Wed. Aug 5th, 2020

श्रीराम मंदिर के भूमिपूजन के लिए भगवान महाकालेश्वर को चढ़ाई जाने वाली भस्म, मंदिर की मिट्टी और शिप्रा नदी का जल भेजा गया है।

  • 217
    Shares

अयोध्या में पांच अगस्त को होने वाले श्रीराम मंदिर के भूमिपूजन के लिए मध्य प्रदेश के उज्जैन व ओंकारेश्वर स्थित ज्योतिर्लिग से पवित्र जल व मिट्टी अयोध्या भेजी गई। उज्जैन से भगवान महाकालेश्वर को चढ़ाई जाने वाली भस्म, मंदिर की मिट्टी और शिप्रा नदी का जल भेजा गया है।

सोमवार सुबह महाकाल मंदिर में महानिर्वाणी अखाड़े के महंत विनीतगिरी द्वारा सामग्रियों का विधिवत पूजन किया गया। इसके बाद विश्व हिंदू परिषद के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष अनिल कासलीवाल आदि ने इसे महंत से लेकर अयोध्या के लिए भेजा। भगवान महाकाल को अर्पित पुष्प व बिल्वपत्र भी अयोध्या भेजे गए हैं।

खंडवा जिले में स्थित ज्योतिर्लिग नगरी ओंकारेश्वर से भी जल व मिट्टी भरकर खंडवा से आए कार्यकर्ताओं को अयोध्या भेजने के लिए सौंपी गई। पुण्य भूमि महेश्वर से भी नर्मदा जल व मिट्टी लेकर खरगोन से आया चार सदस्यीय दल सोमवार को अयोध्या के लिए रवाना हुआ।

यह भी पढें   भारत के केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह भी कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में

इसके साथ ही देश के अन्य हिस्सों की भांति देवभूमि उत्तराखंड से भी चारधाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री समेत अन्य मठ-मंदिरों की माटी और गंगा-यमुना जैसी सभी नदियों का पवित्र जल अयोध्या भेजा जाएगा।

स्थापत्य कला का बेजोड़ नमूना होगा राममंदिर

राममंदिर कई मामलों में स्थापत्य कला का बेजोड़ नमूना होगा। भवन का डिजाइन ऐसा होगा जो आठ से 10 तक रिक्टर पैमाने की तीव्रता वाला भूकंप आसानी से झेल जाएगा। भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर एक हजार वर्षो तक गौरव की अनुभूति कराने को तनकर खड़ा रहेगा। यह भव्य भवन उन तमाम कटु अनुभवों को ध्यान में रखते हुए तैयार किया जाएगा, जिनका सामना अतीत में करना पड़ा।

यह भी पढें   राखी के दो धागे भी करते यही पुकार : मनीषा मारू

 

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: