Tue. Jul 16th, 2024

सहकारी पीडि़तों को न्याय दिलवाने के लिए मैं स्वयं गंभीर हूँ – प्रधानमन्त्री



काठमांडू, फागुन १– प्रधानमन्त्री पुष्पकमल दाहाल ‘प्रचण्ड’ ने कहा है कि सहकारी और लघुवित्त से पीडि़त लाखो नेपाली को न्याय दिलवाने के लिए वह स्वयं गंभीर एवं सक्रिय हैं ।
मंगलवार की सुबह बालुवाटार में राष्ट्रीय स्वतन्त्र पार्टी के सभापति रवि लामिछाने, उपसभापति डा.स्वर्णीम वाग्ले सहित की टोली के सुझाव पत्र को प्राप्त करते हुए प्रधानमन्त्री ने यह बात कही । भेट में उन्होंने कहा कि –इस मामले में मैं सबसे ज्यादा गम्भीर होकर लगा हुआ हूँ । लाखो बचतकर्ता ठगे जा चुके हैं,उन सभी को हर हाल में न्याय देना होगा । इसके मैं दृढ हूँ । आप लोगों ने भी जो सुझाव दिए हैं उसे मैं देखूँगा । मैं चाहता हूँ कि इस समस्या का मैं जल्द से जल्द समाधान कर सकूँ । इसमें आप सभी का सहयोग भी चाहिए होगा ।’
प्रतिवेदन में एक वर्ष के लिए बचत तथा ऋण कारोबार करने के लिए सहकारी दर्ता, कार्यक्षेत्र विस्तार अनुमति तथा सेवा केन्द्र स्वीकृति का काम बन्द करने का रास्वपा ने सुझाव दिया है । ‘सहकारी द्वारा घर जगह के साथ ही अन्य अनुत्पादनशील क्षेत्र में लगाने वाले लगानी को बन्द किया जाए’ प्रतिवेदन में इसका भी उल्लेख है । ५० करोड़ से ज्यादा कारोबार करने वाली सहकारी के नियमन को राष्ट्र बैंक अन्तर्गत लाना होगा और बचतकर्ता के निक्षेप सुरक्षण करने के लिए सहकारी बचत तथा कर्जा सुरक्षण कोष तत्काल स्थापना करने का भी रास्वपा ने सुझाव दिया है ।



About Author

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: