Mon. Jan 21st, 2019

यह सब साम्राज्यवादी पश्चिमी ताकतों से उधार ली गयी एकल जातीय राष्ट्रवादी सोच और सिद्धान्त का दुष्प्रभाव है : सरिता गिरी

sarita giri
हिमालिनी डेस्क
काठमांडू, ३१ मार्च ।
हरेक नेपाली हृदय और संस्कार से मधेशी है । उसकी जडें मधेश की संस्कृति और दर्शन में है।

इस सत्य को इंकार करने के लिए मधेशियो के साथ दूसरों के जैसा व्यवहार किया जाता है और इस तथ्य को स्थापित करने के लिए मधेशियों को खुन बहाना पडता है ।

यह सब साम्राज्यवादी पश्चिमी ताकतों से उधार ली गयी एकल जातीय राष्ट्रवादी सोच और सिद्धान्त का दुष्प्रभाव है ।
यह सब उपर से क्रूर लेकिन अंदर से खोखले पावर गेम का हिस्सा है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of