किया है उसकी भरपाई किसी के लिए भी आसान नहीं है।

नष्‍ट हो ऐतिहासिक चीजें 
आग से सैकड़ों वर्ष पुराने ऐतिहासिक प्रमाण भी नष्‍ट हो गए। इसके अलावा वर्षों पुराने रिसर्च पेपर भी खत्‍म हो चुके हैं। यह आग रविवार शाम करीब 7:30 बजे लगी थी। इस नेशनल म्‍यूजियम को फेडरल यूनिवर्सिटी मैनेज करती है। यहां पर लगी आग बुझाने के लिए दमकल कर्मियों को काफी मशक्‍कत करनी पड़ी।

यह म्‍यूजियम कहीं न कहीं यहां के लोगों के दिलों से काफी जुड़ा हुआ था। इस आग के वीडियो को सोशल मीडिया पर भी पोस्‍ट कर अफसोस जताया गया।

ये चीजें भी हुई नष्‍ट 
यहां पर अमेरिकी इतिहास से जुड़े कई ऐतिहासिक दस्‍तावेज भी रखे गए थे। इसके अलावा प्री कोलंबियन ईरा की ममी, जिसे एंडीन स्‍क्‍लेटन कहा जाता है, भी वहां पर रखी गई थी। यह ब्राजील में पाई गई करीब 11 हजार वर्ष पुरानी महिला के सिर की हड्डी है।

इस महिला की 25 वर्ष की आयु में मृत्‍यु हो गई थी। इसके अलावा इस म्‍यूजियम में 1784 में मिला सबसे बड़ा उल्‍का पिंड था। इसका वजन जानकर आप भी दंग रह जाएंगे। यह करीब 5.36 टन का था। इस म्‍यूजियम में मिस्र से जुड़ी कई ऐतिहासिक धरोहर भी रखी गई थीं जो इस आग में खाक हो गई हैं।

साभार दैनिक जागरण