Fri. Sep 21st, 2018

सरकारी खर्च बढने के कारण प्रत्येक नेपाली पर  ३० हजार पाँच साै ४७ रूपया का ऋणभार बढा

३० जुलाई

नेपाल सरकार का कुल ऋण ८ खर्ब ९४ अर्ब ७८ करोड पहुँच चुका है। सरकारी खर्च बढने के क्रम में ५ वर्ष के अन्तराल में ६१.६५ प्रतिशत राष्ट्रीय ऋण बढा है । ५ वर्ष पहले आर्थिक वर्ष २०७०÷७१ में यह ऋण पाँच खर्ब ५३ अर्ब ५० करोड था। एक वर्ष में एक खर्ब ९७ अर्ब १० करोड पुँजी बढा है। गत आर्थिक वर्ष तक यह ६ खर्ब ९७ अर्ब ६८ करोड था। ,

ऋण का रकम उत्पादनमूलक क्षेत्र में खर्च हाेने से अर्थतन्त्र काे मजबूत बनाये जाने की बात  अर्थविद् दीपेन्द्रबहादुर क्षेत्रीबताते हैं । अन्य देश में कुल गार्हस्थ उत्पादन का एक साै ५०/६० प्रतिशत तक ऋण लेने का उदाहरण देते हुए उन्हाेंने कहा कि   ‘ऋण काे उपभोग में खर्च नहीं किया गया । यह अर्थतन्त्र काे धराशयी बनाएगा।

पिछले आव में सरकार द्वारा लिया गया ऋण अगर प्रति नेपाली के  भाग में बाँटा जाय ताे प्रत्येक एक पर  ३० हजार पाँच साै ४७ रूपया का ऋण पडता है आव तक प्रति नेपाली २४ हजार एक साै ४३ रूपैयाँ ऋण का दायित्व था। एक वर्ष के अन्तराल में प्रतिव्यक्ति ६ हजार चार साै चार रूपैया ऋणभार बढा है।

अन्नपूर्ण पाेस्ट से

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of