Tue. Jun 2nd, 2020

प्रहरी के वेतन की कटौती उनके मनोबल को कम करेगा : राजेश शर्मा

  • 204
    Shares

सिरहा, ९ अप्रैल ।

नेपाल प्रहरी के वेतन की कटौती का फैसला काफी चौंकाने वाला है विश्व आज करोना के संकट से जूझ रहा है ऐसे संकट काल में विश्व के सभी देश तीन तंत्र के भरोसे ही चल रहा है डॉक्टर,नर्स,प्रहरी इनका मनोबल बढ़ाने के लिये पडोसी देश भारत मे तरह तरह के कार्य किये जा रहे हैं थाली बजाना, दीप जलाना क्योंकि जब भारत के राजस्थान के भीलवाड़ा में करोना से कई बड़ी आबादी वाले कस्बे में संक्रमण लकडाउन के बाद भी फैलने लगा तो सुपर लकडाउन का सहारा राजस्थान सरकार को लेना पड़ा जिसमे अत्यंत जोखिम के बाद भी प्रहरी की भूमिका सहरानीय रही ।

वही भारत के उत्तर प्रदेश के १५ जिले व नई दिल्ली के २० जगह को सुपर लकडाउन किया गया है जो कर्फ्यू के तरह ही है । यहाँ भी प्रहरी की भूमिका सहरानीय है क्योंकि संक्रमण के लिहाज से काफी खतरनाक इलाके होने के बाद भी प्रहरी सभी घरों में दूध ,दवा व अन्य जरूरत के सामानों को पहुचायेगी इन सभी में प्रहरी की भूमिका किसी देवदूत से कम नही होगी । ऐसे में जबकि प्रधानमंत्री केपी शर्मा ‘ओली ‘ने भी कह दिया है नेपाल के लिये दो सप्ताह महत्वपूर्ण है नागरिक सुरक्षा के लिये लकडाउन को पालना कराने के लिये परिवार से दूर रहकर रात दिन सेवा में लगे प्रहरी की तलब की कटौती आम जनमानस के समझ से बाहर है जबकि राजकीय कोष को मजबूत बनाने के लिये कई तरह के बिकल्प सरकार के पास मौजूद है जिस वक्त पूरा विश्व प्रहरी के कार्य की सहराना कर रहे है उस वक़्त नेपाल प्रहरी के तलब को काटना आलोचना का बिषय है .

यह भी पढें   नेपाल में फसे  बिहार के 496 लोगो को भेजा गया गृह जिला

ये लेखक के स्वतंत्र विचार हैं

लेखक  भारत नेपाल समाजिक संस्कृति मन्च के अध्यक्ष और आशियाना इंटरनेशनल जॉर्नलिस्ट कॉउंसिल के सम्पादक हैं

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: