Mon. Nov 19th, 2018

दिन दहाडे अज्ञात लोगों ने दो लोगों को अगवा कर नेपाली सुरक्षा व्यवस्था को दी चुनौती


सतेन्द्र कुमार मिश्र/कपिलबस्तु । जिले के कृष्णनगर बजार में सोमवार को घटित हुए एक घटना ने कृष्णनगर बजार को चकित करके रख दिया है । हादसा सोमवार शाम करिब साढे सात बजे का है, जब दो व्यक्तियों को मित्र राष्ट्र भारत से पाच—छ हठ्ठे कठ्ठे नवजवान आकर जबजस्ती नो—मेन्स लैण्ड होते हुए भारत में लेकर चले गए । स्थानीय लोगों के मुताबिक एक व्यक्ति यात्री गेट पर लगे मोमो के ठेले पर मोमो खा रहा था और दूसरा शिव मन्दिर के बगल के—आई नेपाल के पोष्ट के बगल में जा रहा था जिस वक्त उन दोनों को जबरन अपहरण की शैली से उठा लिया गया । स्थानीय जनता इस बात को लेकर परेशान है कि सीविल ड्रेस में पाच—छ लोग आकर नेपाली जनपद पुलिस और हथियारों से लैश सशस्त्र पुलिस के नाक के नीचे से दो व्यक्तियों को अगवा कर ले गए । इस हादसे ने नेपाल के कृष्णनगर बजार क्षेत्र में मौजूद सुरक्षा व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह खडा कर दिया है । स्थानीय लोगों ने यह भी बताया कि अपहरणकर्ता स्थानीय लोग नहीं थे सब के सब हठ्ठे कठ्ठे और व्यक्तिगत हावभाव से टे«न्ड नजर आ रहे थे ।
इस मामले में ईलाका प्रहरी कार्यालय कृष्णनगर के पुलिस इन्सपेक्टर सुर्य बहादुर बोगटी से बात करनेपर उन्होने कहा कि,“यात्री गेट से सैकडो लोग आते जाते रहते हैं और ठेलों के पास भी काफी भीड इकठ्ठा होती है । ऐसे में सीविल ड्रेस में आए हुए लोगों के द्वारा किसी को अगवा करते हुए उनके पुलिस जवानों ने नही देखा है । पर, स्थानीय लोगों से सुचना मिलने के बाद नेपाली पुलिस ने जाकर भारतीय सीमा सुरक्षा बल तथा बढनी के स्थानीय पुलिस अधिकारी से बातचीत किया । जिसके दौरान इस तरह की कोई भी अधिकारिक गतिबिधि न होने की बात उन्होने बतायी ।” फिर आगे उन्होने बताया कि नेपाली पुलिस ने स्थानीय प्रत्यक्षदर्शियों से बात किया जिससे अगवा किए हुए व्यक्तियों का नाम तो नही पता चल पाया पर दोनों व्यक्ति भारतीय होने की बात पता चली है ।
भारत से कुछ लोग आकर नेपाल से दो लोगों को दो किलो चीनी के तरह नेपाली सशस्त्र पुलिस, जनपद पुलिस और भारतीय एसएसबी के चौकसी के बावजूद भी उठा ले जाते हैं । यह हादसा न कि केवल कृष्णनगर के सुरक्षा व्यवस्था बल्कि पुरे नेपाल के सुरक्षा व्यवस्था के लिए एक चुनौती है ।
जहां कपिलबस्तु जिले के सुरक्षा व्यवस्था का कमान सम्भाल रखे एसपी मनोज कुमार यादव जी को एक तरफ सम्माननीय राष्ट्रपति द्वारा “प्रबल जनसेवा श्री” से बिभुषित किया जा रहा है, नेपाली पुलिस के आईजीपी महोदय कह रहे हैं कि हमारी पुलिस एशिया में उत्कृष्ट है वहीं दुसरी तरफ नेपाल की भुमि से नेपाली पुलिस के नाक के नीचे से दो लोगों को अगवा कर ले जाना कही न कही आईजीपी महोदय की बातों को मिथ्या साबित कर रही है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of