Thu. Jun 20th, 2024

अगर भारत से छुट्टियों में आ रहे नेपाल, तो रखें इन बातों का विशेष ख्याल

काठमान्डू25 अप्रैल



कई लोग छुट्टियों में सीधे नेपाल मे एंट्री लेते हैं. वह प्राकृतिक नजारों के साथ अपनी छुट्टियां एंजॉय करते हैं. ऐसे में कई बार बाहर से आने वाले लोगों को जानकारी न होने की वजह से बॉर्डर पर रुक जाना पड़ता है. अगर आप बॉर्डर पर गाड़ी खड़ी करके पैदल एंट्री लेना चाहते हैं तो आपके पास आधार कार्ड और पैन कार्ड होना अनिवार्य है. इसके साथ ही अगर आप अपने निजी वाहन से नेपाल में एंट्री पाना चाहते हैं तो, बॉर्डर पर आपको भंसार बनवाना होगा. बाकी देशों की तरह यहां वीजा और पासपोर्ट का झंझट नहीं है. बस भंसार बनवाने के बाद 24 घंटे के अंदर आपको वापसी करनी होगी.

कितना होगा एंट्री टैक्स
भारत से नेपाल जाने के लिए पहले परमिट और भंसार का बड़ा टेंशन होता था. दोनों अलग-अलग जगह बनवाने पडते थे. लेकिन इसे अब एक ही जगह कर दिया गया है. परिवहन प्रबंधन सेवा कार्यालय के प्रमुख ईश्वरी आर्य ने बताया कि, भंसार कार्यालय से यातायात सेवा जोड़ दिया गया है. जिससे पर्यटकों को बहुत आसानी होगी. वहीं परमिट भंसार बनवाने के 24 घंटे के अंदर अगर लोग नहीं लौटते हैं तो बॉर्डर पर आने के बाद वो जितने दिन अंदर रहेंगे. उतना टैक्स भरना होगा और फिर वह जा सकेंगे.

यह भी पढें   विधायन व्यवस्थापन  समिति की बैठक आज

जानें टैक्स के रेट
नेपाली करेंसी के हिसाब से अगर भारत के लोग दोपहिया वाहन से एंट्री लेते हैं तो 200 रुपये, चार पहिया वाहन से एंट्री लेते हैं तो 600 रुपये, ट्रक पिकअप मिनी ट्रक से एंट्री लेते है तो 9600 रुपये, ऑटो एंट्री लेट है तो 400 रुपये देने होंगे. वहीं केवल ट्रैक्टर जाता है तो 500 रुपये, टाली ट्रैक्टर जाएगा तो 800 रुपये टैक्स के रूप में देने होंगे यह र्सिफ एक दिन का टैक्स है.



यह भी पढें   नेपाल रेडक्रस बाँके शाखा की ५७ वीं स्थापना दिवस मनाया गया 

About Author

आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: