Mon. Feb 24th, 2020

सीके राउत ने हिरासत से ‘जय मधेश’ कहकर अभिवादन किया

ck raut-1काठमाणडू, १६ सितम्बर । मधेस को गुलामी की जंजीर से मुक्ति दिलाने के अभियान मे गिरफ्तार किये गये डा. सीके राउत ने कहा है कि नेपाल से तराई  अलग कराना ही ऊनका सिद्धान्त है । ‘राष्ट्र विखण्डन के बारे’ मे पुलिस के साथ अनौपचारिक वयान देते हुये राउत ने बताया है कि मधेसी जनता को दासता की जिन्दगी से मुक्ति दिलाने के लिये ही वे नेपाल से तराई को अलग कराना चाहते हैं । ऊन्होने कहा है कि ‘नेपाल राष्ट्र से तराई को अलग कराना ही उनका मुख्य सिद्धान्त है, और वे उसीके लिये ही यह अभियान चला रहे हैं,’ राउत के साथ इस अनौपचारिक वयान के बारे मे प्रहरी के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी । उन्होने कहा कि ‘मधेसी जनता की मुक्ति के लिये और तराई मे नेपाली साम्राज्यवाद अन्त नही होने तक यह अभियान चलता रहेगा।’

प्रहरी ने डा. राउत पर सार्वजनिक अपराध ऐनअन्तर्गत मुद्दा चलाया है। मंगलबार को सरकारी वकिल ने उनसे वयान लिया है। जिल्ला अदालत सरकारी वकिल के कार्यालय मोरङ मे राउत से सार्वजनिक अपराध ऐन कसुर सम्बन्ध मे ‘भीड जम्मा करके हो–हल्ला कराने के कारण के बारे मे यह ‘वयान लिया गया है। ‘सार्वजनिक अपराध ऐनअन्तर्गत मुद्दा चलाये जाने के कारण राष्ट्र विखण्डन और उनके विचारो के बारे मे कोइ वयान नही लिया गया है’ प्रहरी स्रोत से जानकारी मिली है ।

उनसे लिये गये वयान के बारे मे प्रहरी तथा सरकारी वकील ने कहा है कियह बयान के बारे मे बताना मही मिलेगा। बहुत ही गोप्य रुप से राउत के साथ लिये गये वयान के बारे मे जिल्ला न्याधिवक्ता शंकर खत्री ने कहा कि – ” यह प्रहरी अनुसन्धान का विषय है इसलिये यह बताना नही मिलेगा ।

वयान लेते समय  राउत के समर्थन मे लोग बाहर इकट्ठे थे ।  प्रहरी के साथ बाहर निकलते समय राउत ने अपने शुभचिन्तको को ‘ जय मधेश’ कहकर अभिबादन किया था ।

प्रदर्शन और बिरोध जारी 

राउत की रिहाई की माग राखकर सिरहा नागरिक समाज ने मंगलबार को विरोध प्रदर्शन किया था ।  राजमार्ग अवरोध करते समय चार लोगो को प्रहरी ने हिरासत मे लिया है। नेपाल सद्भावना पार्टी सिरहा ने भी राउत की रिहाई का माग करते हुये लहान बजार मे विरोध प्रदर्शनकिया है।

Loading...

 
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: