Wed. Feb 21st, 2024

नेपालगन्ज के अवधी साँस्कृतकि प्रतिष्ठान नेपाल का तीसरा  अधिबेशन मं

नेपालगन्ज/(बाँके) पवन जायसवाल । बाँके जिला के नेपालगन्ज के अवधी साँस्कृतकि प्रतिष्ठान नेपाल का तीसरा  अधिबेशन मसीर २ गते शनिवार को सम्पन्न हुआ है ।



अवधी साँस्कृतकि प्रतिष्ठान नेपाल का तीसरा अधिबेशन ने रमेशचन्द्र कुमाल को अध्यक्ष पद में चयन किया है ।

 रमेशचन्द्र कुमालको अध्यक्षता में  ११ सदस्यीय नई कार्य समिति की चयन किया गया है । 

अधिवेशन ने अवधी साँस्कृतकि प्रतिष्ठान नेपाल में मधई सिंह सिख्ख, वीरेन्द्र यादव, कृष्णा पाठक, जहिरुल हक जीनू, चन्दा सिंह, अल्पना बैश्य, नीलम शर्मा, सतीश पाठक, युवा गायककार नितेष विश्वकर्मा, सुशीला बैश्य को सर्वसम्मत से  चयन किया गया है । 

सर्वसम्मत में चयन हुये लोगों को समिति की बैठक से विभिन्न पदाधिकारियों को चयन किया जायेगा प्रतिष्ठान के संस्थापक विष्णुलाल कुमाल ने बताया । उन्हों ने कहा अवधी भाषा, साहित्य कला, संस्कृति के क्षेत्र में विगत एक दशक से अधिक  क्रियाशील रुप में काम करते आये हैं बताया । इस क्षेत्र में संस्था ने अवधी क्षेत्र में काम करते आ रही है । 

वह कार्यक्रम में नवनिर्वाचित अध्यक्ष रमेश चन्द्र कुमाल कुमाल ने अपनी विचार रखते हुये कहा संस्था की गरिमा को उच्च स्थान में पहुँचाने प्रतिबद्धता व्यक्त करते हुये अवधी क्षेत्र की विकास के लिये मैं सक्रिय रुप से काम करने के लिये बताया । 

अवधी सांस्कृतकि प्रतिष्ठान नेपाल की उदघाटन समारोह में वरिष्ठ कथाकार तथा साहित्यकार औरु पूर्व प्राज्ञ सदस्य सचिव सनत कुमार रेग्मी ने अपनी विचारों में कहा अवधी भाषा, साहित्य और कला क्षेत्र की विकास में संस्था ने किया काम के बारे में चर्चा करते हुये कहा अभी और भी अवधी क्षेत्र की लोकगीत, कथा कहानी को संकलन करके अभिलेखीकरण करने के लिये जोड दिया था । 

वह कार्यक्रम में अवधी पत्रकार संघ नेपाल के अध्यक्ष राकेशकुमार मिश्र ने नेपाल में अवधी भाषा और साहित्य विकास की उपलब्धी और अवधी क्षेत्र की विकास के लिये करने वाली काम के बारे में अपनी विचार रख्खा था । 

इसी तरह वह कार्यक्रम में वरिष्ठ अवधी साहित्यकार रामगोपाल गुप्ता, महेन्द्र पुस्तकालय के सदस्य कृष्ण मुरारी प्रसाद भट्ट, सूचना और मानव अधिकार अनुसन्धान केन्द्र के अध्यक्ष अधिवक्ता विश्वजीत तिवारी, साहित्यकार मधई सिंह सिख्ख, सब्बीर रहीमानी लगायत लोगों ने भी अपनी अपनी विचार रख्खा था । 

सो अवसर पर साहित्यकारों में मधई सिंह सिख्ख, सब्बीर रहीमानी, सुशीला बैश्य, नितेश विश्वकर्मा लगायत लोगों ने विभिन्न रचनाएँ प्रस्तुत किया था प्रतिष्ठान के वीरेन्द्र यादव ने जानकारी कराया ।



About Author

यह भी पढें   जनकपुरधाम में हिन्दी भाषा की प्रथम बैठक सम्पन्न
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: