Tue. Sep 25th, 2018

नेपाल–भारत संबंध आर्थिक विकास पर आधारित होना चाहिएः उपेन्द्र यादव

उपेन्द्र यादव –अध्यक्ष, संघीय समाजवादी फोरम नेपाल

काठमांडू, २८ जनवरी । नेपाल और भारत के बीच बहुआयामिक संबंध है । जनता–जनता, राष्ट्र–राष्ट्र और सरकार–सरकार के बीच संबंध है । हर संबंध का अपना–अपना महत्व है । दुनियां में कम ही देश ऐसे हैं, जो नेपाल और भारत की तरह है । क्योंकि हमारे संबंध सिर्फ राजनीतिक परिभाषा में नहीं सिमट सकता ।
हां, चीन भी हमारा पड़ोसी राष्ट्र है । राजनीतिक तथा कुटनीतिक संबंध भारत और चीन के साथ समान हो सकता है । लेकिन नेपाल की भूराजनीतिक अवस्था ही ऐसी है, जिसके चलते हमारी हपेक्षाएं भारत की ओर ज्यादा रहता है । सामाजिक, सांस्कृतिक, भाषिक तथा भौगोलिक बनावट के कारण हम चाह कर भी भारत से अलग रह कर नहीं रह सकते हैं ।
व्यापार, यातायात, संचार, शिक्षा, भौतिक पूर्वाधार हर क्षेत्र में आज भारत, नेपाल को सहयोग कर रहा है । इतना होते हुए राजनीतिक स्तर पर कभी कभार दो देशों के बीच कुछ गडबड़ हो जाता है । नेपाल आर्थिक विकास में आगे बढ़ना चाहती है । इसमें भारत का सहयोग अपरिहार्य है । हमारी अपेक्षाएं हैं कि हर क्षेत्र में नेपाल और भारत साथ–साथ चल सके । अब दो देशों के बीच नयां संबंध भी स्थापित होना चाहिए, जो आर्थिक विकास पर आधारित हों ।
आन्तरिक सुरक्षा के कारण भारत, नेपाल के प्रति ज्यादा संवेदनशील है, नेपाल को उस संवेदनशीलता को सम्बोधन करना चाहिए । भारत हर क्षेत्र में आगे बढ़ सके, उसमें नेपाल और नेपाली जनता गौरवान्वित महसूस कर सकें, यह हमारी अपेक्षाएं हैं ।

(भारत के ६९वें गणतन्त्र दिवस के अवसर पर नेपाल भारत मैत्री समाज द्वारा काठमांडू में आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त विचारों का संपादित अंश)

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of