Mon. Sep 24th, 2018

नेपाल में स्थिर सरकार के लिए भारत का सहयोग अपेक्षित हैः डा. बाबुराम भट्टराई

काठमांडू, २८ जनवरी । आज भारत में जो आर्थिक विकास हो रही है, उसके एक वजह स्थिर सरकार भी है । क्योंकि विकास के लिए स्थिर सरकार आवश्यक है । में चाहता हूं कि यहां भी स्थिर सरकार बने, देश आर्थिक समृद्धि की ओर आगे बढ़े । हां, आज नेपाल में भी स्थिर सरकार निर्माण की सम्भावना दिखाई दे रही है । अगर कोई अवरोध नहीं होगा तो वाम गठबंधन पाँच साल के लिए सरकार बना सकती है । इसके लिए भारत का सहयोग अपेक्षित रहता है ।
हां, नेपाल–भारत संबंध सदियों पुरानी है । सामाजिक, सांस्कृतिक, भाषिक, भौगोलिक संबंध मजबूत होते हुए भी कभी कभार भारत और नेपाल के बीच वैमनस्यता दिखाई देता है । ऐसा क्यों हो रहा है ? हरतरह की सहयोग के बावजूदत भी नेपाल में भारत विरोधी भावना क्यों बढ़ जाती है ? इसकी ओर भारत को ध्यान देना जरुरी है । मुझे लगता है कि नेपाल के साथ भारत जो भी व्यवहार करता है, उसमें सम्मानजनक भाव प्रकट होना चाहिए । जो भी सम्झौता होती है, उसमें दोनों देश के नागरिक अपनी जीत का महसूस कर सके ।

                                                            डा. बाबुराम भट्टराई, पूर्व प्रधानमन्त्री तथा नयां शक्ति पार्टी के संयोजक

उदाहरण के लिए सन् १९५० की संधी को भी ले सकते हैं । उसमें जो कुछ भी लिखा है, लेकिन संधीपत्र में हस्ताक्षर करनेवाले व्यक्तियों से से एक राजदूत हैं और दूसरे प्रधानमन्त्री । अगर उक्त सम्झौतापत्र राजदूत–राजदूत अथवा प्रधानमन्त्री–प्रधानमन्त्री के बीच की गई होती तो आज जितना उसका विरोध हो रहा है, उतना नहीं होता । इसीलिए भारत से नेपाल सम्मानजक व्यवहार भी चाहता है ।
हां, भारत तीव्र आर्थिक विकास कर हा है । लेकिन उसमें नेपाल कहां है ? नेपाल का हर विकास और आर्थिक सूचकांक भारत पर भी निर्भर रहता है । लेकिन भारत के साथ हमारा व्यापार घाटा हर साल बढ़ रही है, ऐसा क्यों हो रहा है ? इसमें भी बहस होना चाहिए । क्योंकि नेपाल में एक मानिसकता विकसित हो रही है कि नेपाल के विकास के लिए भारत बाधक बन रहा है । इसको गलत साबित करने के लिए भारत का ही सहयोग अपरिहार्य है ।
भारत चाहता है कि नेपाल उसकी सुरक्षा संवेदनशीलता को सम्बोधन करे । इसके लिए नेपाल तैयार है । तीव्र आर्थिक विकास के लिए नेपाल की जो चाहत है, उसके लिए भी भारत को तैयार होना पड़ता है । अर्थात् विकास और व्यापार में दो देशों के बीच साझेदारी होना जरुरी है ।

(भारत के ६९वें गणतन्त्र दिवस के अवसर पर नेपाल भारत मैत्री समाज द्वारा काठमांडू में आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त विचारों का संपादित अंश)

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of