Mon. Sep 24th, 2018

हमारी भूपरिवेष्ठित संवेदनशीलता भारत की ओर से संबोधित होना चाहिएः डा. महत

डा. प्रकाश शरण महत –नेता, नेपाली कांग्रेस

काठमांडू, २८ जनवरी । दुनियां में कम ही देश ऐसे होते हैं, जहां एक–दूसरे देश के नागरिकों को आवत–जावत के लिए पासपोर्ट की आवश्यकता नहीं पड़ती । भारत भी हमारे लिए एक ऐसा ही देश है, जहां जाने के लिए हम लोगों को पासपोर्ट आवश्यक नहीं है । सदियों से जारी सामाजिक, सांस्कृतिक, भाषिक संबंध के कारण ही ऐसा हो रहा है । सामाजिक–सांस्कृतिक संबंध को देखते हें तो लगता है कि दोनों देश एक ही है ।
लेकिन हमारे बीच राजनीतिक तथा कुटनीतिक संबंध भी है, जो दो अलग–अलग देश के रुप में परिभाषित करता है । दीर्घकालीन और मजबूत संबंध के लिए राजनीतिक और कुटनीतिक संबंध खुला होना जरुरी है । एक–दूसरे में जो भावना है, उसको समझने की जरुरत है । अर्थात् नेपाल और भारत दोनों के लिए एक–दूसरे से कुछ ऐसी अपेक्षाएं हैं, जिसको सम्बोधन होना चाहिए । हां, भारतीय संवेदनशीलता के लिए नेपाल को गम्भीर होना चाहिए और नेपाली जनभावना को भारत की ओर से सम्मान भी होना चाहिए । तब ही दो देशों के बीच आपसी संबंध मजबूत बन सकता है ।
भारत, अपनी सुरक्षा संवेदनशीलता के प्रति ज्यादा सतर्क दिखाई देता है, जो स्वाभाविक भी है । नेपाल इस को अनदेखा नहीं कर सकता । नेपाल की ओर से प्रतिबद्धता व्यक्त होना चाहिए कि किसी भी हांलात में नेपाल की भूमि भारत के विरुद्ध प्रयोग नहीं हो सकता ।
इसीतरह नेपाल एक भू–परिवेष्ठित देश है । भू–परिवेष्ठित संवेदनशीलता को भारत की ओर से सम्बोधन होना चाहिए । जिसके चलते नेपाल भी आर्थिक विकास और व्यापार में आगे बढ़ सके ।

लेकिन कभी कभार राष्ट्रवाद के नाम में यहां सडक प्रदर्शन किया जाता है । राजनीतिक तथा कुटनीतिक संबंध द्वारा समस्या समाधान करने के बजाए इसतरह का हरकत करने से संबंध मजबूत नहीं हो सकता । हम चाहते हैं कि यहां के विकास के लिए भारत की ओर से आर्थिक स्रोत आ सके । क्योंकि नेपाल भी समृद्धि की ओर आगे बढ़ना चाहता है । लेकिन इसके लिए दोनों देश अपनी ओर से जीत का महसूस कर सके ।

(भारत के ६९वें गणतन्त्र दिवस के अवसर पर नेपाल भारत मैत्री समाज द्वारा काठमांडू में आयोजित कार्यक्रम में व्यक्त विचारों का संपादित अंश)

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of