Sat. Mar 23rd, 2019

संविधान में महिला हक अधिकार सम्बन्धी ऐन तथा विधेयक पर अन्तरक्रिया

radheshyam-money-transfer

काठमांडौ, पुस २८ । संविधान अन्तर्गत महिला हक अधिकार सम्बन्धी ऐन तथा विधेयक के विषय में आज एक कार्याक्रम के बिच अन्तरक्रिया किया गया ।

programme pic
युएन वुमन तथा मिडिया एडभोकेसी ग्रुप नेपाल द्वारा संयुक्त रुप में ललितपुर में आयोजित कार्यक्रम में लैगिंक समानता तथा महिला सशक्तिकरण सम्बन्धी ४६ ठो संवैधानिक प्रावधान के आधार पर प्रचलित कानुन के पुनरावलोकन कर ४१ ठो ऐन तथा कानुन के उपर संशोधन का सुझाव प्रस्तुत किय गया ।
विभिन्न क्षेत्र के महिलाओं की सहभागिता रही कार्यक्रम में नागरिकता का हक, समानता का हक, शोषण विरुद्ध का हक, सामाजिक न्याय का हक, सामाजिक सुरक्षा का हक, सेना, राजनीतिक दल, राजदूत, संवैधानिक पद व सरकारी सेवा में समावेशिकरण सहित का २० विषययों पर संशोधन सुझाव प्रस्तुत किया गया ।
युएन वुमन की सरु जोशी श्रेष्ठ ने कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि सर्वसाधारण को समझ में आएं इस प्रकारका कानुन, ऐन लिखा जाना चाहिये तथा उसका कार्यान्वयन संबंधित विचार व्यक्त की । वार एशोसिएसन की केन्द्रिय अध्यक्ष उषा मल्ल पाठक ने ४६ काननु का पनरावलोकन कर संशोधन किया जाना आवश्यक होने की बात बताईं । उन्होंने बताया कि नईँ कानुन बनाने तथा प्रचलित कानुन को भी संशोधन किया जाना चाहिये ।
कार्यक्रम में अधिवक्ता ओमप्रकाश अर्याल, पुन्देवी महर्जन तथा प्रतिभा खनाल के परामर्श में कानुन के पुनरावलोकन सम्बन्धी कार्यपत्र प्रसतुत किया गया ।
कार्यक्रम में वार एशोसिएनसन की केन्द्रिय अध्यक्ष उषा मल्ल पाठक, युएन वुमन की सरु जोशी श्रेष्ठ, मिडिया एडभोकेसी ग्रुपकी संचालक बविता बस्नेत लगायत कानुनविद्, राजनीति कर्मियों सहित की उपस्थिति थीं ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of