Sun. Sep 23rd, 2018

केपी ओली की राष्ट्रवाद ‘लम्पसारवाद’ में परिणत हो चुका हैः डा. भट्टराई

काठमांडू, २० मई । नयाँ शक्ति पार्टी के संयोजक तथा पूर्वप्रधानमन्त्री डा. बाबुराम भट्टराई ने दावा किया है कि प्रधानमन्त्री केपीशर्मा ओली का राष्ट्रवाद भारतीय प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के नेपाल भ्रमण के दौरान ‘लम्पसारवाद’ में परिणत हो चुका है । उनका मानना है कि मोदी जी नेपाल आते वक्त प्रधानमन्त्री ओली ने सिर्फ पहाडी राष्ट्रवाद को प्रदर्शन किया है, मधेशी, जनजाति और अन्य पीछड़े हुए समुदाय की जो राष्ट्रवाद है, उस में ओली जी सकारात्मक नहीं दिखाई दिए ।


नयां शक्ति पार्टी की प्रचार विभाग द्वारा आइतबार काठमांडू में आयोजित एक कार्यक्रम को सम्बोधन करते हुए पार्टी संयोजक डा. भट्टराई ने कहा– ‘नेपाल के सन्दर्भ में पहाडी समुदायों की जो राष्ट्रवाद है, वही सम्पूर्ण नहीं है । मधेशी, जनजाति और अन्य समुदायों की भी राष्ट्रवाद है, पहाडी राष्ट्रवाद उसको सम्बोधन नहीं कर सकती है । अर्थात् पहाडी राष्ट्रवाद, वास्तविक राष्ट्रवाद नहीं है ।’
नवगठित नेपाल कम्युनिष्ट पार्टी पर टिप्पणी करते हुए डा. भट्टराई ने कहा कि वह भी सक्कली कम्युनिष्ट पार्टी नहीं है । उन्होंने ने आगे कहा– ‘कम्युनिष्ट नाम की आवरण पहने से कोई भी कम्युनिष्ट पार्टी नहीं हो सकती । उनका यह भी मानना है कि नयां शक्ति पार्टी किसी भी नयां पार्टी से एकता करने की पक्ष में भी नहीं है । डा. भट्टराई ने आगे कहा– ‘अगर नयां शक्ति पार्टी की मूल अवधारणा ‘५ स’ के प्रति प्रतिबद्ध होकर कोई पार्टी आती है तो उसके साथ एकता हो सकती है । नहीं तो हम लोग अन्य किसी दूसरे पार्टी के साथ एकीकरण करने के पक्ष में नहीं हैं ।’ डा. भट्टराई को मानना है कि अब अगली चुनाव में जनता के सामने नयां शक्ति की विकल्प में दूसरा पार्टी नहीं है । उन्होने दावा किया– ‘जनता भी इस सत्य को धीरे से समझ रही है ।’

 

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of