Mon. May 27th, 2024

रातो मछिंदरनाथ की रथयात्रा आज से शुरू

ललितपुर 11मई



रातो मछिंदरनाथ की रथयात्रा आज से शुरू हो गई है. ललितपुर के पुलचोक से चलने के बाद मच्छिन्द्रनाथ की रथयात्रा गाहबाहल, मंगलबाजार, सुनधारा, लगनखेल, इटिटोल होते हुए ज्वालाखेल तक जाएगी । इसके साथ ही मच्छिन्द्रनाथ को  बुंगमती ले जाया जाएगा  इसके साथ ही यात्रा समाप्त हो जाएगी। किंवदंती के अनुसार, गोरखनाथ,  एक बार भिक्षा माँगने आए थे, तभी कांतिपुर के लोगों ने उन्हें भिक्षा नहीं दी थी, इसलिए उन्होंने पशुपति मृगस्थली में नवनाग का आसन बनाया ।
इसी प्रकार 12 वर्ष तक अकाल और वर्षा न होने के बाद  गोरखनाथ के गुरु मच्छिन्द्रनाथ को कांतिपुर लाया गया था । इसी तरह मान्यता है कि भक्तपुर के राजा नरेन्द्रदेव, काठमांडू के राजा बन्धुदत्त बज्राचार्य और किसान ललित चक्रधर मच्छिन्द्रनाथ को भारत के कामरुकामाक्ष से नेपाल लाए थे।

लाल चेहरे वाले रक्तवलोकेश्वर करुणामय, का स्थान काठमांडू घाटी में बहुत ऊंचा है। उन्हें लोकनाथ, रातो मछिंदरनाथ या मत्स्येंद्रनाथ, बुंगमालोकेश्वर, बुंगद्याह, आर्यावलोकितेश्वर, वृष्टिदेव आदि विभिन्न नामों से पुकारते हुए, घाटी के लोगों के लिए पूजा और तीर्थयात्राओं को श्रद्धा के साथ मनाने की परंपरा रही है।

करुणामय 32 भुजाओं वाले और 48 फीट ऊंचे रथ पर विराजमान हैं। मच्छिन्द्रनाथ का रथ 800 वर्ष में नरेन्द्रदेव के पुत्र राजा वरदेव ने बनवाया था। पूरे जात्रा काल में रथ को ललितपुर की सड़कों पर घुमाने की परंपरा है। इस त्यौहार पर आम लोग अपने रिश्तेदारों को बुलाकर दावत करके त्यौहार मनाते हैं।



About Author

यह भी पढें   सहकारी धोखाधड़ प्रकरण को लेकर कांग्रेस का सड़क प्रदर्शन
आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading...
%d bloggers like this: