Tue. Sep 25th, 2018

राममनोहर यादव के “शव” को श्रधान्जली के लिये माइतिघर मंडला पर रखा जाये : हरिचरण साह

शहादत रंग देती है दिवानों को,
वीर रस की रंग से,
हार्दिक श्रद्धाञ्जली राममनोहर यादवजीको ….
यादव जी के “शव” को माइतिघर मंडला पर रखा जाये ताकी हंम सभी श्रधान्जली दें और  मंत्री महाेदय उपेन्द्र यादव को याद आ जाये की इसी मंडला पर उन्होंने संबिधान जलाया था और इसी जगह से “रमेश महतो” हतुआ के बिरोध मेँ पहला जुलुस New baaneswer chawk  जाकर तत्कालीन गृह्मन्त्री “सीटौला” का पुतला जलाया गया था।
गैरत है ताे राजीनामा करें
अरे ! भूल गये ?
NC से महन्थ ठाकुर कृषि,nsp से राजेन्द्र आपूर्ति,uml से महिन्द्रा लगाएत गछेदार; हृदयेश गिरिजा प्रचन्ड नेपाल  ( nc/mst/uml)  संयुक्त सरकार के मन्त्री थे ये लोग ? हमलोग राजीनामा मागा था । याद है न  ?
20/40 मधेशी कौ सीटौला के बन्दूक से मारने के बाद बडका-बडका दुकान मधेश के बिरगंज मेँ जाकर  खोला था। वो भी तो फिर तुम्हारे साथ ही सरकारी चमचा/चाटूकार बना हुवा है  ?
अरे भाई।
अब तो होश कर !
मेरे नमक का शरियत दे दे भाइ। काश तु/मै भी 62/63 मे ही शहीद हो गया होता तो क्या होता ?
भैरहवा Airport एब्ं उस रन्भूमी मेँ मर गये होते तो क्या होता ?
एक बार सोच ?
मेरे समधी पलकधारि, दूद्नाथ,बिजय अग्रहरि, बिक्रम यादव, HRW कुशवाहा जी लोग नवलपरासी से दवाव दिया। 15/20 ट्रैक्टर आदमी भेजा भैरह्वा एअरपोर्ट । फिर तु ने टुटे-फूटे मंच पर 5 मिनट भाषण किया। फिर BUTWAL से 10 ट्रक/tipper माओबादी तथा सरकारी सैन्यबल आने की खबर से सुनौली बौर्डर पार कराने बाले विद्युत corporation के इंचार्ज और तुम्हे Motercycle  पर बैठाकर पतली गल्ली से सुनौली बौर्डर पार कराने बाले OMKAR GUPTA काे क्या मिला।
इन बाताे‌ काे याद कर अाैर जरा भी गैरत है ताे सरकार से बाहर अा ।
सुनौली से “समाजबादी पार्टी” के गाडी से बहराइच पहून्चकर बिश्रांंम किया था। याद है न भाइ जी ?
एक नवलपराशी बाले क्रान्तिकारी मधेशी लोग यदि तत्कालीन सर्कार का गृह मन्त्री सीटौला और माओबादियों के बिरूध जंग नही छेडा होता तो क्या होता।
याद रहे बर्घाट से एक bus जिसमें माओबादी समर्थकों एबं सादा पोशाक के सैन्यबल से भरी गाडी काे नवलपरासी लेगये थे और फिर भैरहवा में कब्जा किया गया था। दोतर्फी समझौता के बाद 12 tractor के छोडने के बाद BUS भी छोड़ा गया था।
÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷
अरे भाई “खिसियानी बिल्ली खम्हा निछोड़े” तु खिसियाकर करेगा क्या ? हद से ज्यादा संबिधान सभा 2070-74 की एक राश्ट्रबादी @हरिचरणपथ काे थोडा भौतिक-आर्थिक क्षति दे सकता है मगर @सत्यपथ से लड नही सकते हो भाइ। और मुझ जैसा से तो पहले भी “माकूनेपाल” ने क्षति तो पहुंचाया लेकिन रौतहट छोडकर भागना पडा। BMDV  तो पहले ही जब माले था तो केशव स्था•मार्फत paarty office लूटा, घर तोड़ा, 14 मुद्दा लगाया था। फिर भी लडता हुवा जीवन गुजारा करते हूवे “संसद” मेँ  BULANDI  के साथ @सत्यपथ @samaajikanyaaypath का वकालत कर ही लिया।बांकी काम सरकार मेँ जाने का वो मै GADDARI करके नही बल्कि अपने बलबूते @नेपालिजनतादलपथ मार्फत जाने का “प्रण” किया हूँ।
अरे हम आप  को HERO अथवा मधेशी KING बनने/बनाने में “तिनका” का सहारा बना ही था।
“King maker बनो King नही‌”
कोई बात नही।।
“हंंम नही तो हमारे सही”
हमारी पार्टी से नही तो किसी पार्टी से सही”
हमारे “पहाड-मधेशी” दलित,जनजातिं आदिबासी, पीडित, गरिब, अल्पसंख्यक, obc,SC-SCT  लोग पहले 2064 पूर्व से ज्यादा संख्या% मे संसद मे ऊपस्थिति कराना कानून बाध्य तो हूवा ?
चले अब काम की बात करें।
 छोड्दो सरकार।
जल्दी से छोड़ो।
समय रहते बनो हीरो।।
नही तो फिर से जीरो।।।
फिर से नेपालगंज के बिजय गुप्ता के घर के सामने महेन्द्र CHAWK का जलते हुवे stage अाैर POORNA सूबेदि के द्वारा जानलेवा हमले के बारे मे सोच !
जल्दी भाग सरकार से !
“”छोड- छोड जल्दी सरकार छोड।
नही तो CK का पकडेगा जोड।।””
सरकारी शिखन्डि मत बन रे भाई,
ये ब्राह्मान्बादी,हत्यारा सरकार,
“”तमिल-जाफ्ना बनाने में करेगा जोड।””
हरिचरण साह
सांसद नेपाली जनता दल
शोक संतप्त परिवार को सलाम।
जय मधेश / जय जनता।
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of