Tue. Jun 18th, 2019

आरुबाेटे नरसंहार : घटनास्थल पर आजतक काेई जनप्रतिनिधि या मंत्री नहीं पहुँचे गाँववालाें मेंआक्राेश

२५ मई

पाँचथर हत्याकाण्ड ः स्थानीयवासियाें का मानना है कि शीशाकाण्ड पर अगर ध्यान दिया जाता ताे शायद नरसंहार नहीं हाेता । प्रहरी प्रशासन और जनप्रतिनिधि द्वारा शीशा काण्ड अनुसन्धान काे नजरअंदाज किया गया जिसके बाद मिक्लाजुङ गाउँपालिका–३ आरुबोटे में सोमबार रात नौ लाेगाें की बिभत्स हत्या हुई ।

वैशाख ३० गते जस्मिता फियाक के घर में थुक्पा खाजा खाने से आठ लाेग बीमार हाे गए थे । जिसका कारण बाद में पता चला कि नमन कें शीशा मिलाया गया था । इसकी प्रहरी में शिकायत भी की गई थी परन्तु प्रहरी ने इसका अनुसंधान गम्भीरता से नहीं किया यह कहना वहाँ की स्थानीय सीता घिमिरे का है ।

जस्मिता फियाक का श्रीमान् धनराज शेर्मा ने साढुभाइ मानबहादुर माखिम विरुद्ध प्रहरी में शिकायत दर्ज कराई थी ।  और उसके बाद ही यह नरसंहार हुआ और संदिग्ध ने भी आत्महया कर ली । यह पूरी घटना रहस्यमय बनी हुई है । स्थानीयवासियाें का मानना है कि अगर शीशाकाण्ड काे गम्भीरता से पुलिस लेती ताे यह नृशंस हत्याकाण्ड नहीं हाेता । इस दर्दनाक घटना से सभी की आँखें नम हैं वहीं यह शिकायत भी है कि वहाँ के निर्वाचित नेता या मंत्री काेई भी अब तक उस गाँव में नहीं आए हैं ।

 

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of