Tue. Feb 27th, 2024

जयनगर रेल्वे स्टेशन में विवाह पंचमी के अवसर पर भक्तों को माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन द्वारा निःशुल्क भोजन

जयनगर, मिश्रीलाल मधुकर । विवाह पंचमी के अवसर पर पिछले चार दिनो से यानी बीते शनिवार की शाम से नेपाल के जनकपुर जाने वाले श्रद्धालु यात्री मधुबनी जिले के भारत-नेपाल सीमा क्षेत्र पर अवस्तिथ जयनगर शहर एवं रेलवे स्टेशन परिसर एवं इसके आसपास में श्री सीताराम विवाहोत्सव में शामिल होने के लिए इकठ्ठा हुए, जिसमे श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ गई। इसमें अधिकांश श्रद्धालुओं का पेट भरने का बीड़ा स्थानीय सामाजिक स्वयंसेवी संस्था माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन ने उठाया है। लगभग शाम से देर शाम तक करीब दो सौ लोगों को लंगर लगा कर भर पेट गर्म एवं पोस्टिक खाना निःशुल्क बैठा कर कराया गया।
बता दें कि जयनगर रेल्वे स्टेशन परिसर एवं इसके सामने पुराना नगर पंचायत परिसर में माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन के द्वारा विवाह पंचमी के खास अवसर पर जयनगर शहर में श्रद्धालुओं की भारी भीड़ होने पर लंगर लगाया गया, जिसमें पिछले चार-पांच दिनो से दो सौ लोगों को गर्म चावल, दाल, आलू की मिक्स सब्जी, तिलोरी भोजन कराया गया।
इस अवसर पर आए श्रद्धालुओं ने संस्था की भूरी-भूरी सराहना की और इनके काम की जमकर तारीफ़ की।
मौके पर बाबा बालक दास जो अयोध्या से चल कर आए थे, इस संस्था के माध्यम से दो दिन भोजन किया और इसके उपरांत उन्होंने बताया की पुरे भारत वर्ष में इनका कोई सानी नहीं हैं। मैं लगभग भारत के हर कोने में जा चूका हूँ पर माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन का खिलाने का अंदाज बहुत बढ़िया है, और इससे भी बढ़िया इनका खाना खिलाने का तरीका एवं इनका खाना है। इनका खाना खाने लायक और गर्म एवं पौष्टीक होता हैं।
इस मौके पर संस्था के मुख्य संयोजक अमित कुमार राउत ने बताया की पिछले चार सालों से अनवरत हमलोग लंगर लगा कर भोजन करवा रहे हैँ। ये सब कुछ माँ अन्नपूर्णा की कृपा और अपने संस्था के दाताओं की वजह से ही संभव हो पाता है। साथ ही इस संस्था के जितने भी संरक्षक, पदेन सदस्य एवं एक्टिव सदस्य हैँ, उनका योगदान भी निःसंदेह अभूतपूर्व हैं। ख़ास कर संस्था के एक्टिव सदस्य धन्यवाद के पात्र हैं जो रोज ही एक तय समय पर आकर श्रमदान कर भोजन वितरण को सफल बनाते हैँ। साथ ही पत्रकार बन्धुओं का भी भरपूर सहयोग मिलता हैं, जिसमे कारण हमारा हौंसला आफजाई होता रहता हैं और मनोबल बना रहता है।
उन्होंने बताया कि जरूरतमंद को भोजन कराना और उसकी सेवा करना जीवन का सबसे बड़ा पुण्य होता है। इस कार्य के लिए हर व्यक्ति आगे होता है, ताकि कोई व्यक्ति भूखा ना सोए। इसी उद्देश्य से जयनगर में माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन की शुरुआत की गई। माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन का उद्देश्य है कि जयनगर शहर में कोई भी व्यक्ति भोजन के लिए दर-दर न भटके। हर जरूरतमंद को भोजन मिल पाए। जयनगर के युवाओं ने लगभग चार वर्ष पहले कोरोना संकट के समय माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन की शुरुआत की थी, लेकिन,अब माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन ने जरूरतमंदों के लिए जयनगर में लंगर लगाकर नि:शुल्क भोजन प्रतिदिन करवा रहे है। माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन के जरिए गरीब भूखे लोगों को गुणवत्ता युक्त भोजन उपलब्ध कराए जाते हैं। कोरोना संकट में शुरू हुआ माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन अब हर गरीब और असहाय लोगों की भूख मिटा रहा है। अब माँ अन्नपूर्णा कम्युनिटी किचन की ओर से नई पहल करते हुए शहर के लोगों को जागरूक किया जा रहा है। जन्मदिन हो या पुण्यतिथि लोगों से अपील की जा रही है कि व्यर्थ खर्चा करने के बजाय आप इन जरूरतमंद लोगों के लिए भोजन की व्यवस्था करें। लोग भी इनकी मदद के लिए आगे आए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: