Mon. Nov 19th, 2018

जानिए कैसे मनाए बहुला चतुर्थी।

आचार्य राधाकांत शास्त्री
बहुला संकष्टी गणेश चौथ व्रत :-
  भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को बहुला चौथ या बहुला चतुर्थी या संकष्टी गणेश चतुर्थी के नाम से जाना जाता है।  यह व्रत 29 अगस्त दिन बुधवार को है। इसे संतान की रक्षा का व्रत भी कहा जाता है। भाद्रपद चतुर्थी तिथि को पुत्रवती स्त्रिया अपने संतान की रक्षा के लिए उपवास रखती है। ऐसा माना जाता है की इस व्रत को करने से संतान के ऊपर आने वाला कष्ट शीघ्र ही समाप्त हो जाता है। इस दिन चन्द्रमा के उदय होने तक बहुला चतुर्थी का व्रत करने का बहुत ही महत्त्व है। वस्तुतः इस व्रत में गौ तथा सिंह की मिट्टी की प्रतिमा बनाकर पूजा करने का विधान प्रचलित है। इस व्रत को गौ पूजा व्रत भी कहा जाता है।
जिस प्रकार गौ माता अपना दूध पिलाकर अपनी संतान के साथ-साथ, सम्पूर्ण मानव जाति की रक्षा करती है, उसी प्रकार स्त्रियाँ अपनी संतान को दूध पिलाकर रक्षा करती है। यह व्रत निःसंतान को संतान तथा संतान को मान-सम्मान एवं ऐश्वर्य प्रदान करने वाला है।
बहुला चतुर्थी व्रत विधि
इस दिन प्रातः काल स्नानादि नित्य क्रिया से निवृत्त होकर शुद्ध वा नया परिधान ( कपड़ा) पहनना चाहिए। इस दिन पुरे दिन उपवास रखने के बाद संध्या के समय गणेश गौरी, योगेश्वर श्रीकृष्ण एवं सवत्सा गौ माता का विधिवत पूजन करना चाहिए । पूजा से पूर्व हाथ में गंध, अक्षत (चावल), पुष्प, दूर्वा, द्रव्य, पुंगीफल और जल लेकर गोत्र, वंशादि के नाम का का उच्चारण कर विधिपूर्वक संकल्प अवश्य ही लेना चाहिए जिससे पूजा का पूर्ण फल  मिलता है।
स्थान विशेष के अनुसार विधि विधान में अंतर हो जाता है अतः क्षेत्र विशेष में जिस विधि से पूजा प्रचलित है उसी विधि के अनुसार पूजा करनी चाहिए। कई स्थानों पर शंख में दूध, सुपारी, गंध तथा अक्षत (चावल) से भगवान श्रीगणेश और चतुर्थी तिथि को चन्द्रमा को भी अर्ध्य दिया जाता है। रात्रि में चन्द्रमा के उदय होने पर अर्ध्य दिया जाता है।
पूजा के समय निम्न मंत्र का शुद्धोच्चारण करना चाहिए।
कृष्णाय वासुदेवाय हरये परमात्मने नमः
प्रणतः क्लेश नाशाय गोविन्दाय नमो नमः ।।
कृष्णाय वासुदेवाय देवकीनन्दनाय च।
नन्दगोपकुमाराय गोविन्दाय नमो नमः।।
त्वं माता सर्वदेवानां त्वं च यज्ञस्य कारणम्।
त्वं तीर्थं सर्वतीर्थानां नमस्तेऽस्तु सदानघे।।
उपर्युक्त मंत्र का शुद्धोच्चारण के बाद निम्न मंत्र का 108 बार जप करना चाहिए।
याः पालयन्त्यनाथांश्च परपुत्रान् स्वपुत्रवत्।
ता धन्यास्ताः कृतार्थश्च तास्त्रियो लोकमातरः ।।
इस दिन पुखे (कुल्हड़) पर पपड़ी आदि रखकर भोग लगाकर पूजन के बाद ब्राह्मण भोजन कराकर उसी प्रसाद में से स्वयं भी भोजन करना चाहिए।
फिर बहुला चतुर्थी व्रत की कथा
 अवश्य ही पढ़ना या सुनना चाहिए। कथा सुनने के बाद ब्राह्मण को भोजन करानी चाहिए तथा उसके बाद स्वयं भोजन करनी चाहिए।
