Mon. Sep 24th, 2018

प्रदेश न. २ का १ अर्ब २ करोड ५ लाख रुपैयाँ का बजट पेश करते अर्थ मन्त्री विजयकुमार यादव

सीपू तिवारी | जनकपुुुर १२ गते – प्रदेश २ के अर्थमन्त्री विजयकुमार यादव ने सरकार के चालु आर्थिक वर्ष के ३ महिना के लिए १ अर्ब २ करोड ५ लाख रुपैयाँ का बजट पेश किया है। चालू आर्थिक वर्ष के विनियोजित बजट मध्ये चालू खर्च तर्फ ५७ करोड़ ३१ लाख ३१हजार अर्थात ५६.६४ प्रतिशत और पूंजीगत तर्फ ४४ करोड़ २४ लाख ६८ हजार अर्थात ४३.३६ प्रतिशत विनियोजन किया है।

मन्त्री यादव ने बजट में ‘किसान का हित सरकारको जित’ कार्यक्रम अंतर्गत डेयरी उत्पादन, माछा पालन बिस्तार, आकस्मिक बाली संरक्षण सेवा, आकस्मिक महामारी रोज नियंत्रण, बिउ बिजन आपूर्ति तथा बितरण योजना, कृषि उपज भंडार केंद्र, कृषि फ़ॉर्म, कृषि उपज संकलन केंद्र, चिस्यान केंद्र स्थापना जैसे योजनाओ को प्रमुखता दी है।

मुख्यमंत्री बेटी पढाओ बेटी बचाओ’ अभियान के लिए ८० लाख विनियोजन किया है। मुख्यमंत्री स्वच्छता अभियान’, ‘स्वच्छ प्रदेश स्वच्छ जनता’ कार्यक्रम के लिये १ करोड़ ५० लाख तथा कूड़ा-कचड़ा के ब्यवस्थापन के लिए भी बजट दिया गया है।

प्रदेश सभा सदस्य द्वारा जनता के आवश्यकता के क्षेत्र में खर्च करने के लिए १० लाख के दर से १० करोड़ ७० लाख विनियोजन किया है। जिसके अंतर्गत मधेश आंदोलन को स्मरण रखने के लिए गौर में स्मृति स्तंभ रखने और तेनज़िंग शेर्पा और एडमंड हिलेरी द्वारा सागरमाथा आरोहण के शुरुआती स्थल माड़र सिरहा में तेनज़िंग-हिलेरी द्वार निर्माण का योजना है। शाहिद के सम्मान स्वरूप शाहिद प्रतिष्ठान कोष स्थापना करने के लिए बजट विनियोजन किया गया है।

प्रदेश सरकार ने कृषि, सिचाइ, पर्यटन के साथ रोजगारी सिर्जना करने वाले कार्यक्रम में विशेष ध्यान दिया है।  बजेट द्वारा  मुख्यमन्त्री राहत तथा पुनर्स्थापना कोष में ५ करोड़, प्राकृतिक आपदा में २ करोड़, जंगली जानवर के आक्रमण में पीड़ित परिवार राहत के लिए ५०लाख रुपये विनियोजन किया है। उद्योग स्थापना करने के लिए  निजी क्षेत्र लक्षित कार्यक्रम लाने और महिला हिंसा,  बलात्कार,  दहेजप्रथा रोकने के लिए विशेष कार्यक्रम का घोषणा किया है।

प्रदेश सरकार ने धार्मिक-सांस्कृतिक धरोहर संरक्षण और संवर्धन करके पर्यटकीय विकास का योजना तैयार किया है जिसमे सप्तरी छिन्नमस्ता मंदिर, कंकालनी मंदिर, दीनाभद्री, ठेलिया दल, सिरहा के सलहेस, कमल दह, महादेव मठ,  जनकपुर धाम, धनुषा धाम, महोत्तरी के पडौल स्थान, जलेश्वरनाथ महादेव मंदिर, रौजा मजार, सर्लाही के नादिमन ताल, सतही बिहुला, नारायणपुर नाजिर मजार, रौतहट के राजदेवी मंदिर, बार के गढ़ीमाई, सिमरौनगढ़, पर्सा के गहवामाई को रखा गया है।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of