Thu. Dec 13th, 2018

जेलों को सुधारगृह के रूप में विकसित करने की जÞरूरत हैंः सभामुख महरा


हिमालिनी डेस्क
काठमांडू, ५ अगस्त ।
सभामुख कृष्ण बहादुर महरा ने कहा कि जेलों को सुधारगृह के रूप में विकसित करने की जरूरत है । काठमांडू में एक अंतरक्रिया के दौरान सभामुख महरा ने कहा कि कैदियों को चारदीवारी में कैद करके उन्हें प्रतिशोध या हीनताबोध का रास्ता अपनाने को मजबूर करने और अपराधी या मानसिक रोगी उत्पादन करने का कारखाना नहीं बनने देना चाहिए ।
२४वें आदिवासी दिवस के मौके पर काठंमांडू में आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि आदिवासी–जनजाति समुदाय के अधिकार, प्रतिनिधित्व, स्वायत्तता/स्वशासन और पहचान सहित की संघीयता जैसे मुद्दों को संसद का ही एजेंडा बनाने के हिसाब से बौद्धिक बहस के रूप में ले जाना होगा । साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि जनता की चाह और जरूरत के आधार पर संविधान का संशोधनय किया जा सकता है ।

इसीतरहा, प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने कहा कि नेपाल–भारत के बीच व्यापार में मौजूद समस्या का जल्द ही समाधान किया जाएगा ।
प्रधानमंत्री निवास बालुवाटार में उद्योग संघ मोरंग द्वारा बुलाए गए अंतरक्रिया कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ओली ने ये बात कही । उन्होंने बताया कि भारत के साथ व्यापारिक असमझदारी को खत्म करने के उद्देश्य के साथ उद्योग वाणिज्य तथा आपूर्ति मंत्रालय के सहसचिव के नेतृत्व में एक टोली को भारतीय समकक्षी के साथ विचार–विमर्श के लिए भेजा जा रहा है । साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि नेपाल में होने जा रहे बिमस्टेक सम्मेलन में इस विषय में वे खुद भारतीय समकक्षी नरेंद्र मोदी के साथ विमर्श करेंगे ।
आगे उन्होंने कहा कि नेपाल के पुराने परिचय को बदलने के लिए उद्योगी व्यवसायी अगर कोई योजना लाते हैं तो सरकार उसमें पूरी मदद करने को तैयार है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of