Mon. Oct 22nd, 2018

गाँव वालों बंगुर पालन की ओर

नेपालगन्ज,(बाँके) पवन जायसवाल २०७१,फागुन १० गते ।

2घर बगिचा कार्यक्रम अन्तर्गत बंगुर पालन तथा ब्यवस्थापन सम्बन्धी ३ दिनों की तालीम बा“के जिला के कचनापुर गाबिस में सम्पन्न हुआ ।
दलित सेवा संघ बाके के आयोजन में युएससी क्यानाडा पोखरा के सहयोग में बंगुर पालन तथा ब्यवस्थापन सम्बन्धी ३ दिनों की तालीम सम्पन्न हुआ है ।
बंगुर पालन तथा ब्यवस्थापन सम्बन्धी ३ दिनों की तालीम पशु सेवा केन्द्र महादेवपुरी के प्रमुख जय बहादुर कार्की ने सहजीकरण किया था ।
पशुपालन में सक्रियता कें लियें आवश्यक तालीम और पशु उपचारों के बारे में प्राथमिक जानकारी होना चाहिए प्रमुख जय बहादुर कार्की ने बताया । पशु स्वास्थ्य बारे जानकारी न होने से  रोग लगने पर समस्या जटिल होन के बाद में मात्र पता चलता है  समय में ही सूई लगायत की ब्यवस्था कर के रक्ना चाहिए उन्हों ने  सुझाव दिया था ।
स्थानीय स्तरों में रोजगार प्रवद्र्धन करने के लियें के लियें यह तालीम सहयोगी के रुप में रही है । तालीम में महिला पुरुष करके  २३ लोग की सक्रिय सहभागिता रही थी आयोजक ने जानकारी दि है  ।
3कार्यक्रम में बालते हुयें दलित सेवा संघ के अध्यक्ष कृष्ण बहादुर बिक ने बंगुर पालन करने में ग्रामीण क्षेत्र के लियें  रोजगारमुखी पेशा होने के नाते इस तर्फ स्थानीयबासियों को आगे बढने के लियें आग्रह किया  । कार्यक्रम में दलित सेवा संघ के सचिव शिव कुमार सुनार, सदस्य मनबीर परियार, संघ के गा“व इकाई कमिटि अध्यक्ष छबिलाल विश्वकर्मा लगायत लोगों की  सहभागिता रही थी ।
दलित सेवा संघ की सामाजिक परिचालक धनमाया बुढाथोकी ने संचालन किया तालीम में सहभागीयों ने बंगुर पालन की फाइदा और ब्यवस्थापन करने की तरीका के बारे में जानकारी दिया गया था ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of