Wed. Oct 24th, 2018

महिलाएं और लडकिया क्यों लगाती हैं बिंदी

किसी भी स्त्री की सुंदरता में चार चांद तब लग जाते हैं जब वह पर्ूण्ा श्रंगार के साथ ही माथे पर बिंदी भी लगाएं। वैसे तो बिंदी को श्रंगार का एक आवश्यक अंग ही माना जाता है और इसी वजह से काफी महिलाएं और लडÞकियां बिंदी लगाती हैं। शास्त्रों में सुंदरता बढÞाने के साथ ही बिंदी लगाने के कई अन्य लाभ भी बताए गए हैं।
शास्त्रों के अनुसार स्त्री के महत्वपर्ूण्ा सोलह श्रंगार बताए गए हैं जिनमें से बिंदी लगाना भी एक है। विवाह से पर्ूव लडÞकियां बिंदी केवल सौर्ंदर्य में वृद्धि करने के उद्देश्य से लगाती हैं लेकिन विवाह के बाद बिंदी लगाना सुहाग की निशानी माना जाता है। शादी के बाद विवाहित स्त्री लाल रंग की बिंदी लगाती है। इसे अनिवार्य परंपरा माना जाता है।
योग विज्ञान की दृष्टि से देखा जाए तो बिंदी का संबंध हमारे मन से जुडÞा हुआ है। जहां बिंदी लगाई जाती है वहीं हमारा आज्ञा चक्र स्थित होता है। यह चक्र हमारे मन को नियंत्रित करता है। जब भी हम ध्यान लगाते हैं तब हमारा ध्यान यहीं केंद्रति होता है। चूंकि यह स्थान हमारे मन को नियंत्रित करता है अतः यह स्थान काफी महत्वपर्ूण्ा है। मन को एकाग्र करने के लिए इसी चक्र पर दबाव दिया जाता है और यहीं पर लडÞकियां बिंदी लगाती है।
आज्ञा चक्र पर बिंदी लगाने से स्त्रियों का मन नियंत्रित रहता है। इधर-उधर भटकता नहीं है। सभी जानते हैं कि महिलाओं का मन अति चंचल होता है। इसी वजह से किसी भी स्त्री का मन बदलने में पलभर का ही समय लगता है। वे एक समय एक साथ कई विषयों पर चिंतन करती रहती हैं। अतः उनके मन को नियंत्रित और स्थिर रखने के लिए यह बिंदी बहुत कारगर उपाय है। इससे उनका मन शांत और एकाग्र बना रहता है। शायद इन्हीं फायदों को देखते हुए प्राचीन ऋषि-मुनिया द्वारा बिंदी लगाने की अनिवार्य परंपरा प्रारंभ की गई है।
बिंदी लगाने के हैं ये ३ खास फायदें-
म बिंदी लगाने से सौर्ंदर्य में वृद्धि होती है।
म विवाहित स्त्री के सुहाग का प्रतीक है।
म मन को स्थिर रखने में बहुत ही कारगर उपाय है।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of