बहुला चतुर्थी व्रत से लाभ :;
 चतुर्थी व्रत करने व्यक्ति को इच्छित सभी मनोकामनाएँ पूर्ण होती हैं। इस व्रत को करने से शारीरिक तथा मानसिक कष्टों से मुक्ति मिलती है। यह व्रत निःसंतान को संतान का सुख देता है। इस व्रत को करने से धन धन्य की वृद्धि होती है। व्रत करने से व्यावहारिक तथा मानसिक जीवन से सम्बन्धित सभी संकट दूर हो जाते हैं। व्रती स्त्री को पुत्र, धन, सौभाग्य की प्राप्ति होती है। संतान के ऊपर आने वाले कष्ट दूर हो जाते है।
बहुला चौथ दिन क्या नही करना चाहिए :-
इस दिन गाय के दूध से बनी हुई कोई भी खाद्य सामग्री नहीं खानी चाहिए। गाय के साथ साथ उसके बछड़े का भी पूजन करना चाहिए। भगवान श्रीकृष्ण और गाय की वंदना करना चाहिए। श्री कृष्ण के सिंह रूप में वंदन करना चाहिए।
बहुला चौथ व्रत, कथा व पूजा विधि :-
शास्त्रों के अनुसार भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी बहुला चौथ या बहुला चतुर्थी कहलाती है। हमारी सनातन संस्कृति का यह उद्देश रहा है की प्राणियों में सदभाव रहे और विश्व का कल्याण हो। हमारी संस्कृति में सभी जीव-जंतुओं के महत्व को स्वीकार किया है। धार्मिक दृष्टिकोण से बहुला चतुर्थी मूलतः गाय माता के पूजन का पर्व है। जिस प्रकार गाय माता अपना दूध पिलाकर मनुष्य को पोषित करती है उसी कृतज्ञता की भावना से हम सभी को गाय को सम्मान देकर पूजना चाहिए। बहुला चतुर्थी पूजन संतान प्रदायक तथा ऐश्वर्य को बढ़ाने वाला है। धार्मिक शास्त्रों में ऐसा वर्णित है की जीवन में माता से बढ़कर गौ माता का स्थान है।
व्रत कथा :-
किसी ब्राह्मण के घर में बहुला नामक एक गाय थी। बहुला गाय का एक बछड़ा था। बहुला को संध्या समय में घर वापिस आने में देर हो जाती तो उसका बछड़ा व्याकुल हो उठता था। एक दिन बहुला घास चरते हुए अपने झुण्ड से बिछड़ गई और जंगल में काफ़ी दूर निकल गई| जंगल में वह अपने घर लौटने का रास्ता खोज रही थी कि अचानक उसके सामने एक खूँखार शेर आ गया। शेर ने बहुला पर झपट्टा मारा। तब बहुला उससे विनती करने लगी कि उसका छोटा-सा बछड़ा सुबह से उसकी राह देख रहा है। वह भूखा है और दूध मिलने की प्रतीक्षा कर रहा है। आप कृपया कर मुझे जाने दें। मैं उसे दूध पिलाकर वापिस आ जाऊँगी, तब आप मुझे खाकर अपनी भूख को शांत कर लेना।
शेर को बहुला पर विश्वास नहीं था कि वह वापिस आएगी। तब बहुला ने सत्य और धर्म की शपथ ली और सिंहराज को विश्वास दिलाया कि वह वापिस जरूर आएगी। शेर से बहुला को उसके बछड़े के पास वापिस जाने दिया। बहुला शीघ्रता से घर पहुँची। अपने बछडे़ को शीघ्रता से दूध पिलाया और उसे बहुत चाटा-चूमा। उसके बाद अपना वचन पूरा करने के लिए सिंहराज के समक्ष जाकर खडी़ हो गई। शेर को उसे अपने सामने देखकर बहुत हैरानी हुई। बहुला के वचन के सामने उसने अपना सिर झुकाया और खुशी से बहुला को वापिस घर जाने दिया। बहुला कुशलता से घर लौट आई और प्रसन्नता से अपने बछडे़ के साथ रहने लगी। तभी से ‘बहुला चौथ’ का यह व्रत रखने की परम्परा चली आ रही है।
