Thu. Oct 18th, 2018

लापरवाही के कारण आसाराम बापू के मौत की खबर फैल गई ?

asharam-bapuद‌िल्ली और अलीगढ़ पुलिस की लापरवाही के कारण शुक्रवार को आसाराम बापू के मौत की खबर फैल गई। ये सब दिल्‍ली पुलिस की वेबसाइट जिपडॉटनेट सेवा पर अज्ञात लाश के स्थान पर आसाराम बापू का फोटो अपलोड होने के कारण हो गया।
खबर जब अधिकारियों को लगी तो दिल्ली से अलीगढ़ तक वेबसाइट से उसे हटाने की कवायद शुरू हो गई और एसएसपी ने खुद कंप्यूटर के सामने बैठकर उसे हटवाया।

हुआ यूं कि पिछले माह अलीगढ़ के सिविल लाइन क्षेत्र के सरसैयद नगर में एक सिरविहीन लाश मिली थी
इसकी पहचान न होने पर इंस्पेक्टर, सिविल लाइन ने उसकी सूचना दिल्ली पुलिस की जिपडॉटनेट सेवा पर महज इसलिए अपलोड करा दी कि शायद एनसीआर से कोई वारिस मिल जाए। चूंकि सिर नहीं था, इसलिए फोटो का स्थान खाली छोड़ दिया गया। इधर, इसे लेकर दिल्ली में कोई ट्रेनिंग चल रही है, वहां किसी ने फोटो के खाली स्थान पर संत आसाराम का फोटो अपलोड कर दिया। गुरुवार शाम फोटो अपलोड होने की खबर पर शुक्रवार सुबह तक दिल्ली और अलीगढ़ पुलिस में अफरा-तफरी मच गई।
क्या है जिपडॉटनेट
यह दिल्ली पुलिस की गुमशुदा और अज्ञात लाशों के डाटा संबंधी वेबसाइट है, जिसमें मदद के लिए आसपास के जिलों से भी सूचनाएं डाउनलोड होती हैं। इसके लिए जिलों के डीएम-एसएसपी को पासवर्ड दे रखे हैं। वही किसी को अधिकृत कर सूचना डाउनलोड कराते हैं। (सूचनाओं का संकलन यूपी पुलिस की मर्जी पर निर्भर है)
ये अपने यूपी की सेवा
डिस्ट्रिक क्राइम रिकार्ड ब्यूरो (डीसीआरबी) यूपी पुलिस की सेवा है, जिसमें गुमशुदा और अज्ञात लाशों का ब्योरा यूपी पुलिस की वेबसाइट पर डाउनलोड होता है।
नियम है कि अज्ञात लाश व गुमशुदा का विवरण थाना स्तर से फोटो सहित डीसीआरबी भेजा जाएगा। वहां कर्मचारी डाउनलोड करेगा। (सूचनाओं का संकलन यूपी पुलिस के लिए अनिवार्य है)
क्‍या कहते हैं एसएसपी
यह दिल्ली पुलिस की अपनी सेवा है। एनसीआर के करीब होने के कारण हमें इसमें मदद के लिए कोड दिए गए हैं। इसी के चलते सिविल लाइन की सूचना उसमें अपलोड की गई थी। यह अनजाने में हुई भूल है। -अमित पाठक, एसएसपी, अलीगढ़ । अउडटकम

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of