Tue. Oct 16th, 2018

बुरा नही माने तो

hindi magazineलगता हैं, वैद्य पक्ष पर्ूवराजा ज्ञानेन्द्र शाह और कमल थापा जैसे व्यक्ति के निकट हो रहे है। अगर ऐसा है तो यह गम्भीर बात है। -अप्रिल १, काठमाडौं)
पुष्पकमल दाहाल ँप्रचण्ड’, अध्यक्ष -एकीकृत नेकपा माओवादी)
-माओवादी के लिए तो दरबार -राजसंस्था) और भारत दोनों ही पहले से जानी-दुश्मन रहते आए थे ! ऐसी अवस्था में यह कोई आर्श्चर्यजनक बात नहीं हैं। क्योंकि वह -वैद्य पक्ष) दरबार के करीब हो गया है तो आप लोग भी तो भारत के करीब होते जा रहे है। सत्ता और अस्तित्व के लिए कुछ तो करना ही पडेÞगा ! वह उधर ! आप इधर ! क्यो जी –

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of