Sat. Apr 20th, 2019

पूर्व प्रधानन्यायाधीश ही सुविधाभोगी ! नियम विपरित करोड़ो की गाडी अपने नाम में

radheshyam-money-transfer

काठमांडू, १५ अप्रील । दूसरों को नीति–नियम और नैतिकता सिखानेवाले न्यायाधीश तथा प्रधानन्यायाधीश ही नीति के विपरित चलते हैं तो इस देश को क्या होगा ? हां, आज प्रकाशित नयां पत्रिका दैनिक में कुछ ऐसा ही समाचार है । प्रकाशित समाचार अनुसार अपने पद से अवकाश प्राप्त करनेवाले १४ पूर्व प्रधानन्यायाशी आज जो गाड़ी चढ़ते हैं, वह नियम विपरित और अवैध है ।
नियम विपरित १४ पूर्व प्रधानन्यायाधिशों ने सरकारी गाड़ी की सुविधा ली है । इसतरह की सुविधा लेनेवाले प्रधानन्यायाधिशों में सुरेन्द्रप्रसाद सिंह से ओमप्रकाश मिश्र तक हैं । वि.सं. २०७४ चैत्र १ गते अवकाश प्राप्त पूर्व प्रधानन्यायाधिश गोपाल पराजुली ने १ करोड़ २९ लाख ६० हजार रुपैयां मूल्य बराबर की टोयाटा वापस नहीं किया है । पराजुली के बाद प्रधानन्यायाधीश बननेवाले ओमप्रकाश मिश्र ने भी अवकास से कुछ समय से पहले ही खरीदा गया टाटा स्ट्रोम को अपने ही पास रखा है ।
सरकारी सुविधा से प्राप्त सबसे अधिक मूल्य की गाडी प्रयोग करनेवाले पूर्वप्रधानन्यायाधीश हैं– कल्याण श्रेष्ठ । उन्होंने लगभग साढे २ करोड़ की टोयटा ल्याण्डक्रुजर अपने ही पास रखा है । इसतरह अवैध रुप में सरकारी सेवा प्राप्त करनेवाले सभी पूर्व प्रधानन्यायाधीशों ने सरकारी नम्बर प्लेट को बदल कर निजी नम्बर प्लेट लगाए हैं ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of