Mon. Dec 17th, 2018

शारदा सिन्हा की गीताें के बिना सूना है अधूरा छठ व्रत, उग हे सुरूज देव अरग के बेर

२७ अक्टुवर

भगवान भास्कर की उपासना की जा रही है। छठ की बात करें तो पद्मश्री शारदा सिन्हा के गीतों के बगैर छठ पूजा अधूरी है। दिवाली के बाद से ही हर गली मुहल्ले में शारदा सिन्हा के गाए छठ गीत आज भी गूंज रहे हैं। छठ के गीत अनेक गायकों ने गाया लेकिन शारदा सिन्हा के गाए गीत आज भी सबसे ज्यादा पसंद किए जाते हैं।

 

 

 

लोक आस्था के महापर्व छठ की पूजा के तीसरे दिन आज भगवान भास्कर को पहला अर्घ्य प्रदान किया जाएगा। 24 अक्टूबर से शुरू हुआ यह पर्व सुख-समृद्धि और मनोवांछित फल की कामना पूर्ण करने के लिए किया जाता है। इस पर्व में छठ गीतों का अपना खास महत्व होता है। गीतों में ही पूजा का पूरी विधि और महत्ता बताई गई है।

शारदा सिन्हा ने इस पर्व के लिए एक से बढ़कर एक गीत गाए हैं। बिहार की लोक-गायिका शारदा सिन्हा छठ के गानों के लिए मशहूर हैं। 1980 में उन्होंने अपने सिंगिंग करियर की शुरुआत की थी। पद्मश्री से सम्मानित हो चुकीं शारदा सिन्हा अब तक 62 छठ के गानों को आवाज दे चुकी हैं।

 

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of