Sat. May 18th, 2024

भगवान विष्णु के अवतार है चिरंजीवी परशुराम : डॉ श्रीगोपाल नारसन

परशुराम जयंती
भगवान विष्णु के अवतार है चिरंजीवी परशुराम,जो श्रीराम युग मे भी थे और श्रीकृष्ण के समय भी मौजूद रहे, आज भी उन्हें जीवित यानि चिरंजीवी माना जाता है।भगवान परशुराम ने ही भगवान श्रीकृष्ण को सुदर्शन चक्र उपलब्ध कराया था। महेंद्रगिरि पर्वत भगवान परशुराम की तपस्या स्थली रहा है।कहते है कि एक बार भगवान गणेश ने परशुराम को शिव दर्शन करने से रोक दिया था, जिससे  रुष्ट होकर परशुराम ने गणेश जी पर अपने फरसे से प्रहार किया, जिससे उनका एक दांत टूट गया था और वे एकदंत हो गए। त्रेतायुग में  सीता स्वयंवर में शिव धनुष टूटने पर भी वे नाराज हो गए थे ,हालांकि बाद में उन्होंने श्रीराम का सम्मान भी किया था।
 द्वापर युग में परशुराम ने असत्य वचन  के लिए दंड स्वरूप कर्ण को सारी विद्या विस्मृत होने का श्राप दे दिया था।उन्होंने ही भीष्म, द्रोण व कर्ण को शस्त्र विद्या प्रदान की थी।भगवान परशुराम को
विष्णु का छठा ‘ अवतार’ माना जाता है।जबकि श्रीराम सातवें अवतार थे।  भगवान परशुराम का जन्म 5142 वि.पू. वैशाख शुक्ल तृतीया के  प्रथम प्रहर में हुआ था। इनका जन्म सतयुग और त्रेता का संधिकाल भी माना जाता है। भगवान परशुराम का जन्म 6 उच्च ग्रहों के योग के समय में हुआ था।उनकी जन्म तिथि अक्षय तृतीया होने कारण इसी  दिन परशुराम जयंती मनाई जाती है।
 साहित्यकार शिवकुमार सिंह कौशिकेय द्वारा किये गए शोध के तहत परशुराम का जन्म वर्तमान बलिया के खैराडीह में बताया गया है। उत्तर प्रदेश के शासकीय बलिया गजेटियर में परशुराम का चित्र सहित संपूर्ण विवरण उपलब्ध होना बताया गया है।
एक किंवदंती में  मध्यप्रदेश के इंदौर के पास स्थित महू से कुछ ही दूरी पर स्थित जानापाव की पहाड़ी पर भगवान परशुराम का जन्म होना बताया गया है। यहां पर परशुराम के पिता ऋर्षि जमदग्नि का आश्रम है। कहते हैं कि प्रचीन काल में इंदौर के पास ही मुंडी गांव में स्थित रेणुका पर्वत पर माता रेणुका रहती थीं।
एक अन्य मान्यता में छत्तीसगढ़ के सरगुजा जिले में घने जंगलों के बीच स्थित कलचा गांव में स्थित एक शतमहला है। जमदग्नि ऋषि की पत्नी रेणुका इसी महल में रहती थीं और भगवान परशुराम को उन्होंने यही जन्म दिया ।
वही शाहजहांपुर के जलालाबाद में जमदग्नि आश्रम से करीब दो किलोमीटर पूर्व दिशा में हजारों साल पुराने मन्दिर के अवशेष मिलते हैं जिसे भगवान परशुराम की जन्मस्थली कहा जाता है। महर्षि ऋचीक ने महर्षि अगत्स्य के अनुरोध पर जमदग्नि को महर्षि अगत्स्य के साथ दक्षिण में कोंकण प्रदेश मे धर्म प्रचार का कार्य करने लगे। कोंकण प्रदेश का राजा जमदग्नि की विद्वता पर इतना मोहित हुआ कि उसने अपनी पुत्री रेणुका का विवाह इनसे कर दिया। इन्ही रेणुका के पांचवें गर्भ से भगवान परशुराम का जन्म हुआ। जमदग्नि ने गृहस्थ जीवन में प्रवेश करने के बाद धर्म प्रचार का कार्य बन्द कर दिया और राजा गाधि की स्वीकृति लेकर इन्होंने अपना जमदग्नि आश्रम स्थापित किया और अपनी पत्नी रेणुका के साथ वहीं रहने लगे। राजा गाधि ने वर्तमान जलालाबाद के निकट की भूमि जमदग्नि के आश्रम के लिए चुनी थी। जमदग्नि ने आश्रम के निकट ही रेणुका के लिए कुटी बनवाई थी आज उस कुटी के स्थान पर एक अति प्राचीन मन्दिर बना हुआ है जो आज ‘ढकियाइन देवी’ के नाम से सुप्रसिद्ध है। भगवान परशुराम के लिए जहां अपने पिता की आज्ञा सर्वोपरि रही वही वे अपने क्रोध व शिव भक्ति के लिए भी जाने जाते है।कहा जाता है कि एक बार उन्होंने अपने पराक्रम से नदियों तक की दिशा मोड़ दी थी।ऐसे बलशाली और पराक्रमी है भगवान परशुराम। (लेखक आध्यात्मिक चिंतक एवं वरिष्ठ पत्रकार)
डॉ श्रीगोपाल नारसन एडवोकेट
पोस्ट बॉक्स 81,रुड़की,उत्तराखंड
मो0 9997809955

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: