Fri. Sep 21st, 2018

करवा चौथ पूजा का मूर्हूत : आचार्य राधाकान्त शास्त्री

आचार्य राधाकान्त शास्त्री

करवा चौथ मूर्हूत वह सटीक समय होता है जिसके भीतर ही पूजा करनी होती है। 8 अक्टूबर रविवार को करवा चौथ पूजा के लिए पूरी अवधि 1 घंटे और 14 मिनट है।

करवा चौथ पूजा का समय शाम 5:54 बजे शुरू होगा।
शाम 7:09 पर करवा चौथ पूजा करने का समय खत्म होगा।
करवा चौथ के दिन चंद्रोदय का समय शाम 07:51 रात्रि का होगा। करवा चौथ के दिन चंद्रमा उदय होने का समय सभी महिलाओं के लिए बहुत महत्व का है क्योंकि वे अपने पति की लम्बी उम्र के लिये पूरे दिन (बिना पानी के) व्रत रखती हैं। वे केवल उगते हुये पूरे चाँद को देखने के बाद ही पानी पी सकती हैं। ये माना जाता है कि, चाँद देखे बिना व्रत अधूरा है और कोई महिला न कुछ भी खा सकती हैं और न पानी पी सकती हैं। करवा चौथ व्रत तभी पूरा माना जाता है जब महिला उगते हुये पूरे चाँद को छलनी में घी का दिया रखकर देखती है और चन्द्रमा को अर्घ्य देकर अपने पति के हाथों से पानी पीती है।
करवा चौथ व्रत :-
करवा चौथ का त्यौहार बहुत खुशी के साथ हर साल महिलाओं द्वारा कृष्ण पक्ष में पूरे दिन व्रत रखकर कार्तिक के महीने की चतुर्थी पर मनाया जाता है। यह एक ही तिथि पर भारत के लगभग सभी राज्यों में मनाया जा रहा है। यह हर साल अक्टूबर या नवंबर के महीने में, हिंदू कैलेंडर के अनुसार पूर्णिमा के चौथे दिन पडता है।
करवा चौथ के दिन उपवास रखना का एक बड़ा अनुष्ठान है जिसके दौरान एक शादीशुदा औरत पूरे दिन उपवास रखती है और अपने पति के कल्याण और लंबे जीवन के लिए भगवान गणेश की पूजा करती हैं। विशेष रूप से, ये विवाहित महिलाओं का त्यौहार है, हालांकि कुछ भारतीय क्षेत्रों में; अविवाहित महिलाओं द्वारा भी उनके भविष्य के पति के लिए उपवास रखने की एक परंपरा है। इस दिन पर विवाहित महिलाएँ पूरे दिन उपवास रखती है, शाम को भगवान शिव और उनके परिवार की पूजा करती है, और केवल चन्द्रोदय देखने के बाद देर शाम या रात में व्रत खोलती है। करवा चौथ उपवास बहुत मुश्किल है और इसका एक सख्त अनुशासन या नियम है कि कोई महिला सूर्योदय से रात में चंद्रोदय तक कुछ भी भोजन या पानी नहीं ले सकती।
ये करक चतुर्थी के रूप में भी कहा जाता है (करवा या करक का मतलब है एक मिट्टी का बर्तन जिसके उपयोग से औरत चंद्रमा को अर्घ्य देती है)। ब्राह्मण या अन्य विवाहित महिला के लिए कुछ दान और दक्षिणा देने की भी एक परंपरा है।
श्री शिव पार्वती गणेश सब को अखंड सुख सौभाग्य एवं सम्पूर्ण जीवन उत्तम दाम्पत्य सुख प्रदान करें ,
आचार्य राधाकान्त शास्त्री ।।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of