Tue. Sep 25th, 2018

विश्वव्यापी रुप में नेपाल के मानवअधिकार की अवस्था नाजुक, संविधान का कृयान्वयन भी कमजोर


हिमानिली डेस्क
काठमांडू, २८ फरबरी ।
मानवअधिकार की विश्वव्यापी आवधिक समीक्षा (युपीआर) में नेपाल में मानवअधिकार की अवस्था सन्तोषजनक नहीं दिखी है ।
युपिआर के महिला सञ्जाल सचिवालय धनगढी में हुई परामर्श बैठक में कहा गया कि नेपाल का संविधान प्रगतिशील होते हुए भी, इसका क्रियान्वयन बेहद कमजोर होने के कारण नागरिकों के लिए समान रुप में मानव अधिकार का उपभोग कर सकने का वातावरण अभी भी नहीं बन सका है ।
ओरेक नेपाल की कार्यक्रम संयोजक सञ्जीता तिम्सेना ने एक प्रेस रिलीज जारी कर इस बात की जानकारी साझा की है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of