Mon. Nov 19th, 2018

ट्रान्सपरेन्सी ईन्टरनेशनल नेपाल के सहयोग में बास द्वारा नाटक प्रदर्शन

नेपालगन्ज, (बाके) पवन जायसवाल, २०७३ भाद्र २९ गते ।
एक जना ईमानदार सरकारी कर्मचारी पारिवारिक दवाव में पडते है उस को अधिक सम्पति कमाने की दवाव होती है , उधर राजनितिक दल के नेताओं ने भी अपना कहने की मुताबिक काम करेंगे तो सरुवा बडुवा मिला देंगे प्रलोभन दिखाते है विभिन्न जगह से दवाव में पडकर कितने कर्मचारी दूसरे की दिखाई में सेवाग्राहियों की काम करने बापत घूस मागते है उसी क्रम को निरन्तरता देते ही एक दिन वो अख्तियार की फन्दे. में पड जाते है और सेवा ग्राही से घूस लेते समय ही रंगे हाथ पकड जाते है ।

1
इसी तरह भ्रष्टाचार की आरोप में पकडे गये वह कर्मचारी उन के परिवार के सदस्य के साथ साथ नजदीक के रिस्तेदार लोग भी आलाप विलाप करते है लेकिन अब उन के साथ पश्चाताप करने के सिवाय कुछ भी बाकी नही रह जाता है और उन को कानून बमोजिम की कारवाही के लिये रखा जाता है ।
उल्लेखित कथा वस्तु बाके जिला के पश्चिम ओर करीब ८ किलो मीटर रहा खजुरा बाजार में भाद्र २८ गते को भ्रष्टाचार बिरुद्ध प्रर्दशन किया गया सडक नाटक “पछुतो ” कौन है । भ्रष्टाचार से अपने साथ साथ एक समाज को असर तो करता ही है । इस लिये लेकिन उस के बिरुद्ध में सभी लोगों को जुटना चाहिए कहकर सन्देस प्रवाह करने के लिये ट्रान्सपरेन्सी ईन्टरनेशनल नेपाल के सहयोग में बास ने यह नाटक प्रदर्शन किया है ।
नेपाल के समसामयिक अवस्था दिखनेवाली नाटक की शुरुवात में एक नेता आकर भाषण करते लगते है तो दर्शकों की तो बडी अधिक भीड हीलग जाती है ।

2
नाटक देखने की बाद जनता में शिक्षक खुमानन्दआचार्य ने समाज में हो रही भ्रष्टाचार कैसे होती रहती है और यस के बाद उस की पश्चाताप की बारे में जानकारी पाया है बताया । दूसरे दर्शक सूर्यमाया कुमाल ने भ्रष्टाचारी समाज की बाधक रही है और उसकी बिरुद्ध सभी लोगों को जुटना जरुरी रही है इस लिये चेतना जगाने के लिये प्रतिकृया दिया था ।
नाटक में जीतबहादुर थापा, बिनोद शर्मा, बिनोद थापा, खेम बिष्ट, निर्मला मल्ल, कल्पना कार्की, राष्टि बुढा, अनिल थापा लगायत कलाकारों की भुमिका रही थी । नाटक में बास के अध्यक्ष मन भण्डारी और बास के कार्यक्रम अधिकृत हेमराज भट्ट की समेत उपस्थिति रही थी ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of