Mon. Dec 17th, 2018

बीरगंज में नेपाल भारत खुली सीमा विषयक सेमिनार का आयोजन,अवराेध लगाने का विरोध!

२६सितम्बर

बीरगंज। रेयाज आलम | नेपाल -भारत खुली सीमा सम्वाद समूह प्रदेश नम्बर 2 द्वारा नेपाल के बीरगंज में भारत नेपाल खुली सीमा विषयक सेमिनार का आयोजन किया गया।मंगलवार को आयोजित सेमिनार में वक्ताओं ने नेपाल व भारत के सम्बन्ध को सदियों से ऐतिहासिक, धार्मिक, सांस्कृतिक व पारिवारिक बताते सीमा पर तार कांटा व घेरा बंदी के साथ परिचयपत्र की आवश्यकता को खारिज करते हुए कहा कि सुरक्षा प्रबंध उचित है।रिश्तों पर दीवार मंजूर नही।सीमा पर दीवार सम्बन्धो पर दीवार खड़े करने जैसी है।

वक्ताओं ने सीमा क्षेत्र में होने वाले अपराध, तस्करी नियन्त्रण के लिए सुरक्षा निकाय को सजग व चुस्त दुरुस्त रहने की जरूरत पर बल दिया।कहा गया कि सुरक्षा निगरानी में सीमा सुरक्षित रहेगी।
कहा गया कि नेपाल व भारत सीमा क्षेत्र की जनता के बीच का सम्बन्ध जनस्तर सम्वन्ध है।इसे काठमाण्डु व दिल्ली परिभाषित न करे।बल्कि,जन भावना का क़द्र करते हुए सर्वमान्य निर्णय होना चाहिए।यदि तार बाड लागू करने की कोशिश हुई।तो विरोध भी होगा।
नेपाल -भारत खुली सीमा सम्वाद समूह प्रदेश नम्बर २ के संयोजक राजीव झा के सभापतित्व में सम्पन्न कार्यक्रम में राजपा के अध्यक्ष मण्डल सदस्य व शीर्ष नेता राजेन्द्र महतो, नेपाली कांग्रेस के केन्द्रीय सदस्य अजय चौरसिया, वीरगंज उद्योग वाणिज्य संघ के अध्यक्ष एवं प्रदेश सभा सदस्य ओम प्रकाश शर्मा,समेत चन्द्र किशोर झा,इंडो नेपाल चेम्बर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष राजकुमार गुप्ता, रमेश पटेल, मन्जुर अन्सारी, वीरगंज महानगरपालिका के नगर प्रमुख विजय सरावगी, नेपाल भारत सहयोग मञ्च के संयोजक अशोक बैद्य, नेजामुद्दिन समानी, रामतुल्लाह खा आदि शामिल थे। कार्यक्रम में मंच संचालन नेपाल -भारत खुली सीमा सम्वाद समुह के ओम प्रकाश सर्राफ ने किया।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

1
Leave a Reply

avatar
1 Comment threads
0 Thread replies
1 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
1 Comment authors
यूसुफ अन्सारी Recent comment authors
  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
यूसुफ अन्सारी
Guest
यूसुफ अन्सारी

नेपाल भारत सीमा पर किस कारणो से तार बार या परिचय पत्र कि अावश्यकता है ? अगर सुरक्छा लक्छ है तो किस से खतरा है अाैर किसको खतरा है ? भारत को नेपाल से कोई खतरा तो है ही नही पहले भी नही था ईसलिये तो करीब एकलाख खस मन्गोल नश्ल के लोगो को अार्मी अाैर अन्य छेत्र मे भातर नाैकरी मे रखा है । चीन से खतरा है तो चीनी रन्ग रुप के लोगो को भारत मे घुसने केलिए पासपोर्ट कि ब्यवस्था हो । अगर वह हिन्दी बिहारी टोन मे बोले या यू पी के टोन मे बोले तो… Read more »