Sun. Oct 21st, 2018

सत्य निरुपन तथा मेलमिलाप आयोग द्वारा ४५ हजार उजुरी संकलन

विजेता चौधरी, काठमाण्डू, अषाढ १६
सत्य निरुपन तथा मेलमिलाप आयोग ने गम्भीर किसीम के मानवअधिकार उलंघन के घटनाओं को क्षमादान न देने की बात बताई है । अपहरण, बलात्कार, हत्या शारीरिक व मानसिक यातना को क्षमादान नही देने की बात सार्वजनिक किया है । ऐसे अभियोग के व्यक्ति को कारवाही के लिए सिफारिस करने को आयोग तैयारी कर रही है ।

satynirupan
आयोग के उजुरी संकलन से दश वर्ष पहले सशस्त्र द्वन्द्व के पीडित को राहत की आश जगी है । इसी आश में दैनिक उजुरी आने का क्रम जारी है । आयोग के मुताविक अब तक ४५ हजार उजुरी आ चुकी है ।
उजुरी देने के लिए अषाढ २ गते से ३० दिन के लिए अतिरिक्त समय प्रदान किया गया है । जिसमे फिलहाल विभिन्न किसीम के ४५ हजार उजुरी पहुँची है ।
आयोग ने उजुरी के प्रारम्भिक चरण में द्वन्द् काल के घटना होने की वजह से आवश्यक प्रमाण की अवस्था का अध्ययन करेगी । उस के बाद हत्या, विस्थापन, सम्पत्ति कब्जा आदि के कितने उजुरी है पहले चरण मे विभाजन का कार्य होगा ।उस के बाद दुसरे चरण में अनुसंधान किया जाएगा ।
आयोग ने बताया ७३ जिला से उजुरी संकलन किया गया है , जिस मे मध्यपश्चिम में सब से अधिक उजुरी आई है । आयोग ने निर्धारित समय तक ५० हजार उजुरी आने की अनुमान की है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.