Mon. Sep 24th, 2018

पाकिस्तान में वैलेन्टाइन डे पर लगाया गया प्रतिबन्ध

इस्लामाबाद (एजेंसी)। पाकिस्तान में वैलेंटाइन डे पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। पाकिस्तानी मीडिया को वैलेंटाइन डे से संबंधित किसी भी प्रकार के प्रमोशन करने पर प्रतिबंध लगा दिया है। बता दें कि वैलेंटाइन डे पाकिस्तानी युवाओं के बीच बड़ा ही लोकप्रिय है। बाकियों की तरह इस दिन वे भी अपने पार्टनर को कार्ड्स, चॉकलेट्स और गिफ्ट्स देकर इस दिन को और स्पेशल बनाते हैं।

बाकी देशों की तरह पाकिस्तान के रेस्टोरेंट और रिटेलर शॉप में भी इस इंटरनेशनल रोमांस डे के दिन लव बर्ड्स को आकर्षित करने के लिए कई तरह के लुभावने ऑफर्स निकालते हैं। लेकिन देश में पारंपरिक इस्लाम सोच की जड़ें इतनी गहरी हैं कि वह इसे पश्चिमी देशों की देन बताकर पिछले कई सालों से इसका बहिष्कार करते आ रहे हैं।

कोर्ट का है ये सख्त आदेश

पाकिस्तान की मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी ने एक कोर्ट के आदेश पर वैलेंटाइन से संबंधित विज्ञापनों और अन्य सामग्रियों के प्रमोशन पर प्रतिबंध लगा दिया है। बता दें कि कोर्ट ने पाकिस्तान के सभी न्यूज चैनल, रेडियो स्टेशन और प्रिंट मीडिया को वैलेंटाइन डे संबंधित किसी भी प्रकार के प्रमोशन और किसी भी प्रकार के कार्यक्रम के संचालन पर से प्रतिबंध लगाने का आदेश दे दिया है।

पिछले साल भी दिया था ये आदेश

एक कोर्ट ने पिछले साल भी वैलेंटाइन डे पर किसी भी प्रकार के सार्वजनिक समारोह पर प्रतिबंध लगा दिया था। यह कहा था कि इस तरह खुलेआम अपने प्यार का इजहार करना इस्लाम के खिलाफ है और ये वेस्टर्न कल्चर को बढ़ावा देता है। इस दौरान कोर्ट ने कहा था कि इस दिन सार्वजनिक जगहों या ऑफिस प्लेस पर कोई भी इवेंट का आयोजन नहीं किया जाएगा। तब से ही प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में किसी भी वैलेंटाइन डे प्रमोशन नहीं किया जाता है। पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी ने पिछले साल प्रतिबंध लगाया था वह अब भी प्रभाव में है।

राष्ट्रपति ने किया अमान्य घोषित

वैलेंटाइन डे को अमान्य करार देने वाले खुद पाकिस्तान के राष्ट्रपति ममून हुसैन हैं जिन्होंने इसे अश्लील और अभद्र कहा था। उन्होंने छात्रों के एक समूह को संबोधित करते हुए कहा था कि मुस्लिम बहुल देशों में इस दिन के लिए कोई जगह नहीं है साथ ही उन्होंने इसके बदले छात्रों को पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने को कहा था।

सोशल मीडिया पर फूटा गुस्सा

पाकिस्तान में वैलेंटाइन डे के विरोध में इस तरह के आदेश जारी किये जाने के बाद सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है। सोशल मीडिया यूजर्स ने तुरंत इस पर खुल कर अपनी प्रतिक्रिया दी।

अहमद नूरानी ने अपने ट्विटर पर लिखा- इस्लाम के नाम पर हिंसा को बढ़ावा देने वाले नफरत भरे ये उपदेश फिर से सक्रिय हो गए हैं। इन नफरत के देवताओं को पाकिस्तान के द्वारा बढ़ावा दिया जा रहा है। लेकिन प्रेम बोलता है..। आज इनके लिए रेड हर्ट बलून और फूल बेचने वाले इस्लाम के लिए खतरा बन गये हैं?

अदनान सामी ने भी फेसबुक पर अपना विरोध दर्ज कराते हुए लिखा,  पाकिस्तान इलेक्ट्रॉनिक मीडिया रेगुलेटरी अथॉरिटी ने मीडिया को वैलेंटाइन डे के प्रमोशन से बैन कर दिया है। आश्चर्य की बात है कि वे कभी मीडिया को नफरत फैलाने वाले मुल्लाओं को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबंधित नहीं करती है।

2013 में विरोध करने वाले को गोलियों से दिया था भून

2013 में कार्यकर्ता सबीन महमूद ने वैलेंटाइन पर से प्रतिबंध हटाने के लिए ‘लेट लव हैप्पेन’ के नाम से कराची में  विरोध प्रदर्शन किया था। दो साल बाद दो बंदूकधारियों ने उसे कराची में बीच बाजार में उसकी गाड़ी से खींच कर गोलियों से भून कर मौत के घाट उतार दिया था।

 

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of