Sat. Oct 20th, 2018

सांसद हरिनारायण रौनियार ने संसद में मुठभेड़ की चेतावनी दी

सांसद हरिनारायण रौनियार ने संसद में दुधेश्वर मेला, नहर का पानी, बाढ़ और अस्थायी शिक्षक के मांग को जोरदार तरीके से उठा कर मुठभेड़ का चेतावनी दिया।

रेयाज आलम | वीरगंज, २८आषाढ़ :- आज संघीय संसद के बैठक में सांसद हरिनरायण रौनियार ने पर्सा के दुधेश्वर महादेव मंन्दिर में मेला के रोक पर भारी मुठभेड़ होने का चेतावनी दिया।
संघीय समाजवादी फोरम नेपाल के सांसद हरिनरायण रौनियार ने पर्सा के निकुंञ्ज के भीतर वर्षौ पुरानो ऐतिहासिक दुधेश्वर महादेव मंन्दिर में श्रावण महिना में लगने वाले मेला में पर्सा निकुंञ्ज और जिल्ला प्रशासन कार्यालय पर्सा के रोक लगाने के बाद, ये बात संघीय संसद में उठाई। आज के संघीय संसद के बैठक में सांसद रौनियार ने सावन महिना में दैनिक ५० हजार से ज्यादा भक्तजन, वर्षौ पुरानो ऐतिहासिक दुधेश्वर महादेव मंन्दिर में जल चढ़ाने आते है और वही मेला लगता है। वहाँ वर्षौ पुराना ऐतिहासिक दुधेश्वर महादेव मंन्दिर में पर्सा निकुंञ्ज और जिल्ला प्रशासन पर्सा ने मेला लगाने नही दिया जिस पर आपत्ति जाहिर करते सांसद रौनियार ने संघीय संसद में विरोध दर्ज कराया। साथ ही संसद ने नहर में पानी नही छोड़ने पर आपत्ति किया। सिमा से सटे, घोड़ासहन केनाल के उच्चे नहर के कारण, पर्सा-बार-रौतहट में बाढ़ के पानी निकास के लिए कोई व्यवस्था नहीं होने के तर्फ ध्यानाकर्षण कराया। सांसद ने अस्थायी शिक्षक में मांग को यथाशीघ्र पूरा करने का जोड़दार मांग किया।
पर्सा राष्ट्रिय निकुंञ्ज में वर्षौ पुराने ऐतिहासिक दुधेश्वर महादेव मंन्दिर में वर्ष में ३ बार माध पंचमी, बैशाख त्रयोदशी और श्रावण महिना में मेला लगने का परम्परा है। पिछले शनिबार पर्सा के प्रमुख जिल्ला अधिकारी लोकनाथ पौडेल, पर्सा २ राष्ट्रिय निकुंञ्ज प्रमुख संरक्षक अधिकृत हरिम प्र अर्चाय, शस्त्र प्रहरी उपरिक्षक प्रेम दोज साह, पटेर्वा सुगौली गा.पा.का .प्रमुख हरिनरायण चौधरी और मेला ब्यवस्थापन समिती के टोली द्वारा अनुगमन हुआ था। पर्सा राष्ट्रिय निकुंञ्ज के प्रमुख हरिभद्र अर्चाय के अनुसार पर्सा राष्ट्रिय निकुंञ्ज के अंदर मेला लगने से जगली जीव-जानवर अपने स्थान से दूसरे जगह चले जाते है, जिससे उनके चोरी और शिकार होते है, साथ ही उनसे भिडंत में पड़ कर तीर्थयात्रियों को अपनी जान गवानी पड़ती है, इसलिए आगामी दिन में मेला चरभैया पोष्ट और सोनवर्षा के बीच राष्ट्रिय वन में मेला लगाने और दर्शन मात्र के लिए महादेव मन्दिर जाने की अनुमति देने की तैयारी है।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of