Sat. Nov 17th, 2018

प्रदेश नामांकन को लेकर सत्ता पक्ष में विवाद, प्रदेशसभा बैठक स्थगित

पोखरा, ३ जुलाई । प्रदेश की नामांकन संबंधी विषयों को लेकर सत्ताधारी नेपाल कम्युनिष्ट पार्टी के भीतर ही विवाद दिखाई दिया है । मंगलबार के लिए आयोजित प्रदेश नं. ४ की संसद बैठक नामांकन विवाद के कारण ही सूचना प्रकाशित कर स्थगित हो गया है । आज की कार्यसूची में नाम के संबंध में विचार–विमर्श होना था । लेकिन संसद बैठक से पूर्व सत्तारुढ नेकपा की संसदीय दल की बैठक आयोजन की गई । उसमें प्रदेश की नाम को लेकर विवाद हो गया । जिसके कारण विशेष प्राविधिक कारण बताते हुए बैठक स्थगित की गई ।
आगामी बैठक आषाढ़ २१ बिहीबार के लिए बुलाया गया है । स्मरणी है, सोमबार सम्पन्न बैठक ने प्रदेश की स्थायी राजधानी पोखरा रहने का निर्णय किया था । कहा जाता है कि सत्ताधारी दल के अन्दर प्रदेश का नाम में एकमत बनाने के लिए मंगबार सुबह पार्टी संसदीय दल का बैठक आयोजन किया था । लेकिन बैठक में मुख्यमन्त्री पृथ्वीसुब्बा गुरुङ लगायत कुछ नेताओं ने प्रदेश का नाम तमुवान–मगरात तथा गण्डकी तमुवान रखने के लिए प्रस्ताव किया । जिसके चलते अधिकांश सांसद् रुष्ट हो गए । अधिकांश सांसदों का कहना था कि प्रदेश का नाम ‘गण्डकी’ प्रदेश होना चाहिए ।
मुख्यमन्त्री गुरुङ का मानना है कि सत्ता पक्ष की ओर से एक ही नाम प्रदेशसभा बैठक में जाना चाहिए । इसके लिए ही संसदीय दल का बैठक आह्वान किया गया था । स्मरणीय है, तत्कालीन एमाले प्रदेश कमिटी ने भी प्रदेशका नाम ‘गण्डकी’ रखने के लिए ही सुझाव दिया था । संसद् में प्रतिनिधित्व करनेवाले पाँच दलों में से तत्कालीन माओवादी केन्द्र के प्रदेश सांसद के अलवा अन्य दलों की सांसद ‘गण्डकी’ प्रदेश में ही सहमत हैं ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of