Mon. May 20th, 2024

मैथिली एसोसिएशन नेपालका चौथा साधारण सभा से १५ सदस्यीय कार्यसमिति का गठन हुआ

मैथिली एसोसिएशन नेपालका १५ सदस्यीय कार्यसमिति का गठन

हिमालिनी प्रतिनिधि कोशी प्रदेश नेपाल । मैथिली एसोसिएशन नेपाल का चौथा वार्षिक साधारण सभा २३ दिसम्बर २०२३ शनिवारके दिन होटल रंगी विराटनगर के सभागार में सम्पन्न हुआ। मैथिली भाषा, साहित्य तथा संस्कृति के संरक्षण, संवर्धन व प्रवर्धन हेतु छाता संगठन के रूपमें स्थापित इस एसोसिएशनका नया कार्यसमितिमें अध्यक्ष सहित कुल १५ पदाधिकारयोंका चयन किया गया है। अध्यक्ष में मैथिली भाषा अभियन्ता प्रवीण नारायण चौधरी व उपाध्यक्षमें वरिष्ठ समाजसेवी आभा अनुपमा तथा पंकज वर्मा, महासचिवमें राकेश देव, सचिवमें भाष्कर चौधरी व अजय कर्ण, कोषाध्यक्षमें मीरा देव व सदस्योंमें प्रकाश प्रेमी, पूनम सिंह, वन्दना चौधरी, विरेन्द्र कुमार झा, दिपेन्द्र स्वर्णकार, रोजी झा, सरिता साह तथा मन्जू मिश्र निर्वाचित हुए हैं। निर्वाचन समितिका संयोजक शिव नारायण पण्डित सिंगल ने निर्वाचित पदाधिकारयोंके नामका घोषणा किये तथा मैथिलीभाषाका वरिष्ठ अभियन्ताद्वय रामरिझन यादव एवं डा. योगेन्द्र प्रसाद यादवद्वारा नई कार्यसमितिको बधाई ज्ञापन किया गया, साथ ही इन्हीं लोगोंके निर्देशनपर संचालक किसलय कृष्णद्वारा पदाधिकारियोंको शपथग्रहण भी कराया गया।
वार्षिक साधारण सभाका उद्घाटन प्रमुख अतिथि संविधान सभा सदस्य एवं पूर्व मंत्री (कोसीप्रदेश) माननीय जयराम यादव ने किया। इसी प्रकार कार्यक्रममें हनुमाननगर-कंकालिनी नगरपालिकाके मेयर वीरेन्द्र माझी विशिष्ट अतिथि थे। अतिथियोंमें युवा राजनीतिकर्मी उमेश यादव, रंजीत झा, कादिर अली, कन्हैयालाल साह और राजेश गुप्ता, मिथिला चित्रकलाकी वरिष्ठ चित्रकर्मी शीला चौधरी, महिला अधिकारकर्मी तथा मैथिली अभियन्ता संजू साह, मैथिली सेवा समितिका संस्थापक अध्यक्ष डा. सुरेन्द्र नारायण मिश्र व निवर्तमान अध्यक्ष डा. एस. एन. झा और उपाध्यक्ष डा. योगेन्द्र प्रसाद यादव, प्रा. डा. नीलाम्बर झा, वरिष्ठ भाषा अभियानी रामरिझन यादव सहित कई महत्वपूर्ण लोगों की उपस्थिति थी।
उद्घाटन सत्रमें प्रमुख अतिथि सहित विशिष्ट अतिथि व अन्य वक्ताओं ने मैथिली भाषा व भाषिक अधिकार सम्बन्धित अनेकों ध्येय विषयवस्तुपर एसोसिएशनद्वारा अभियान संचालित करने जैसे विन्दुओंपर ध्यानाकर्षण किया। नेपालकी नई राजनीतिक परिदृश्य तथा खासकरके संघीयता लागू होनेके बाद स्थानीय निकायों एवं प्रदेश सरकारोंकी कामकाजका भाषाके रूपमें कोसी प्रदेश व मधेश प्रदेशके साथ अन्य प्रदेशोंमें भी मैथिलीभाषयोंके हक-हित, मैथिली भाषा-साहित्यको शिक्षामें समावेश और सामाजिक-सांस्कृतिक व्यवहारमें मैथिली भाषाका प्रयोग तथा सम्वर्धन करनेकी आवश्यकतापर जोर देते हुए मैथिली एसोसिएशन नेपालद्वारा सम्पूर्ण भाषाभाषीको संगठित कर सकनेकी सम्भावना प्रति मार्गदर्शन कराया गया। स्थानीय पाठ्यक्रम जैसे विषयोंमें मैथिलीभाषी छात्र-छात्राओंको मैथिलीमें ही पठन-पाठन कराने एवं इस कार्यके लिये विभिन्न पालिकाओंकी विद्यमान अवस्था अध्ययन करने जैसा जरूरी पहल एसोसिएशनसे होए यह शुभकामना देते हुए उद्घाटन सत्रका समापन किया गया था। दूसरा बन्द सत्र कार्यक्रमकद्वारा निर्वाचन प्रक्रिया आगे बढाते हुए पूर्ण लोकतांत्रिक पद्धतिसे नया कार्यसमितिका चयन किया गया। निर्वाचन समितिके संयोजक शिव नारायण पण्डित सिंगल तथा सदस्य कर्ण संजय – दोनों मैथिली भाषाके वरिष्ठ साहित्यकार तथा कवियोंके द्वारा पूरा किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: