Thu. Oct 18th, 2018

जीत के बाद इमरान ने कहा यदि भारत दोस्‍ती की तरफ एक कदम आगे बढ़ाएगा तो हम दो कदम आगे बढ़ाने को तैयार हैं

२७जुलाई

कैसी होगी इमरान की विदेश नीति

इमरान खान ने माना है मौजूदा हालात में पाकिस्‍तान बेहद अशांत है जहां शांति कायम करने की सबसे अधिक जरूरत है। इसके लिए देश के अंदर और देश के बाहर बेहतर रिश्‍ते बनाने की जरूरत है। आपको बता दें कि इमरान और पाक सेना का काफी करीबी रिश्‍ता है। लिहाजा इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि इमरान की नीतियों में पाकिस्‍तानी सेना की झलक जरूर दिखाई देगी।

चीन : इमरान का कहना है कि चीन से रिश्‍तों को और अधिक मजबूत करना होगा। उन्‍होंने यह भी कहा कि चीन ने पाकिस्‍तान में निवेश कर हमें आगे बढ़ने और तरक्‍की करने का मौका दिया है। इकनॉमिक कॉरिडोर के जरिए चीन ने तरक्‍की का एक मार्ग बनाया है, जिसको अब आगे बढ़ाना है। इसके अलावा चीन से गरीबी दूर करने का भी तरीका भी पाकिस्‍तान को सीखना होगा। इसके अलावा चीन से भ्रष्‍टाचार खत्‍म करने के तरीके को भी सीखना होगा।

अफगानिस्‍तान : इमरान ने कहा कि अफगानिस्‍तान वर्षों से आतंक की मार झेल रहा हे। अफगानिस्‍तान में शांति का अर्थ है पाकिस्‍तान में शांति स्‍थापित होना। उनका कहना था कि वह अफगानिस्‍तान से लगती सीमा को उसी तरह से करना चाहते हैं जैसे यूरापीयन यूनियन के देशों में है।

अमेरिका : अमेरिका से संबंधों को लेकर उन्‍होंने कहा कि वह अमेरिका से ऐसे संबंध चाहते हैं जिसमें दोनों देशों को फायदा हो, न कि एकतरफा।

ईरान और सऊदी अरब : उनका कहना था कि वह ईरान और सऊदी अरब से बेहतर संबंध बनाना चाहते हैं। सऊदी अरब ने बुरे दौर में भी पाकिस्‍तान का साथ दिया है। लिहाजा आपसी परेशानियों को भी हमें आपसी सुलह के साथ सुलझाना होगा।

लाइव स्ट्रिमिंग एपियरेंस में इमरान के बोल
इस वीडियो एपियरेंस में उन्‍होंने कहा कि 22 वर्षों के बाद उनका सत्ता सपना पाने और पाकिस्‍तान को जिन्‍ना के सपनों का देश बनाने का मौका मिला है। 65 वर्षीय इमरान ने ये भी कहा कि उनके सत्‍ता पर काबिज होने के बाद साफ कर दिया कि वह किसी नेता पर द्वेषपूर्ण बर्ताव नहीं करेंगे। इस दौरान उन्‍होंने शाहबाज शरीफ का नाम लिए बिना कहा कि जिन्‍हें चुनाव परिणा पर शक है उनके लिए वह इसकी जांच करवाने को भी तैयार हैं। आपको बता दें कि परिणाम के तुरंत बाद शाहबाज शरीफ ने इन्‍हें खारिज करते हुए कहा कि इनमें धांधली की बात कही थी। शाहबाज की टिप्‍पणी पर उन्‍होंने यहां तक कहा कि अब से पहले कभी पाकिस्‍तान में इतनी पारदर्शिता और इमानदारी से चुनाव नहीं हुए। उन्‍होंने कहा कि वह एक ऐसा पाकिस्‍तान बनाएंगे जो आज तक नहीं बन पाया। इसके अलावा सरकार अपने खर्च को कम से कम करेगी और लोगों की सहूलियत पर ज्‍यादा ध्‍यान देगी। पीएम हाउस जैसे बड़े घरों को शिक्षण संस्‍थान में बदलेगी।

 

हर जगह पीटीआई का लहराया परचम
आपको यहां पर बता दें कि इमरान खान इस चुनाव में पांच जगहों से खड़े हुए थे और पांचों पर ही उन्‍हें जबरदस्‍त जीत हासिल हुई है। इन पांच जगहों में से उन्‍हें महज लाहौर में कुछ चुनौतियों का सामना जरूर करना पड़ा है। वह मियांवाली, बानू, कराची, लाहौर और मूरी से मैदान में थे। इस चुनाव में उन्‍होंने और उनकी पार्टी के दूसरे प्रत्‍याशियों ने कई दिग्‍गजों को धराशायी कर दिया। इनमें पाकिस्‍तान के पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खक्‍कान अब्‍बासी का भी नाम शामिल है। अब्‍बासी दो जगहों से चुनावी मैदान में उतरे थे जहां उन्‍हें शिकस्‍त का सामना करना पड़ा है। इतना ही नहीं पीटीआई के प्रत्‍याशियों से पीएमएल-एन के अध्‍यक्ष शाहबाज शरीफ जो खुद पार्टी की तरफ से पीएम का चेहरा थे, को भी हार का सामना करना पड़ा है। इसके अलावा पीपीपी को भी इस चुनाव में करारी हार का सामना करना पड़ा है। खुद आसिफ अली जरदारी अपनी सीट नहीं बचा पाए। इतना ही नहीं पार्टी के गढ़ ल्‍यारी में पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा है।

 

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of