एक अन्य कथानुसार
ब्रज में कामधेनु के कुल की एक गाय ‘बहुला’ थी। यह नन्दकुल की सभी गायों में सर्वश्रेष्ठ गाय थी। एक बार भगवान कृष्ण ने बहुला की परीक्षा लेने की सोची। एक दिन जब बहुला वन में चर रही थी, तभी सिंह के रूप में श्रीकृष्ण भगवान ने उन्हें दबोच लिया। बाकी की कथा उपरोक्त लिखित कथा के आधार पर है। बाद में कृष्ण भगवान ने कहा कि बहुला तुम्हारे प्रभाव से और सत्य के कारण कलयुग में घर-घर में तुम्हारा पूजन किया जाएगा। इसलिए आज भी गायों की पूजा की जाती है और वह ‘गौमाता’ के नाम से पुकारी जाती हैं।
 इस प्रकार बहुला चतुर्थी व्रत के पालन से सभी मनोकामनाएँ पूरी होने के साथ ही व्रत करने वाले मनुष्य के व्यावहारिक व मानसिक जीवन से जुड़े सभी संकट दूर हो जाते हैं। यह व्रत संतानदाता तथा धन को बढ़ाने वाला माना जाता है।
उपाय और पूजन विधि-
सुबह के समय दैनिक कृत से निवृत्त होकर हाथ में गंध, चावल, पुष्प, दूर्वा, द्रव्य, पुंगीफल और जल लेकर विधिवत नाम गोत्र वंशादि का उच्चारण कर संकल्प लें। शास्त्रों के अनुसार इस दिन विशेषतः गाय के दूध पर बछड़े का अधिकार होता है। इस दिन गाय के दूध से बनी हुई कोई भी सामग्री नहीं खाएं। आज उपवास रखकर मिट्टी से बने शेर, गाय और बछड़े की पूजा करें। बहुला चतुर्थी में शेर बनाकर बहुला नामक गाय की परीक्षा लेने वाले भगवान कृष्ण की कथा सुनें। संध्या के समय गणपति, गौरी, भगवान शंकर और श्रीकृष्ण एवं बछड़े के साथ गाय का पंचो उपचार पूजन करें। दूर्वा से पानी में चित्रों पर पानी के छींटे मारे। तिल के तेल का दीपक जलाएं। चंदन की धूप जलाएं। चंदन का तिलक अर्पित करें। पीले फूल अर्पित करें। गुड़ और चने के भोग लगाएं। इसके उपरांत चावल, फूल, दूर्वा, रोली, सुपारी और दक्षिणा दोनों हाथों में लेकर भगवान श्रीकृष्ण और गाय की वंदना करें।
पूजन के बाद मिट्टी से बने शेर और गाय और बछड़े पर चावल, फूल, दूर्वा, रोली, सुपारी और दक्षिणा चढ़ा दें तथा कृष्ण जी के किसी मंत्र का तुलसी की माला से जप करें।
रात्रि में चन्द्रमा के उदय होने पर उन्हें अर्ध्य दें। शंख में दूध, सुपारी, गंध तथा चावल से भगवान श्री गणेश और चतुर्थी तिथि को भी अर्ध्य दें। जौ तथा सत्तू का भी भोग लगाएं तथा पूजन से निवृत होकर भोग प्रसाद का ही भोजन करें।  इस पूजन और उपाय से निसंतान को संतान की प्राप्ति होती है। संतान के सुखों में वृद्धि होती है। घर-परिवार में सुख और शांति विद्यमान होती है। व्यक्ति की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। व्यक्ति को मानसिक तथा शारीरिक कष्टों से छुटकारा मिलता है। जो व्यक्ति संतान के लिए व्रत नहीं रखते हैं, उन्हें संकट, विघ्न तथा सभी प्रकार की बाधाएं दूर करने के लिए इस व्रत को अवश्य करना चाहिए।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of