Tue. Aug 11th, 2020

मधेशी आयोग से समिति ने मांगा लिखित स्पष्टिकरण

  • 135
    Shares
१५ जुलाई, काठमांडू । मधेशी आयोग द्वारा आर्थिक वर्ष २०७५ तथा०७६ में बहुत सारा कार्यक्रम किया गया जिसमें घोटाला होने की आशंका से प्रतिनिधिसभा अन्तर्गत का महिला तथा सामाजिक समिति ने लिखित जवाब देने का निर्देशन दिया हे ।
मंगलबार के समिति की बैठक ने आयोग को निर्देशन देते हुये कहा कि आर्थिक वर्ष २०७५और०७६ के अन्त में मधेशी आयोग द्वारा जथाभावी रकम खर्च करते देखा गया है जिसका यथार्थ विवरण लिखित रुप में दें ।
समिति ने बताया कि आर्थिक वर्ष के अन्तिम अन्तिम में गोष्ठी के नाम में ३२ लाख रकम खर्च किया गया है । इसलिये समिति मधेशी आयोग से उक्त रकम खर्च के सम्बन्ध में स्पष्टीकरण मांगा है ।
मधेशी आयोग ने २०७५और०७६ के तीन महीना २३ दिन में सिर्फ चालु खर्च में एक करोड ३४ लाख २७ हजार ४९ रुपिया खर्च किया है जिसमें से सबसे अधिक ३६ लाख रुपैया गोष्ठि में खर्च किया है ।
आयोग ने सबसे अधिक कार्यक्रम प्रदेश २ में २३ बार किया है । सप्तरी, सिरहा में ५ दिन में ६ बार कार्यक्रम हुआ है । धनुषा और महोत्तरी में १९ दिन में १० बार । इसी प्रकार सर्लाही, रौतहट, बारा, पर्सा में सात दिन में सात बार कार्यक्रम किया गया है । प्रदेश १ के मोरङ, सुनसरी और झापा में सात दिन में पाँच बार कार्यक्रम किया गया है ।

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: