Thu. Oct 18th, 2018

‘संविधान विरुद्ध ‘काला दिवस’ भौगोलिक खण्डता और राष्ट्रीय एकता के प्रति आक्रमण’

काठमांडू, २२ सितम्बर । संविधान दिवस के दिन प्रदेश नं. २ में सीके राउत समूह तथा कुछ राजनीतिक दलों की ओर से मनाया गया ‘काला दिवस’ प्रति विवेकशील साझा पार्टी ने आपत्ति प्रकट किया है । विवेकशील साझा को मानना है कि उक्त विरोध प्रदर्शन देश की भौगोलिक खण्डता और राष्ट्रीय एकता के प्रति गम्भीर आक्रमण है । पार्टी प्रवक्ता सूर्यराज आचार्य ने एक प्रेस विज्ञप्ति प्रकाशित करते हुए कहा है कि उक्त घटना के प्रति पार्टी की गम्भीर ध्यानाकर्षण हुआ है ।
विज्ञप्ति में कहा गया है कि तत्कालीन संविधानसभा में उपस्थित ९० प्रतिशत सभासदों ने उक्त संविधान अनुमोदन किया है, यह एक सहमति की दस्तावेज है, लोकतात्रिक देश में ९० प्रतिशत जनप्रतिनिधियों की सहमति उदाहरणीय है । विवेकशील साझा को यह भी मानना है कि संविधान एक गतिशील राजनीतिक दस्तावेज है और परिस्थिति अनुकुल उसमें संशोधन किया जा सकता है, जो लोकतान्त्रिक प्रक्रिया भी है । संविधान प्रति जो असन्तुष्टियां है, उसको सम्बोधन करने के लिए भी विवेकशील साझा ने कहा है ।
पार्टी को यह भी कहना है कि प्रदेश नं. २ में सीके राउत समूह द्वारा किया गया प्रदर्शन और भाषण देश की भौगोलिक खण्डता और राष्ट्रीय एकता प्रति आक्रमण है, जो सह्य नहीं है । ऐसी गम्भीर घटना में सरकार की मौनता के प्रति भी पार्टी ने आपत्ति प्रकट किया है । इस तरह की गतिविधियों के विरुद्ध कडाइ के साथ कानुनी कारवाही करने के लिए भी विवेकशील साझा ने सरकार से मांग किया है ।
इसीतरह कुछ दिन पहले भारतीय सेना प्रमुख विपिन रावत द्वारा नेपाल के प्रति सार्वजनिक अभिव्यक्ति के प्रति भी विवेकशील साझा पार्टी ने आपत्ति प्रकट किया है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of