Thu. Apr 18th, 2024

मिथिला माध्यमिक परिक्रमा से शुरु होगा मिथिलांचल में होली का त्योहार

जनकपुरधाम. 17मार्च



15 दिवसीय मिथिला माध्यमिक परिक्रमा आज महोत्तरी के भंगहा नगर पालिका-9 स्थित कंचनवन पहुंच रही है.

27 गते फागुन को धनुषा के कचुरी स्थित मिथिला बिहारी मंदिर से शुरू हुई परिक्रमा आठवें दिन कंचनवन पहुंचने वाली है।

कंचनवन पहुंचने के बाद परिक्रमा यात्री एक दूसरे को अबीर लगा कर होली मनाते हैं।  ऐसा माना जाता है कि मिथिलांचल में होली का त्योहार यहीं से शुरू होता है।

तीर्थयात्रियों के अलावा आसपास के गांवों से हजारों लोग कंचनवन में होली खेलने और देखने के लिए इकट्ठा होते हैं।

भंगहा नगर पालिका ने आज कंचनवन पहुंचने वाले तीर्थयात्रियों का भव्य स्वागत करने की तैयारी की है। मेयर संजीव साह ने कहा कि श्रद्धालुओं का रंग-अबीर और फूल-मालाओं से जोरदार स्वागत किया जायेगा.

धार्मिक मान्यता है कि त्रेता युग में सीता और भगवान राम ने एक-दूसरे को रंग लगाकर होली खेली थी।

परिक्रमा यात्री , जो आज रात कंचनवन में विश्राम करेंगे, धनुषा के पर्वता, धनुषाधाम, औरही, विशौल होते हुए पूर्णिमा के दिन कल्याणेश्वर और फिर जनकपुरधाम लौटेंगे।

जनकपुर में फागु पूर्णिमा के दिन होली दहन के बाद आंतरिक परिक्रमा करके मध्यमा परिक्रमा पूरी की जाती है।

परिक्रमा के दौरान कुल 15 पड़ाव हैं, 13 नेपाल में और दो भारत में। जहां तीर्थयात्री रात्रि विश्राम करते हैं।

परिक्रमा करने वाले तीर्थयात्री परिक्रमा के बीच में 133 किलोमीटर पैदल चलकर इस लोक मान्यता के साथ चलते हैं कि इससे सुख, शांति और समृद्धि प्राप्त होगी।

 



About Author

यह भी पढें   आज का पंचांग : आज दिनांक 15 अप्रैल 2024 सोमवार शुभसंवत् 2081
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: